यातायात का उल्लंघन करने पर संबंधित के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें -मंडलायुक्त

सिटी लॉजिस्टिक समन्वय समिति की बैठक संपन्न

सिटी की गंभीरता से अध्ययन करें और समझे फिर प्लान बनाएं मंडलायुक्त

लखनऊ (मानवी मीडिया)मंडलायुक्त रंजन कुमार की अध्यक्षता लखनऊ विकास प्राधिकरण के भवन स्थित सभागार में सिटी लाॅजिस्टिक समन्वय समिति की बैठक सम्पन्न हुई। उन्होंने संबंधित अधिकारी को निर्देश दिया कि प्लान बनाने से पहले सिटी की गहनता से अध्ययन करें और समझे उसके उपरांत प्लान बनाएं ।

आयुक्त  रंजन कुमार ने शहर की ट्रैफिक व्यवस्था को बेहतर बनाने हेतु किये जाने वाले उपायों पर चर्चा की और कहां की यातायात का उल्लंघन करने पर कदापि बर्दाश्त ना किया जाए और सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए और तत्काल चालान काटा जाए।

बैठक के दौरान मण्डलायुक्त  रंजन कुमार ने कहा कि सिटी लाॅजिस्टिक प्लान को उपयोगी बनाने के लिए फ्रेट सर्विस प्रोवाइडर/ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन, एन.एच.ए.आई., मेट्रो, पी.डब्ल्यू.डी. और रेलवे अधिकारियों समेत अन्य विशेषज्ञों के साथ बैठक करके सुझाव लिये जायें। इसमें यह भी देखा जाये कि ट्रांसपोर्टर द्वारा शहर के बाजारों में उत्पाद पहुँचाने के लिए कौन-कौन से मार्गों का इस्तेमाल सर्वाधिक किया जाता है। मण्डलायुक्त ने बैठक में उपस्थित पुलिस व आर.टी.ओ. अधिकारियों को सरिया/पाइप इत्यादि की ओवरलोडिंग करने वाले भारी वाहनों के खिलाफ अभियान चलाकर कार्यवाही करने के निर्देश दिये। उन्होंने ई-रिक्शा के लिए कुछ रूट आरक्षित किये जाने की योजना तैयार करने को कहा, ताकि इनके कारण शहर की ट्रैफिक व्यवस्था में कोई समस्या न हो। मानचित्र के विषय में चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि लम्बित मानचित्रों के सभी प्रकरणों को सात दिन में निस्तारित किया जाये। उन्होंने प्री अप्रूवल में रिजेक्ट किये गये सभी प्रकरणों की पूरी सूची मांगने के साथ ही वे किन कारण से रिजेक्ट किये गये की रिपोर्ट तलब की है।

इस अवसर पर पीयूष मोर्डिया संयुक्त पुलिस आयुक्त,  पवन कुमार गंगवार सचिव ल0वि0प्रा0, और इंदु शेखर सिंह मुख्य अभियंता,समेत अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र