अब पसीने से पैदा होगी बिजली, वैज्ञानिकों ने किया अनोखे डिवाइस का निर्माण

नई दिल्ली (मानवी मीडिया) जल्द आपके पसीने से बिजली पैदा की जा सकेंगी। जी हां ये बिलकुल सच है, शोधकर्ताओं ने हाथों में पहनने वाले एक ऐसे यंत्र की खोज की जो किसी व्यक्ति के पसीने का इस्तेमाल कर उससे बिजली का निर्माण कर सकता है। रिसर्चर्स का दावा है कि इस यंत्र को उंगलियों में अटैच किया जा सकता है और फिर ये उंगलियों की नमी को कैच करते हुए उससे बिजली बनाता है। चूंकि फिंगर टिप्स पर काफी पसीना आता है, ऐसे में एक स्मार्ट स्पॉन्ग मटीरियल के सहारे इस पसीने को इकट्ठा किया जा सकता है और फिर कंडक्टर्स द्वारा इसे प्रोसेस किया जाता है।

ये प्रोटोटाइप डिवाइज फिलहाल अभी काफी कम पावर ही जनरेट कर पाता है और ये तीन हफ्तों तक हाथों में पहनने के बाद एक स्मार्टफोन को चार्ज करने लायक बिजली उत्पन्न कर पाता है लेकिन यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफॉर्निया के डेवलेपर्स को उम्मीद है कि भविष्य में इसकी क्षमता में काफी अधिक इजाफा किया जा सकेगा।

इस बारे में जानकारी देते हुए सीनियर प्रोफेसर जोसेफ वॉन्ग ने कहा कि फिंगर की टिप पर अगर आप कुछ ना भी कर रहे हों तो भी बहुत थोड़ी मात्रा में पसीना होता है, इस टेक्नोलॉजी के सहारे आप बिना कुछ मेहनत किए इससे बिजली जनरेट कर सकते है। इसे इंवेस्टमेंट पर मैक्सिमम एनर्जी रिटर्न कहा जाता है। इसके एक प्रयोग में फिंगर चार्जर को एक केमिकल सेंसर से और एक छोटी लो-पावर स्क्रीन से कनेक्ट किया गया था । इसे महज दो मिनटों तक पहनने पर इतनी पावर जनरेट हो पा रही थी जिसके चलते सेंसर और स्क्रीन को चलाया जा सकता था। गौरतलब है कि 10 घंटों की नींद के बाद ये यंत्र 400 मिलीजूल्स की एनर्जी पैदा करता है जिसके चलते एक इलेक्ट्रॉनिक घड़ी को चार्ज किया जा सकता है। फिलहाल अभी इस पर और शोध किए जा रहे है।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में 40 घंटे तक नहीं थमेगी बारिश:मौसम वैज्ञानिक