प्रधानमंत्री जन धन खाते खोलने में निजी बैंक फिसड्डी, सरकारी बैंकों ने तीन करोड़ तो प्राइवेट ने सिर्फ 55 हजार खाते खोले


नई दिल्ली (मानवी मीडिया) मोदी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में प्रधानमंत्री जन धन योजना (पीएमजेवाई) की शुरूआत की थी। इस योजना के तहत देश के गरीबों का खाता जीरो बैलेंस पर बैंक, पोस्ट ऑफिस में खोला जाता है। देश में 31 मार्च 2021 तक 42 करोड़ से अधिक जन धन खाते खुल चुके हैं, लेकिन इसमें निजी बैंक बहुत पीछे हैं। वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक पिछले वित्त वर्ष यानी 2020-21 में सरकारी बैंकों ने तीन करोड़ के करीब जन धन खाते खोले। वहीं निजी बैंकों ने सिर्फ 55 हजार के करीब खाते खोले। इतना ही नहीं पिछले वित्त वर्ष में निजी बैंकों ने करीब 50 हजार खाते कम खोले। सरकारी योजनाओं के लिए बेहद अहम इस खाते में निजी बैंकों की दिलचस्पी बेहद कम है।

जवाब के बदले बहाने बना रहे निजी बैंक

हिन्दुस्तान के सहयोगी प्रकाशन मिंट की ओर से भेजे गए सवाल पर आईसीआईसीआई बैंक को छोड़कर किसी भी बैंक ने या तो जवाब नहीं दिया या फिर बहाना बनाते नजर आए। आईसीआईसीआई ने पूरी स्पष्टता के साथ जन जन खाते का ब्योरा दिया। बैंक ने कहा कि उसने पिछले वित्तीय वर्ष में दो लाख 78 हजार 522 जन धन खाते खोले हैं। बैंक के प्रवक्ता ने कहा कि आईसीआईसीआई बैंक जन धन खाता खोलने में निजी बैंकों में सबसे आगे है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि ज्यादातर जन धन खाते अस्थाई तौर पर बंद हो गए हैं क्योंकि उनमें काफी समय से लेनदेन नहीं हुई है।

पेट्रोल-डीजल के नए रेट जारी, आज राजस्थान के लगभग 7000 पेट्रोल पंप बंद

निजी बैंकों क्यों कतराते हैं

बैंकरों और विशेषज्ञों का कहना है कि सरकार के नियमों के मुताबिक एक व्यक्ति का एक ही जन धन खाता हो सकता है। ऐसे में कोई व्यक्ति दूसरा खाता खुलवाने जाता है तो दस्तावेज से तुरंत यह जानकारी मिल जाती है कि पहले से किसी दूसरे बैंक में जन धन खाता खुला हुआ है। इस स्थिति में बैंक जन धन खाता नहीं खोलते। हालांकि, विशेषज्ञों का यह भी कहना है कि अपने लिए खर्चीला होने की वजह से निजी बैंक जन धन खाता खोलने से दूर भागते हैं। इसे जीरो बैलेंस पर खोलना पड़ता है और किसी भी सेवा के लिए शुल्क वसूलने की अनुमति नहीं है।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र