प्रधानमंत्री मोदी का पुतला जलाया तो होगी जेल, सरकार ने जारी किए आदेश


काठमांडू (मानवी मीडिया): नेपाल में यदि भारत के प्रधानमंत्री मोदी का पुतला जलाया तो जेल जाना पड़ सकता है। नेपाल के गृह मंत्रालय ने जारी आदेश में कहा है कि बिना वजह भारत विरोधी प्रदर्शन करने और  प्रधानमंत्री मोदी पुतला जलाने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। बता दें, पिछले कई दिनों से नेपाल में एक नेपाली युवक की मौत के मसले पर विरोध प्रदर्शन हो रहा है। नेपाली युवक की मौत उत्तराखंड के बॉर्डर जिले पिथौरागढ़ से लगती काली नदी में गिरने से हुई थी।

प्रधानमंत्री मोदी का पुतला जलाया तो होगी जेल की सजा, सरकार ने जारी किया सख्त आदेश -  पर्दाफाश

रिपोर्ट के मुताबिक, धारचूला के गस्कू से नेपाली युवक अवैध तरीके से भारत में प्रवेश करने की कोशिश कर रहा था, और उसी दौरान 30 साल के जय सिंह धामी की हादसे में मौत हो गई थी।नेपाल में प्रदर्शन कर रहे लोगों ने एसएसबी पर आरोप लगाया था और कहा था कि काली नदी को पार करने के लिए जो तार लगाया गया था, उसे एसएसबी ने काट दिया था और उसी की वजह से हादसा हुआ था। हालांकि, एसएसबी ने इस आरोप को खारिज कर दिया है। लेकिन, नेपाल में सत्ताधारी कम्यूनिस्ट पार्टी के यूथ विंग के लोग प्रदर्शन कर रहे थे और उन्होंने भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का पुतला जलाया था, जिसके बाद नेपाल सरकार ने भारतीय प्रधानमंत्री के खिलाफ प्रदर्शन करने पर सख्ती दिखाया है।

प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन के बाद नेपाली गृहमंत्रालय ने शख्त आदेश देते हुए भारतीय प्रधानमंत्री के खिलाफ किसी भी तरह का प्रदर्शन करने वालों पर सख्त एक्शन लेने की बात कही है। नेपाली गृहमंत्रालय ने आदेश जारी करते हुए कहा कि ''पिछले कुछ दिनों से देखा जा रहा है कि नेपाल में भारत और भारतीय प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी की इमेज खराब करने की कोशिश की जा रही है, जो नाकाबिले बर्दाश्त है। नेपाली गृह मंत्रालय मानता है कि पीएम मोदी के खिलाफ प्रदर्शन करना और उनका पुतला जलाना, भारत के खिलाफ गहरा असम्मान है, लिहाजा ऐसे तत्वों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र