लखनऊ नगर निगम मुख्यालय के सामने लगी कल्याण सिंह की भव्य प्रतिमा का अनावरण रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किया

 

लखनऊ (मानवी मीडिया)लखनऊ महापौर संयुक्ता भाटिया द्वारा लखनऊ नगर निगम परिसर में मुख्यालय के सामने लगी कल्याण सिंह जी की भव्य प्रतिमा का अनावरण रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किया

*पिछली अन्य सरकारों में जहां इज़ ऑफ डूइंग क्राइम था तो कल्याण सिंह  की सरकार में इज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस था - राजनाथ सिंह

 *राम मन्दिर निर्माण के लिए यदि ऐसी 100 सरकारें भी गिरानी पड़े तो मैं तैयार हूं - कल्याण सिंह

*सिंहासन छोड़ा पर वचन निभाया। उस कल्याण को पीढ़ियां याद रखेगी - महापौर

आज दिनाँक 28/08/2022 को लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया द्वारा लालबाग के त्रिलोकीनाथ रोड स्थित नगर निगम में स्थापित उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और पूर्व राज्यपाल  कल्याण सिंह जी की प्रतिमा का अनावरण देश के रक्षामंत्री और लखनऊ के सांसद  राजनाथ सिंह ने कर जनता को समर्पित किया।

इस मौके पर महापौर संयुक्ता भाटिया ने रक्षामंत्री को पुष्पगुच्छ और लक्ष्मण जी की प्रतिमा भेंट कर उनका स्वागत किया। तत्पश्चात नगर निगम के पार्षदों और कर्मचारी संगठनों ने भी रक्षामंत्री का स्वागत और अभिवादन किया।  

नगर निगम पहुँचे रक्षामंत्री  ने कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहीं महापौर संयुक्ता भाटिया, उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक, शिक्षा मंत्री और स्वर्गीय कल्याण सिंह के पौत्र संदीप सिंह, महानगर अध्यक्ष विधान परिषद सदस्य मुकेश शर्मा संग हिंदू हृदय सम्राट स्व कल्याण सिंह जी की प्रतिमा का अनावरण किया गया।

शिक्षा के क्षेत्र में बहुत महत्वपूर्ण कार्य कल्याण सिंह जी ने किया। मैं शिक्षा मंत्री था, दो बार नकल अध्यादेश प्रस्ताव पास नहीं हो पाया तो मैं उनसे मिलकर बताया और उन्होंने अगले सदन में ही सर्वप्रथम इसपर चर्चा करते हुए पारित भी कराया। वह दृण इक्षाशक्ति के धनी थे।

 *राष्ट्रीय कार्यकारिणी एवं राष्ट्रीय परिषद* की बैठक में वह एकलौते मुख्यमंत्री थे जिनको *सबसे अधिक महत्व मिलता था।* राष्ट्रीय स्तर पर उनकी साख थी। *कानून व्यवस्था पर जिस प्रकार उन्होंने कामयाबी हासिल की उसकी चर्चा पूरे देश में होती थी।*

*कानून व्यवस्था या तो कल्याण सिंह के शासनकाल में दुरुस्त थी या फिर वर्तमान की योगी आदित्यनाथ की सरकार में है।*

उस समय भी   कल्याण सिंह की सरकार के कानून व्यवस्था की चर्चा अन्य राज्यों में होती थी उसी प्रकार आज योगी आदित्यनाथ की सरकार के कानून व्यवस्था की चर्चा पूरे देश मे होती है।*

राम जन्मभूमि आंदोलन में उनकी क्या भूमिका थी यह हम सभी नागरिक भली भांति जानते है।

जब बाबरी विध्वंस हुआ तब मैं उनके आवास पर गया और कहा कि ढांचा गिर चुका है, हो सकता हमारी सरकार भी अब गिर जाए, तब उन्होंने कहा कि *राम मन्दिर निर्माण के लिए यदि ऐसी 100 सरकारें भी गिरानी पड़े तो मैं तैयार हूं।*

पिछली अन्य सरकारों में जहां *इज़ ऑफ डूइंग क्राइम* था तो कल्याण सिंह जी की सरकार में  *इज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस* था ठीक उसी प्रकार आज योगी जी की सरकार में भी इज़ ऑफ डूइंग बिज़नेस है और क्राइम करने वालों के खिलाफ बुलडोजर।

गावँ, गरीब, किसान की चिंता करने वाले मुख्यमंत्री थे कल्याण सिंह। कार्यकताओं से बहुत ही सहजता से बात करते थे। कोई कार्यकर्ता कभी यह महसूस नही करता था कि वह इतने बड़े राजनीतिक व्यक्ति है। उनकी स्मृतियों की जितनी भी चर्चा की जाए कम है।

*रक्षामंत्री ने महापौर संयुक्ता भाटिया का आभार जताते हुए कहा कि मैं महापौर संयुक्ता भाटिया और उनकी पूरी टीम को बधाई देना चाहूंगा जिन्होंने आज इस कार्य को अंजाम दिया।

नगर निगम लखनऊ के इतिहास में देश के पहले रक्षामंत्री इस नाते नगर निगम परिसर में आने पर निगम की महिला कर्मचारियों द्वारा पुष्पवर्षा कर रक्षामंत्री का स्वागत और अभिवादन किया गया।

*इस मौके पर महापौर संयुक्ता भाटिया ने कहा कि राजनीति में सत्ता का महात्याग कर अपना आदर्श प्रस्तुत करने वाले श्रद्धेय कल्याण सिंह जी की प्रतिमा स्थापित करने के लिए राजनीति की नर्सरी कहीं जानें वाली नगर पालिका, नगर निगम के समक्ष स्थान से उचित और कोई स्थान नहीं हो सकता, इसलिए यह निर्णय लिया गया है ताकि यहां पर तैयार होने वाले भविष्य के नेता उसने सुशासन की प्रेरणा लेकर आगे बढ़ सकें।*

महापौर ने कहा *कि अंत्योदय बाबू जी की सरकार का प्रमुख स्तंभ था, पूरा जीवन जन कल्याण के लिए लगा देने वाले प्रभु श्री राम के अनन्य भक्त, हिंदू हृदय सम्राट श्रद्धेय कल्याण सिंह जी की भव्य प्रतिमा इस नाते भी आज नगर निगम मुख्यालय के सामने स्थापित की जा रही है।

महापौर ने आगे कहा कि उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं पूर्व राज्यपाल श्रद्धेय कल्याण सिंह जी भारतीय राजनीति में वह पुरोधा थे जिन्हें इतिहास कभी नही भूल सकता। *सिंहासन छोड़ा पर वचन निभाया। उस कल्याण को पीढ़ियां याद रखेगी।* श्रद्धेय कल्याण सिंह जी हमेशा कहते थे *"सत्ता धमक व इकबाल से चलती है"* इससे सिस्टम कोलैप्स नही होता। सत्ता के दौरान उनके फैसले स्पष्ट और निडर होते थे। *राजनीति में सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण होती है सत्ता और सत्ता में मुख्यमंत्री होना, ऐसे में उन्होंने श्री राम मंदिर निर्माण हेतु जनजन की भावनाओं के लिए सत्ता का त्याग कर दिया था।* 

महापौर ने कहा कि *आज अगर अयोध्या जी में भव्य राम मंदिर बन रहा है तो उसमें नींव की ईट भगवान श्रीराम लला के परम् भक्त श्रद्धेय कल्याण सिंह जी की ही लगी है।

इस मौके पर महापौर संयुक्ता भाटिया ने पूर्व मुख्यमंत्री *श्रद्धेय कल्याण सिंह जी को समर्पित* करते हुए एक वार्ड का नाम *"कल्याण सिंह वार्ड"* रखने की घोषणा की।

*महापौर ने बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह की कांसे की बनी प्रतिमा 12 फिट ऊंची है साथ ही इसका पेडस्टल भी 8 फिट ऊंचा है। कुल मिलाकर 20 फिट ऊंची भव्य प्रतिमा स्थापित की गई हैं।*

मीडिया प्रभारी प्रवीण गर्ग ने बताया कि कार्यक्रम में मुख्य रूप से  उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक, महापौर संयुक्ता भाटिया, मंत्री संदीप सिंह, महानगर अध्यक्ष विधान परिषद सदस्य मुकेश शर्मा,

विधायक आशुतोष टण्डन, विधायक योगेश शुक्ला, विधायक नीरज बोरा,  विधान परिषद सदस्य महेन्द्र सिंह, मध्य विधानसभा के उपविजेता रजनीश गुप्ता, पार्षद कौशलेंद्र द्विवेदी, पार्षद विजय गुप्ता, पार्षद सुधीर मिश्र, पार्षद प्रदीप शुक्ल, पार्षद रुपाली गुप्ता सहित समस्त पार्षद गण, कार्यकर्ता, नगर निगम के अधिकारी गण, कर्मचारी संघ, सफाई कर्मी सहित बड़ी संख्या में आम जन मौजूद रहे।

Previous Post Next Post