ममता बनर्जी , 24 घंटे तक नहीं कर पाएंगी प्रचार::चुनाव आयोग


कोलकाता (मानवी मीडिया): पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के चुनाव प्रचार पर चुनाव आयोग ने रोक लगा दी है। बताया जा है कि यह रोक आज रात 8 बजे से 24 घंटे के लिए रोक लगाई गई है। उनपर आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप। बता दें कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के चार चरण हो चुके हैं। वोटिंग के हर चरण के बाद राÓय की राजनीतिक सरगर्मी बढ़ती जा रही है। इस बीच, चुनाव आयोग ने बड़ा कदम उठाते हुए अगले 24 घंटे तक पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के चुनाव प्रचार करने पर रोक लगा दी है। आयोग ने ममता बनर्जी को भड़काऊ भाषण देने के मामले में आरोपी माना है। साथ ही, एक जनसभा में ममता ने हिंदू मुस्लिम के आधार पर वोट मांगे थे। यह रोक सोमवार रात आठ बजे से लागू हो जाएगी। चुनाव आयोग ने इससे पहले ममता को नोटिस जारी कर इस मामले में स्पष्टीकरण मांगा था।

 उधर, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ममता बनर्जी ने सोमवार को आरोप लगाया कि चुनाव आयोग पक्षपात करता है और वह केवल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की ही बात सुनता है। सुश्री बनर्जी ने यहां एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा, " मैं चुनाव आयोग से हाथ जोड़कर आग्रह करती हूँ कि केवल भाजपा की ही न सुनिए। सभी की बात सुनिए। पक्षपाती न बनिए। तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने कहा, " मैं वास्तव में दुखी और शर्मिंदा हूँ। मैंने इस तरह के प्रधानमंत्री नहीं देखे जो बोलते समय सीमा लांघ जाते हैं। सुश्री बनर्जी ने कहा, मैंने सभी धर्मों के लिए काम किया है। मैंने क्या नहीं किया ? अब केवल एक चीज बची है, भाजपा हटाओ, देश बचाओ। वाम दल और कांग्रेस भाजपा के एजेंट हैं। मोदी, आप ट्रम्प के पास ट्रम्प कार्ड खेलने गये और अब बंगलादेश बंगाल कार्ड खेलने गये।"

मुख्यमंत्री ने कहा, " आप बंगलादेश वोट के लिए गये और अब वहां हिंसा हो रही है। चुनाव आयोग स्वत: संज्ञान क्यों नहीं ले रहा?

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र