जल्दी घोषित हो रहे हैं CBSE 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं के नतीजे

 

नई दिल्ली (मानवी मीडिया): केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी सीबीएसई को 10वीं और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा का रिजल्ट जारी करना है। बोर्ड की इन दोनों ही कक्षाओं का रिजल्ट अब अगले महीने जुलाई में जारी किया जाएगा। सीबीएसई बोर्ड के मुताबिक जुलाई के पहले सप्ताह में दसवीं कक्षा का रिजल्ट घोषित करने की तैयारी है। इसके बाद 12वीं कक्षा का रिजल्ट जारी किया जाएगा। बोर्ड अधिकारियों का कहना है कि 12वीं कक्षा का रिजल्ट कॉलेजों में दाखिले के लिए होने वाली कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट यानी सीयूटीईटी की परीक्षा से पहले जारी कर दिया जाएगा।

सीयूटीईटी की परीक्षा 15 जुलाई से शुरू होने जा रही है। सीबीएसई बोर्ड का प्रयास है कि इन परीक्षाओं से पहले 10 जुलाई तक 12वीं कक्षा का रिजल्ट घोषित कर दिया जाए। सीबीएसई द्वारा इस वर्ष बोर्ड की परीक्षाएं दो अलग-अलग चरणों में ली जा गई हैं। पहला चरण पिछले वर्ष नवंबर-दिसंबर माह के दौरान आयोजित किया गया था। शेष 50 प्रतिशत सिलेबस के लिए देशभर में सीबीएसई की बोर्ड परीक्षाओं का दूसरा चरण वर्ष 26 अप्रैल से शुरू हुआ था।

सीबीएसई की 10वीं की परीक्षाएं 26 अप्रैल से 24 मई और 12वीं कक्षा के लिए सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाएं 15 जून तक जारी रहीं। वहीं कॉमन यूनिवर्सिटी एंट्रेंस टेस्ट, यानी सीयूईटी 15 जुलाई से आयोजित की जाएगी। देशभर के सभी केंद्रीय विश्वविद्यालयों समेत कुल 85 विश्वविद्यालयों में अंडर ग्रेजुएट पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए यह परीक्षा ली जानी है। यह टेस्ट अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर होगा, क्योंकि भारत के बाहर के विश्व के 13 विभिन्न शहर भी इस परीक्षा का हिस्सा होंगे। कुल 13 विदेशी और 554 भारतीय शहरों में यह परीक्षा आयोजित की जाएगी। 85 भारतीय भारतीय विश्वविद्यालय इस प्रक्रिया के माध्यम से अंडर ग्रजुऐट पाठ्यक्रमों में छात्रों को दाखिला प्रदान करेंगे।

यह परीक्षा नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) द्वारा ली जा रही है। परीक्षा 15, 16, 19, 20 जुलाई और 4 से 10 अगस्त तक चलेगी। 17 जुलाई को नीट यूजी की परीक्षा होने के कारण सीयूईटी नहीं है। इसी तरह 21 जुलाई से 3 अगस्त तक जेईई मेन परीक्षा है इसलिए इस बीच भी सीयूईटी नहीं है।

सीयूईटी के माध्यम से ही दिल्ली विश्वविद्यालय, जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालयबनारस हिंदू विश्वविद्यालय जैसे बड़े केंद्रीय विश्वविद्यालयों में दाखिला होगा। इसके अलावा जामिया मिलिया इस्लामिया जैसे आने केंद्रीय विश्वविद्यालयों ने भी कई पाठ्यक्रमों में दाखिला ही सीयूईटी के माध्यम से ही देने का निर्णय लिया है।

Previous Post Next Post