अब्बा जान' विवाद और बढ़ा ,कार्टून वायरल होने के बाद


लखनऊ (मानवी मीडिया): उत्तर प्रदेश की राजनीति में 'अब्बा जान' विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। सोमवार को इस विवाद पर एक कार्टून वायरल हो गया है। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के नेता असदुद्दीन ओवैसी और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव पर कटाक्ष करने वाले कार्टून के साथ भाजपा ने कथित तौर पर विवाद को हवा दी है।

कार्टून में, ओवैसी और अखिलेश यादव को मुगल सम्राट जहांगीर और अनारकली के रूप में दिखाया गया है, जो गरीबों के लिए राशन की एक बोरी पर लेटे हुए दिखाई दे रहे हैं, जबकि 'अब्बा जान' मुलायम सिंह यादव को दिखाया गया हैं।

कार्टून के दूसरे हिस्से में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गरीबों को राशन बांटते नजर आ रहे हैं। गौरतलब है कि हाल ही में योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि जो 'अब्बा जान' की बात करते हैं, वही गरीबों के लिए बने राशन को खा जाते हैं।

आदित्यनाथ ने कुशीनगर में कहा, "प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में तुष्टिकरण की राजनीति के लिए कोई जगह नहीं है। 2017 से पहले क्या सभी को राशन मिलता था? पहले केवल 'अब्बा जान' कहने वाले ही राशन खाते थे।" अखिलेश यादव और ओवैसी ने कई अन्य विपक्षी नेताओं के साथ मुख्यमंत्री की टिप्पणी के लिए उन पर निशाना साधा।

इससे विपक्षी दलों में एक बड़ा हंगामा हुआ, जिन्होंने आदित्यनाथ पर जबरदस्त सांप्रदायिकता का आरोप लगाया। दूसरी ओर, अखिलेश यादव ने कहा, "चार साल से अधिक समय के बाद भी, यह सरकार नाम और रंग बदल रही है, सपा सरकार द्वारा किए गए कार्यों पर अपना दावा कर रही है। जैसा कि वे जानते हैं कि उनकी सरकार रास्ते में है, उनकी भाषा बदल गई है।" उन्होंने कहा कि कुछ साल पहले जब मुख्यमंत्री कुशीनगर गए, तो बच्चों और गरीबों को पहले नहाने और फिर मिलने के लिए साबुन और शैंपू दिए गए थे।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में 40 घंटे तक नहीं थमेगी बारिश:मौसम वैज्ञानिक