पीएम मोदी का विपक्ष पर हमला ; देश में हो रहा नया ध्रुवीकरण, भ्रष्टाचारियों को बचाने के लिए एकजुट


कोच्चि (मानवी मीडिया
प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्षी दलों पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचारियों पर कड़ी कार्रवाई राष्ट्रीय राजनीति में एक नया ध्रुवीकरण कर रही है। कुछ राजनीतिक दल खुलेआम भ्रष्टाचारियों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं। पीएम मोदी दो दिन के दौरे पर केरल पहुंचे हैं। एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार ही देश के विकास में सबसे बड़ी बाधा है। 

प्रधानमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय राजनीति में नया ध्रुवीकरण हुआ है।  देश के लोग यह सब देख रहे हैं और इसके गवाह हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में लोग भाजपा की ओर नई उम्मीदों के साथ देख रहे हैं। उन्हें इस बात का अहसास हो गया है कि भाजपा ही देश और राज्य में बदलाव ला सकती है। 

लालकिले से भी किया था भ्रष्टाचार पर वार
स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने लालकिले से भी भ्रष्टाचार पर वार किया था। उन्होंने कहा था कि भारत में  जहां एक तरफ लोगों के पास रहने के लिए घर नहीं हैं वहीं दूसरी तरफ लोगों के पास चोरी का पैसा रखने की जगह नहीं है। यह स्थिति बहुत ही बुरी है। उन्होंने कहा था कि सरकार भ्रष्टाचार के खिलाफ पूरी ताकत से लड़ेगी। 

किधर है मोदी का इशारा?
अपने भाषण के दौरान प्रधानमंत्री ने किसी राजनीतिक दल या व्यक्ति का नाम नहीं लिया। हालांकि साफ है कि उनका इशारा कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस की तरफ था। हाल ही में टीएमसी के पार्थ चटर्जी और अनुब्रत मंडल भ्रष्टाचारा के आरोपों के चलते जेल चले गए हैं। वहीं ममता बनर्जी लगातार एजेंसियों के दुरुपयोग का आरोप लगा रही हैं। हाल ही में राहुल गांधी और सोनिया गांधी को भी ईडी ने पूछताछ के लिए बुलाया था जिसके बाद कांग्रेस नेता सड़क पर उतर आए थे। 

बता दें कि केरल विधानसभा चुनाव में भाजपा एक भी सीट नहीं जीत पाई थी। लोकसभा चुनाव में पकड़ मजबूत करने का भरसक प्रयास भाजपा कर रही है। यह वर्तमान में लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट की सरकार है। वहीं कांग्रेस के अगुआई वालागठबंधन भी सत्ता से बाहर है। भाजपा कोई सीट भले ही नहीं जीत पाई थी लेकिन उसका वोट पर्सेंट बढ़ गया था। इसका मतलब है कि केरल में भी भाजपा का जनाधार बढ़ा है। 2016 के चुनाव में कई सीटें थीं जिनपर भाजपा के प्रत्याशी दूसरे नंबर पर थे। 

मोदी ने कहा, सरकार की प्राथमिकता है कि लोगों को मूलभूत वस्तुएं उपलब्ध करवाई जाएं और आधुनिक इन्फ्रास्ट्रक्चर विकसित किया जाए। केंद्र की सरकार गरीबों को घर देने का प्रयास कर रही है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत केरल में दो लाख लोगों को आवास दिया जाना है जिनमें से 1.3 लाख पूरा हो चुका है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने केरल में कई परियोजनाओं के लिए 1 लाख करोड़ रुपये  खर्च कर रही है। लक्ष्य यह है कि हर जिले में एक मेडिकल कॉलेज खोला जाए जिससे युवाओं को लाभ मिले।

Previous Post Next Post