चीन ने फिर दिया आतंकियों का साथ : आतंकी घोषित करने पर लगाया अड़ंगा


नई दिल्ली (मानवी मीडिया
चीन ने पाकिस्तान स्थित आंतकवादी अब्दुल रहमान मक्की को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में ग्आलोबल तंकी नामित करने के प्रस्ताव को रोक दिया है। मक्की को आतंकी घोषित करने के लिए 1267 इस्लामिक स्टेट और अल कायदा प्रतिबंध समिति के तहत प्रस्ताव रखा गया था। रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन ने इस प्रस्ताव को अंतिम क्षण में बाधित कर दिया। मक्की, लश्कर-ए-तैयबा के सरगना और 26/11 मुंबई हमलों के मुख्य साजिशकर्ता हाफिज सईद का रिश्तेदार है।

कौन है अब्दुल रहमान मक्की?

मक्की लश्कर-ए-तैयबा के टॉप नेताओं में से है। अमेरिका ने मक्की को आतंकी घोषित कर रखा है और उस पर 2 मिलियन डॉलर का इनाम रखा हुआ है। मक्की पाकिस्तान में भारत विरोधी भाषण देने के लिए मशहूर है। मक्की कई आतंकी संगठनों से जुड़ा रहा है और युवाओं को आतंक के रास्ते पर लाने के लिए जाना जाता है। माना जाता है कि मक्की का तालिबान नेता मुल्ला उमर और अल कायदा के अयमान अल-जवाहिरी से बेहद करीबी संबंध है।

2017 में अब्दुल रहमान मक्की के बेटे ओवैद रहमान मक्की को जम्मू और कश्मीर में भारतीय सुरक्षा बलों ने एक ऑपरेशन में मार दिया था।

मसूद अजहर के वक्त भी चीन ने ऐसा किया था

चीन ने इससे पहले भी भारत और अन्य देशों द्वारा पाकिस्तानी आतंकवादियों को सूचीबद्ध करने की कोशिशों पर अड़ंगा लगाया है। भारत ने मई 2019 में संयुक्त राष्ट्र में एक बड़ी राजनयिक जीत हासिल की थी जब पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर को 'वैश्विक आतंकवादी' घोषित किया गया था। चीन ने मसूद अजहर को भी 'वैश्विक आतंकवादी' घोषित करने की प्रक्रिया में बाधा पहुंचाई थी।

Previous Post Next Post