सबसे बड़े पेटीएम IPO का रास्ता साफ, शेयरधारकों ने 16600 करोड़ के पब्लिक इश्यू लाने की दी मंजूरी


नई दिल्ली (मानवी मीडिया): डिजिटल पेमेंट और वित्तीय सेवा कंपनी पेटीएम को 16,600 करोड़ रुपये का देश का सबसे बड़ा सार्वजनिक निर्गम यानी IPO लाने की मंजूरी मिल गई है। यह मंजूरी Paytm के शेयरधारकों ने सोमवार देर रात को दी गई। इसकी जानकारी रखने वाले एक स्रोत ने यह बताया। शेयरधारकों ने प्रारंभिक सार्वजनिक निर्गम के दौरान 12,000 करोड़ रुपये जुटाने की मंजूरी दे दी है और द्वितीयक शेयरों की बिक्री के साथ कुल 16,600 करोड़ रुपये हासिल होंगे। स्रोत ने कहा, "शेयरधारकों ने असाधारण आम सभा (ईडीएम) में सभी प्रस्तावों को मंजूरी दे दी।

शेयरधारकों ने आईपीओ के दौरान पूंजी जुटाने और 12,000 करोड़ रुपये तक के नये शेयर जारी करने की मंजूरी दे दी। द्वितीयक शेयरों की बिक्री के साथ कुल 16,600 करोड़ रुपये हासिल होंगे। पेटीएम को ई-मेल के जरिए भेजे गए सवाल का अब तक जवाब नहीं मिला है। शेयरधाकों ने यह प्रस्ताव भी पारित किया कि कि कंपनी के संस्थापक विजय शेखर शर्ता को कंपनी के 'प्रवर्तक के रूप में मान्यता नहीं दी जाएगी पर वह पेटीएम के चेयरमैन, प्रबंध निदेशक और मुख्य अधिशासी अधिकारी बने रहेंगे।

स्रोत के अनुसार आईपीओ के बाद कंपनी का बाजार मूल्यांकन बढ़कर 1.78 लाख करोड़ रुपए से 2.2 लाख करोड़ रुपए के बीच हो सकता है। इसके बाद पेटीएम के देश की 10 शीर्ष सूचीबद्ध वित्तीय सेवाओं में शामिल होने की उम्मीद है। कंपनी इस हफ्ते आईपीओ के लिए दस्तावेज जमा कर सकती है।

अब तक सबसे बड़े आईपीओ का रिकार्ड कोल इंडिया के नाम है। उसने 2010 की अंतिम तिमाही में करीब 15,500 करोड़ रुपये जुटाए थे। पेटीएम में अलीबाबा के एंट ग्रुप की हिस्सेदारी 29.71 प्रतिशत, जापान के साफ्ट बैंक की 19.63 प्रतिशत, एसएआईएफ पार्टनर्स की 18.56 प्रतिशत और विजय शेखर शर्मा की 14.67 प्रतिशत है।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में 40 घंटे तक नहीं थमेगी बारिश:मौसम वैज्ञानिक