बिकरू कांड की आरोपित खुशी दुबे आज शनिवार कानपुर देहात जेल से रिहा

 

लखनऊ (मानवी मीडिया)बिकरू कांड की आरोपित खुशी दुबे शनिवार शाम 7 बजे कानपुर देहात जिला जेल से रिहा हो गईं. खुशी का परिवार जिला जेल के बाहर उन्हें घर ले जाने के लिए इंतजार कर रहा था. जेल से निकलते हुई मां को देखकर ख़ुशी की आंखें नम हो गईं. उस समय तो उन्होंने मीडिया से बात करने से इनकार किया लेकिन बाद में उन्होंने एक निजी चैनल से खास बातचीत की.

उन्होंने कहा कि शादी के बाद जब रश्में हो रहीं थीं. उसी दौरान गोली चलने की आवाजे आईं. उन्होंने बताया कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी आखिर हो क्या रहा है. इसके बाद घटना के दूसरे दिन पुलिस उनके घर आई और उनसे पूछताछ हुई. इसके बाद उन्हें शाम को थाने ले जाया गया. उन्होंने कहा कि उन्हें चार दिन थाने में रखा गया और इन चारदिनों में उनके साथ क्या-क्या हुआ वो बता नहीं सकती.

 एक निजी चैनल पर बातचीत करते हुए खुशी ने कहा कि वो बिल्कुल डरी हुई थी. उन्होंने कहा, “मैं ये तो नहीं कह सकती कि मैं दोषी थी या नहीं. ऐसी हालत में मुझे बस इतना पता है कि मैंने गलत नहीं किया था तो मेरे साथ गलत नहीं होगा. मुझे सुप्रीम कोर्ट पर पूरा भरोसा था और मुझे मेरे वकील पर पूरा भरोसा था.

वहीं जब खुशी से पूछा गया कि उनकी शादी अमर देव से कराई किसने थी तो खुशी ने कहा, “मैं बीता कल आपके सामने नहीं रखना चाहती. वो मेरे लिए बहुत डरावना था. मेरे लिए बहुत सहमा देने वाली घटना थी. इस बारे में मैं नहीं बता सकती.” उन्होंने कहा कि वो अपने सपनों को भूल चुकी थीं. उन्हें बस ये भरोसा था कि न्याय का साथ तो सब देते हैं. इसलिए एक ना एक दिन वो इन सब चीजों से जरूर बाहर होंगी.

बता दें कि, खुशी दुबे, कानपुर के कुख्यात अपराधी विकास दुबे के साथी ने अमर दुबे की पत्नी हैं. विकास दुबे के कथित एनकाउंटर के बाद उसके साथी अमर दुबे की पत्नी यानी खुशी को पुलिस ने निर्दोष होते हुए भी जेल भेज दिया था. उस समय खुशी की शादी को मात्र 2 दिन हुए थे. बहरहाल, लगभग तीस महीने जेल में रहने के बाद खुशी दुबे को अब देश की सर्वोच्च अदालत ने जमानत दे दी है और शनिवार शाम 7 बजे वो जेल से रिहा हो चुकी हैं.

Previous Post Next Post