IAS अवनीश कुमार अवस्थी, सेवाविस्तार या सेवानिवृत्त सस्पेंस बरकरार!

लखनऊ (मानवी मीडिया)उ0प्र0 सरकार में सबसे ताकतवर अफसर में शुमार अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी के सेवा विस्तार को लेकर अटकले थमने का नाम नहीं ले रही हैं। सत्ता के गलियारे में जहां कुछ लोग उनके सेवाविस्तार को लेकर चर्चा कर रहे हैं तो वहीं कुछ ऐसे भी लोग हैं जो उनके सेवाविस्तार न मिलने की खबर को लेकर चर्चा कर रहे हैं। ऐसे में इस समय शासन में चर्चाओं का बाजार गर्म है।

बता दे कि अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी 31 अगस्त को रिटायर हो रहे हैं। वहीं सत्ता के गलियारे में उनके सेवा विस्तार की भी अटकलें हैं। लेकिन, अभी तक केंद्र से इसे लेकर कोई पत्राचार प्रदेश सरकार से नहीं किया गया है। इस वजह से सेवा विस्तार की संभावना भी कम बताई जा रही है। ऐसे में अब दो दिन बाद गृह विभाग का मुखिया कौन रहेगा इसको लेकर सस्पेंस बरकरार है। वहीं सत्ता से जुड़े करीबियों में चर्चा है कि मौजूदा अपर मुख्य सचिव गृह को एक वर्ष के सेवा विस्तार देने की प्रक्रिया शुरू की गई थी, लेकिन शीर्ष स्तर पर इस पर सहमति नहीं बन सकी। जिसके बाद अब तीन महीने के सेवा विस्तार के कयास लगाए जा रहे हैं। पर अंतिम निर्णय केंद्र से होना है, इसलिए हर कोई इस तरफ टकटकी लगाये हुये है कि आखिर अंतिम रिजल्ट क्या होगा, सेवाविस्तार या फिर सेवानिवृत्त। वहीं अगर श्री अवस्थी को सेवा विस्तार नहीं मिला तो गृह विभाग का अगला मुखिया कौन होगा, इसको लेकर भी चर्चाओं का बाजार खासा गर्म है। सत्ता के गलियारों में यह भी चर्चा है कि अगर श्री अवस्थी सेवानिवृत्त होते है तो उनकी जगह बेसिक शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव दीपक कुमार, सूचना विभाग के प्रमुख सचिव संजय प्रसाद और नगर विकास के प्रमुख सचिव अमृत अभिजात में से किसी एक को गृह विभाग की कमान सौंपी जा सकती है। बहराल इस सस्पेंस से पर्दा 31 अगस्त या एक सितंबर तक ही उठ पायेगा।

मौजूदा अपर मुख्य सचिव गृह के पास है बड़ी जिम्मेदारियां

अवनीश कुमार अवस्थी 1987 बैच के आईएएस अधिकारी हैं। इनकी गिनती मुख्यमंत्री के सबसे करीबी अफसरों में होती है। बीते साल 2017 में जब योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने तो केंद्र से लौटे अवस्थी को एसीएस सूचना के साथ-साथ पर्यटन विभाग और यूपीडा व उपसा की जिम्मेदारी सौंपी गई। इसके बाद 31 जुलाई 2019 को अवस्थी को गृह विभाग की भी जिम्मेदारी सौंप दी गई। मौजूदा समय में उनके  पास गृह विभाग के अलावा यूपीडा व उपसा के सीईओ, ऊर्जा, कारागार एवं सुधार प्रशासन, गोपन, सतर्कता, वीजा पासपोर्ट, धर्मार्थ कार्य के अपर मुख्य सचिव और डीजी जेल का भी चार्ज है।

Previous Post Next Post