100 साल पुराने कर्जन ब्रिज पर नहीं जा सकेंगे क्षमता से अधिक लोग


प्रयागराज (मानवी मीडिया गुजरात के मोरबी में हुए पुल हादसे के बाद यूपी सरकार ने प्रदेश के सभी पुलों की जांच का आदेश दिया है। इसके अलावा प्रयागराज के कर्जन ब्रिज पर क्षमता से अधिक लोग नहीं जा सकेंगे। गंगा पर बने 100 साल से अधिक पुराने कर्जन ब्रिज पर क्षमता से अधिक लोग नहीं जा सकेंगे। ब्रिज पर निगरानी की जिम्मेदारी एसीएम और सीओ को सौंपी गई है। मोरबी में रविवार को केबिल ब्रिज हादसे के बाद जिलाधिकारी संजय कुमार खत्री ने कर्जन ब्रिज सहित सभी पुलों की निगरानी बढ़ाने के साथ सर्वे का निर्देश दिया है।

गौरतलब है कि कर्जन ब्रिज वाहनों के लिए बंद हो चुका है। फिर भी ब्रिज पर टू व्हीवर चलते हैं। इस ब्रिज पर सुबह-शाम एक्सरसाइज करने वालों की भीड़ होती है। युवाओं के बीच यह ब्रिज आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। कुम्भ 2025 में ब्रिज पर म्यूजियम बनाने का प्रस्ताव है। ब्रिज पर भीड़ अधिक न होने देने के लिए एसीएम और सीओ को निगरानी की जिम्मेदारी दी गई। यमुना पर नए और पुराने पुल, फाफामऊ-तेलियरगंज को जोड़ने वाले आजाद सेतु झूंसी-दारागंज के बीच शास्त्री ब्रिज के अलावा हंडिया-कोखराज को जोड़ने वाले गंगा पर ब्रिज की निगरानी बढ़ाने के साथ सर्वे करना होगा। 

एनएचएई नए यमुना पुल और बाईपास के ब्रिज का सर्वे करेगी। इसके अलावा सेतु निगम आजाद सेतु, शास्त्री ब्रिज का सर्वे करेंगे। सभी ब्रिजों की सर्वे रिपोर्ट जिलाधिकारी को देनी होगी। माना जा रहा है कि मोरबी हादसे के बाद यूपी सरकार एहतियातन अपने सभी पुलों की दोबारा जांच कर लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित करना चाहती है।

Previous Post Next Post