पुणे में एक सप्ताह के लिए रोज 12 घंटों का कफ्र्यू, अरविंद केजरीवाल ने की आपात बैठक, दिल्ली में


मुंबई (मानवी मीडिया): मराठवाड़ा में कोरोना के मामले बढऩे के बाद सख्ती बरती जानी शुरू हो गई है। महाराष्ट्र का पुणे जिला फिलहाल देश में कोविड-19 से सबसे ज्यादा बुरी तरह त्रस्त है। यहां संक्रमण के मामले बेतहाशा तेजी से बढ़े हैं, जिसके बाद प्रशासन ने यहां पर एक हफ्ते के लिए 12 घंटे शाम 6 से सुबह 6 बजे तक कफ्र्यू लगाने का फैसला किया है। इसी बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अहम बैठक की है। बैठक के बाद अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज 3583 केस आए हैं, दिल्ली के लिए ये चौथी लहर है। बहुत तेज़ी से केस बढ़ रहे है। इस बार मौतें कम हैं। फिलहाल लॉकडाउन का विचार नहीं है। देश के लिए कोरोना की दूसरी लहर हो सकती है, दिल्ली के लिए कोरोना की चौथी लहर है। बहुत तेजी से कोरोना के केस बढ़ रहे हैं, ये चिंता का विषय है, लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है। सरकार पूरी निगरानी कर रही है, जो भी कदम उठाने चाहिए, वह उठा रहे हैं। इस बार के मामले पिछले केसों के मुकाबले कम सीरियस हैं, मौतें कम हो रही हैं और आईसीयू में मरीज कम भर्ती हो रहे हैं। 

 उन्होंने कहा कि फिलहाल लॉकडाऊन का कोई विचार नहीं है। केजरीवाल ने कहा कि हम दिल्ली में वैक्सीनेशन पर फोकस कर रहे हैं। राजधानी में कल 71,000 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। उधर, मध्यप्रदेश में तेजी से बढ़ रहे कोरोना वायरस संक्रमण के चलते राज्य में चार जिलों मे एक दिन से अधिक का लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया गया है। छिंदवाड़ा में तीन दिन और बैतूल,खरगोन और रतलाम में दो दिन की पूर्णबंदी का आज रात से लागू हो जाएगा है। गुरुवार को मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के 2546 नए मामले सामने आए और इसके साथ ही प्रदेश में इस वायरस से अब तक संक्रमित पाए गए लोगों की कुल संख्या 2,98,057 हो गई है। इसके मद्देनजर मध्य प्रदेश शासन ने यह कदम उठाया है। उधर, पुणे के डिविजनल कमिश्नर सौरभ राव ने आज बताया कि अगले सात दिनों तक होटल-बार, शॉपिंग मॉल, मूवी थियेटर और धार्मिक स्थल नहीं खुलेंगे। इस अवधि में खाने, दवाइयों और दूसरी जरूरी सेवाओं की बस होम डिलीवरी की इजाजत रहेगी

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र