योगी ने काकोरी शहीद स्मारक में क्रान्तिकारियों की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की

 मुख्यमंत्री योगी ने काकोरी शहीद स्मारक में काकोरी ट्रेन एक्शन के

क्रान्तिकारियों की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की

काकोरी ट्रेन एक्शन के वीर शहीदों के परिजनों एवं कारगिल युद्ध

में शहीद हुए कैप्टन मनोज पाण्डेय के परिजनों को सम्मानित किया

प्रधानमंत्री  की प्रेरणा से हम सभी आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे: मुख्यमंत्री

यह वर्ष चैरी-चैरा की ऐतिहासिक घटना का शताब्दी वर्ष

प्रदेश सरकार के सभी जनकल्याणकारी कार्यों में देश की स्वतंत्रता के

लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले अमर वीरों की प्रेरणा जुड़ी हुई

प्रधानमंत्री  के नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में देश तेजी के

साथ दुनिया की एक महाशक्ति बनने की ओर अग्रसर

प्रदेश सरकार जनकल्याण के लिए पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही

काकोरी क्षेत्र के बगल से रिंग रोड का निर्माण कराया जा रहा जो यहां के

विकास को एक नई ऊंचाई प्रदान करेगी, रोजगार सृजन का माध्यम बनेगी

नए भारत का नया उ0प्र0 लगातार आत्मनिर्भरता की ओर अग्रसर

प्रदेश सरकार मिशन शक्ति के माध्यम से महिलाओं व

बेटियों की सुरक्षा, सम्मान एवं स्वावलम्बन में वृद्धि कर रही

युवाओं को रोजगार प्रदान करने एवं उन्हें सामथ्र्यवान

बनाने के लिए प्रदेश सरकार कृतसंकल्पित

लखनऊ: (मानवी मीडिया)उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने आज यहां काकोरी शहीद स्मारक में काकोरी ट्रेन एक्शन के क्रान्तिकारियों की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर अपनी विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने काकोरी ट्रेन एक्शन के वीर शहीदों के परिजनों एवं कारगिल युद्ध में शहीद हुए कैप्टन मनोज पाण्डेय के परिजनों को सम्मानित भी किया।

मुख्यमंत्री  ने इस अवसर पर आयोजित शहीदों के परिजनों का सम्मान कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार लोगों के कल्याण के लिए पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है। इसी का परिणाम है कि काकोरी क्षेत्र के बगल से रिंग रोड का निर्माण कराया जा रहा है। यह रिंग रोड इस क्षेत्र के विकास को एक नई ऊंचाई प्रदान करेगी। साथ ही, रोजगार सृजन का माध्यम भी बनेगी।

मुख्यमंत्री  ने कहा कि देश आजादी के अमृत महोत्सव वर्ष में प्रवेश कर चुका है। प्रधानमंत्री जी की प्रेरणा से हम सभी आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं। यह अमृत महोत्सव हमें आत्मावलोकन का अवसर प्रदान कर रहा है। हम सभी को प्रधानमंत्री जी के पंच मंत्र का अनुपालन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि क्रान्तिकारियों के विचारों, देश की ऊर्जा, लोगों के कल्याण, देश को दुनिया की महाशक्ति बनाने एवं देश को आत्मनिर्भर बनाने का अमृत महोत्सव होना चाहिए। आजादी के अमृत काल में देश हित मंे कार्य करने से भारत माता के महान सपूतों एवं बलिदानियों को शान्ति मिलेगी, उनका आशीर्वाद प्राप्त होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  के मार्गदर्शन में आजादी का अमृत महोत्सव की विभिन्न श्रृंखलाएं पूरे देश में आयोजित की जा रही हैं। यह कार्यक्रम स्वतंत्रता आन्दोलन के इतिहास से लोगों को परिचित कराने का कार्य कर रहे हंै। प्रदेश सरकार के सभी जनकल्याणकारी कार्यों में देश की स्वतंत्रता के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले अमर वीरों की प्रेरणा जुड़ी हुई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री  के नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में आज देश तेजी के साथ दुनिया की एक महान शक्ति बनने की ओर अग्रसर है। प्रदेश सरकार राज्य के समग्र विकास और गांव, गरीब, किसान, नौजवान, महिला सहित समाज के प्रत्येक तबके के विकास के लिए मजबूती के साथ कार्य कर रही है।

मुख्यमंत्री  ने कहा कि विदेशी आक्रान्ता और विदेशी हुकूमत को देश के लोगों ने कभी स्वीकार नहीं किया। अलग-अलग समय में देश एवं प्रदेश के अलग-अलग स्थानों पर आजादी के लिए भारत के सपूतों ने निरन्तर प्रयास किया। काकोरी ट्रेन एक्शन 09 अगस्त, 1925 को इसी स्थल पर हुआ था। विदेशी हुकूमत की दमनकारी नीति ने आजादी की लौ को और तीव्र करने की भूमिका निभाई। सन् 1857 में आजादी के लिए सामूहिक प्रयास किया गया। देश की आजादी के लिए यह प्रयास बलिया, गोरखपुर, बिठूर, झांसी, मेरठ के साथ ही, प्रदेश व देश के अलग-अलग स्थानों पर किया गया था।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि वर्ष 1922 में गोरखपुर के चैरी-चैरा की ऐतिहासिक घटना में वहां के किसानों, मजदूरों, महिलाओं एवं नौजवानों ने मिलकर भाग लिया और ब्रिटिश हुकूमत को चुनौती दी। यह वर्ष चैरी-चैरा घटना का शताब्दी वर्ष भी है। 09 अगस्त, 1925 को घटित काकोरी ट्रेन एक्शन में खजाने को लूटकर विदेशी हुकूमत को चुनौती दी गई थी। ब्रिटिश हुकूमत को चुनौती देने के कार्य निरन्तर चलते रहे। काकोरी घटना के नायकों को सुनवाई पूरी होने से पहले ही 19 दिसम्बर, 1927 को पं0 राम प्रसाद बिस्मिल को गोरखपुर जेल में, ठा0 रोशन सिंह को नैनी जेल में एवं अशफाक उल्ला खां को फैजाबाद जेल में फांसी दे दी गई थी। राजेन्द्र नाथ लाहड़ी को भी गोण्डा जेल में दो दिन पहले ही फांसी दे दी गई थी। भारत माता के इन वीर सपूतों का बलिदान देश की आजादी के लिए मील का पत्थर साबित हुआ। पं0 राम प्रसाद बिस्मिल ने गोरखपुर जेल में कहा था कि ‘इस भारत वर्ष में 100 बार मेरा जन्म हो, कारण सदा ही मृत्यु का देशोपकारक गर्व हो’। देश की आजादी के लिए बलिदान देने वाले महान सपूतों की एक लम्बी श्रृंखला है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में प्रदेश सरकार हर गरीब को निःशुल्क आवास, शौचालय, रसोई गैस का कनेक्शन, विद्युत कनेक्शन उपलब्ध कराने का कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के माध्यम से बेटियों के उन्नयन के कार्य किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना द्वारा गरीब कन्याओं की शादी का जिम्मा प्रदेश सरकार उठा रही है। प्रदेश के पात्र लोगों को आयुष्मान भारत योजना के तहत 05 लाख रुपए तक का बीमा कवर प्रदान किया जा रहा है। प्रदेश सरकार मिशन शक्ति के माध्यम से महिलाओं व बेटियों की सुरक्षा एवं सम्मान में वृद्धि कर रही है। साथ ही, उन्हें स्वावलम्बी भी बना रही है। आज प्रदेश के नौजवानों के सामने पहचान का संकट नहीं है। युवाओं को रोजगार प्रदान करने एवं उन्हें सामथ्र्यवान बनाने के लिए प्रदेश सरकार कृतसंकल्पित है। यह नए भारत का नया उत्तर प्रदेश है, जो लगातार आत्मनिर्भरता की ओर अग्रसर है।

मुख्यमंत्री  ने कहा कि दुनिया कोरोना महामारी का सामना कर रही है। देश प्रधानमंत्री  के नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में कोरोना महामारी को पूरी तरह नियंत्रित करने में सफल रहा है। इसके बावजूद कोरोना के प्रति सावधानी एवं सतर्कता आवश्यक है। उन्होंने कहा कि देश के 135 करोड़ लोगों के लिए बिना भेदभाव के निःशुल्क टेस्ट, उपचार एवं वैक्सीन की व्यवस्था की गई है। साथ ही, गरीब लोगों को निःशुल्क खाद्यान्न उपलब्ध कराया जा रहा है।

मुख्यमंत्री  ने तदुपरान्त एक चित्र प्रदर्शनी का अवलोकन किया और स्टाॅलों का निरीक्षण किया।

इससे पूर्व केन्द्रीय आवासन एवं शहरी कार्य राज्य मंत्री कौशल किशोर ने स्वतंत्रता सेनानियों एवं अमर बलिदानियों का स्मरण करते हुए केन्द्र एवं राज्य सरकार के लोक कल्याणकारी कार्यों का उल्लेख किया। प्रमुख सचिव पर्यटन एवं संस्कृति  मुकेश कुमार मेश्राम ने भी अपने विचार व्यक्त किये।

इस अवसर पर प्रदेश के अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री  मोहसिन रजा, क्षेत्रीय विधायक  जय देवी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एवं सूचना  संजय प्रसाद सहित शासन-प्रशासन के अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Previous Post Next Post