दर्जनों कम्पनियों की आड में अरबों रूपये की ठगी करने वाले गिरोह के मास्टरमाइंड सहित 10 अभियुक्त नोएडा से गिरफ्तार।

लखनऊ (मानवी मीडिया) एस0टी0एफ0, उत्तर प्रदेश को VOIP Calling  का फिजिकल/क्लाउड सर्वर लगाकर, डायलर/DID के माध्यम से विदेशों (अमेरिका, कानाडा, शिकागो, कैलीफोर्निया, लेबनन, हांगकांग, ब्रिटेन  आदि) में TFN/IBR Call/Email Blasting/Popup  व टिकर आदि के माध्यम से Cubedialer का प्रयोग कर रिफंड व टेक सपोर्ट के नाम पर कम्प्युटर/लैपटाप को रिमोट पर लेकर दर्जनों कम्पनियों की आड में अरबों रूपये की ठगी करने वाले संगठित गिरोह के मास्टरमाइंड सहित 10 अभियुक्तों को नोएडा से गिरफ्तार करने मंे उल्लेखनीय सफलता प्राप्त हुई।

गिरफ्तार अभियुक्तों का विवरणः-

1- करन मोहन पुत्र स्व0 चन्द्र मोहन निवासी एफ 119 सेक्टर 44 नोएडा। (डायरेक्टर)

2- विनोद सिंह पुत्र श्री विजय बहादुर सिंह निवासी हाल मुकाम 73 सी एमआईजी फ्लैट  न्यूकोन्डली मयूर बिहार फेज-3 दिल्ली मूल पता ग्राम पकवान गॉव थाना उमरी बेगमगंज जनपद गोण्डा। ( डायरेक्टर)

3- ध्रुव नारंग पुत्र विजय नारंग निवासी फ्लैट नं0 602 टेनिसी टावर द फारेस्ट ओमैक्स सेक्टर 92 नोएडा। ( फेक कस्टमर सपोर्ट हेड इंटरनेशनल काल सेंटर)

4- मयंक गोगिया पुत्र स्व0 ओमप्रकाश गोगिया निवासी डी-29 सेक्टर 49 नोएडा।      ( VOIP Call  वेंडर) 

5- अक्षय मलिक उर्फ हरेन्द्र मलिक निवासी 439 सेक्टर 15 ए नोएडा। ( विदेशों से पेमेंटगेटवे व हवाला के माध्यम से रूपये उपलब्ध कराने वाला वेडर, पूर्व मे अमेरिका मे रहता था 03 वर्षो से भारत में रह रहा है।)

6- दीपक सिंह पुत्र स्व0 परमानन्द सिंह निवासी मकान नं0 405 तृतीय तल सिसिल टावर गढी चौखडी नोएडा। ( एमआईएस हेड)

7- आहूजा पोडवाल पुत्र दिलीप कुमार यादव निवासी फ्लैट नम्बर-1901, हेबिटेक अपार्टमेण्ट गौर सिटी ग्रेटर नोएडा। (इंटरनेशनल कालसेंटर सुपरवाइजर)

8- अक्षय शर्मा, पुत्र शिव कुमार शर्मा निवासी 431 ए गली नम्बर 01 गणेश नगर सेकेण्ड, सकरपुर दिल्ली। (इंटरनेशनल कालसेंटर सुपरवाइजर)

9- जयंत  सिंह पुत्र ध्रुव कुमार सिह निवासी फ्लैट नं0 1901, हेबिटेक अपार्टमेण्ट गौर सिटी ग्रेटर नोएडा। (इंटरनेशनल कालसेंटर सुपरवाइजर)

10- मुकुल रावत पुत्र विरेन्द्र सिंह रावत निवासी एच-178 सेक्टर 22 नोएडा। (इंटरनेशनल कालसेंटर सुपरवाइजर)

बरामदगी-

1- 12 अदद मोबाइल फोन।

2- 76 अदद डेक्सटाप।

3- 81 अदद सीपीयू।

4- 56 अदद Voip डायलर।

5- 37 अदद क्रेडिट/डेविट कार्ड।

6- 06 अदद आधार कार्ड।

7- 04 अदद पैन कार्ड ।

8- 07 अदद डी0एल0।

9- 06 अदद आईडी प्रेस कार्ड।

10- 07 अदद लैपटाप।

11- 01 अदद आईपैड।

12- 01 अदद चेक लीफ।

13- 06 अदद अंगूठी पीली धातु।

14- 04 अदद चेन पीली धातु।

15- 01 अदद चेन सफेद धातु।

16- 01 अदद कडा सफेद धातु।

17- 04 अदद चारपहिया वाहन। 

18- 01 अदद मोटर साइकिल

17-  32470 रूपये नकद।

गिरफ्तारी का दिनांक, स्थान व समयः-

दिनांकः 15-07-2022 स्थानः बी-36 सेक्टर 59 नोयडा समयः  15ः15 बजे।

एस0टी0एफ0, उत्तर प्रदेश को विगत काफी समय से VOIP Calling  का फिजिकल/क्लाउड सर्वर लगाकर, डायलर/DID के माध्यम से विदेशों (अमेरिका, कानाडा, शिकागो, कैलीफोर्निया, लेबनन, हांगकांग, ब्रिटेन  आदि) में TFN/IBR Call/Email Blasting/Popup  व टिकर आदि के माध्यम से Cubedialer का प्रयोग कर रिफंड व टेक सपोर्ट के नाम पर कम्प्युटर/लैपटाप को रिमोट पर लेकर दर्जनों कम्पनियों की आड में अरबों रूपये की ठगी करने वाले संगठित गिरोह के सक्रिय होने की सचूनाएं प्राप्त हो रही थी। इस सम्बन्ध में एसटीएफ उ0प्र0 की विभिन्न टीमांे/इकाईयों को आवश्यक कार्यवाही हेतु निर्देशित किया गया था। जिसके क्रम में विशाल विक्रम सिंह प्रभारी वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, एस0टी0एफ0, उ0प्र0 के पर्यवेक्षण मे एस0टी0एफ0 मुख्यालय स्थित साइबर टीम द्वारा अभिसूचना संकलन की कार्यवाही प्रारम्भ की गयी तथा अभिसचूना तन्त्र को सक्रिय किया गया।  

अभिसूचनासंकलन के दौरान ज्ञात हुआ कि VOIP Calling  का फिजिकल/क्लाउड सर्वर लगाकर, डायलर/DID के माध्यम से विदेशों (अमेरिका, कानाडा, शिकागो, कैलीफोर्निया, लेबनन, हांगकांग, ब्रिटेन  आदि) में TFN/IBR Call/Email Blasting/Popup व टिकर आदि के माध्यम से Cubedialerका प्रयोग कर रिफंड व टेक सपोर्ट के नाम पर कम्प्युटर/लैपटाप को रिमोट पर लेकर दर्जनों कम्पनियों की आड में अरबों रूपये की ठगी की जा रही है। 

साइबर टीम एसटीएफ द्वारा उप निरीक्षक श्री पकंज सिंह के नेतृत्व में उपरोक्त प्रकरण पर तकनीकी एवं मुखबिर के माध्यम से सूचना संकलित करते हुए दिनांक 14-07-2022 को साइबर टीम एस0टी0एफ0 मुख्यालय लखनऊ, एस0टी0एफ0 नोएडा की संयुक्त टीम द्वारा बी 36 सेक्टर 59 नोएडा पर दबिस देकर तकनीकि माध्यम से जांच करते हुए आज दिनांक 15-07-2022 को   एक फर्जी इंटरनेशनल काल सेंटर (लगभग 50 कालरों का)  का भांडाफोड कर  उपरोक्त संगठित गिरोह के मास्टरमाइंड सहित उपरोक्त अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया, जिनसे उपरोक्त बरामदगी हुई। 

पूछताछ मे गिरोह के मास्टरमाइंड करन मोहन व विनोद सिंह द्वारा बताया गया कि हमारे अतिरिक्त, धु्रव नारगं, मयंक गोगिया, अक्षय मलिक, धीरज कटारिया, शेर सिंह, अविनाश, सावन, विपिन झा, मोहित वंशल, गौरव मलिक, तुषार व तोहीन का एक संगठित गिरोह है। हम लोगों द्वारा फर्जी व कूटरचित दस्तावेज के माध्यम से  Vmak Research And Services Private Limited, Vmak Electricals Private Limited, DMV Marketing & Research Llp, DMV Marketing & Research LLP, VMAK ELECTRICALS PRIVATE LIMITED, MAX VALUE PLUS CAPITAL PRIVATE LIMITED, AMPG TECHNOLOGY PRIVATE LIMITED  आदि विभिन्न कम्पनियांें की आड में फर्जी कालसेन्टर खोला गया है। इस कालसेंटर के माध्यम से हम अमेरिका, कनाडा, लेबनान, कैलीफोर्नियों, शिकागों, दुबई आदि देशों में रहने वाले विदेश्ी व्यक्तियों का सर्वर के माध्यम से आईपी फोन,/सिस्टम/के माध्यम से वी0ओ0आई0पी0 काल, डीआईडी व क्यूब डायलर साफ्टवेयर का प्रयोग कर आउटबांड काल, पापप, ई-मेल ब्लास्टिंग, टिकर के माध्य से इन बाउन्ड काल प्राप्त कर उनके सिस्टम का एनीडेस्क/टीमबीवर/अल्टावीवर के माध्यम से एक्सेस लेकर टेक सपोर्ट व रिफड के नाम पर व टैक्स के नाम पर डरा कर ठगी करते है। हम लोग trebelsteth.com, ascendcomputersolution.com  वेबसाइट व पेमेन्ट गेटवे के माध्यम से विदेशों मे खोलेे गये फर्जी बैंक खातों, पेमेंट गेटवे, गिफ्टकार्ड, डेविट/क्रेडिट कार्ड की डिटेल लेकर सिस्टम को रिमोट पर लकर रूपये ट्रान्सफर कर लेते है। हम लोगों का रूपया पेमेंट गेटवे, विदेशी बैंकों (बायर के माध्यम से ) गिफ्ट कार्डों के माध्यम से USDT में आता हैं, जो किराये पर लिये जातें हैं व विभिन्न लोगों के नाम पर विदेशों में होते हैं। इसके बाद बैंकर व गेटवे वाले अपना कमीशन काटकर इंडिया में हवाला के माध्यम से रूपये कैश व  कभी कभी हमारी कम्पनियों के बैंक खातों मे INR में देते हैं।

गिरोह के अन्य सदस्यों की गतिविधियों व उनके द्वारा की गयी धोखधडी के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त कर उनकी गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे हैं। बरामद इलेक्ट्रानिक उपकारणों की फारेंसिक परीक्षण कराया जायेगा। अबतक प्राप्त बैंक स्टेटमेंट के विश्लेषण  के अनुसार इस गिरोह द्वारा लगभग 170 करोड रूपये की ठगी की जा चुकी है। गिरोह के अन्य बैंक खातों के सम्बन्ध मे जानकारी प्राप्त कर बैंक खातों को फ्रीज कराने व बैंकरों के विरूद्व विधिक कार्यवाही की जायेगी। कम्पनियों के ट्रांजक्शन के सम्बन्ध मे साक्ष्य संकलन किया जा रहा है।

उपरोक्त गिरफ्तार अभियुक्तों को थाना सेक्टर 58 पुलिस कमिश्नरेट गौतमबुद्व नगर में मु0अ0स0 309/2022 धारा 419, 420, 467, 468, 471 भा0द0वि0 व 66 डी सूचना प्रोद्यौगिकी अधि0 का अभियोग पंजीकृत कराकर दाखिल किया गया अग्रेतर विधिक कार्यवाही स्थानीय पुलिस द्वारा की जा रही है।

Previous Post Next Post