भारत की वैक्सीन को, 97 देशों में मिली हरी झंडी


नई दिल्ली (मानवी मीडिया): भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को बहरीन में मंजूरी दे दी गई है। बहरीन के नेशनल हेल्थ रेगुलेटरी अथॉरिटी ने कोवैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी है। राजधानी मनामा में स्थित भारतीय दूतावास ने इसकी जानकारी दी है। बहरीन को लेकर अब तक 97 देशों में कोवैक्सीन और कोविशील्ड को आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी जा चुकी है। इसमें अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, स्पेन, फ्रांस, जर्मनी जैसे देश शामिल हैं। इस तरह अब भारतीयों के लिए अंतरराष्ट्रीय यात्रा सरल हो गई है।

खाड़ी देश के नेशनल हेल्थ रेगुलेटरी अथॉरिटी ने एक बयान जारी कर कहा कि किंगडम ऑफ बहरीन के नेशनल हेल्थ रेगुलेटरी अथॉरिटी (एनएचआरए) ने आज भारतीय मल्टीनेशनल बायोटेक्नोलॉजी कंपनी, भारत बायोटेक द्वारा तैयार की गई कोवैक्सीन के आपातकालीन इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है। इसमें कहा गया कि कोवैक्सीन को हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा मंजूर किया गया। इस तरह ये बहरीन में 18 साल और इससे ऊपर के लोगों के लिए उपलब्ध होगी। ये एक इनएक्टिवेटेड वैक्सीन है। गौरतलब है कि WHO ने हाल ही में वैक्सीन को अपनी मंजूर की गई वैक्सीनों में शामिल किया है।

बयान में कहा गया कि ये फैसला भारत बायोटेक इंडिया द्वारा मुहैया कराए गए डेटा के सावधानीपूर्वक मूल्यांकन के बाद लिया गया है। डाटा का मूल्यांकन एनएचआरए के क्लिनिकल ट्रायल कमिटी और स्वास्थ्य मंत्रालय की टीकाकरण समिति द्वारा किया जाता है। इसमें कहा गया कि वैक्सीन के क्लिनिकल टेस्ट में 26,000 से अधिक लोगों ने भाग लिया। इससे पता चला कि दो-खुराक वाली रेजीमेन वैक्सीन कोविड-19 के खिलाफ 77.8 फीसदी कारगर है और कोविड-19 के गंभीर मामलों के खिलाफ वैक्सीन 93.4 फीसदी तक कारगर है। सुरक्षा डेटा में इसका बेहद ही कम साइड इफेक्ट देखने को मिला है।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में 40 घंटे तक नहीं थमेगी बारिश:मौसम वैज्ञानिक