बेटी की डोली उठने से 1 दिन पहले निकाली बारात, महिलाओं को बराबरी का हक दिलाने के लिए बनाई ये मिसाल


उत्तर प्रदेशः (
मानवी मीडियाहर कपल शादी में कुछ अलग करने का सपना देखता है, लेकिन शादी से पहले बारात को निकलते तो सभी ने देखा होगा, मगर सेहरा बांध कर दूल्हा बनी और बग्घी पर सवार हुए युवती को शायद ही कभी देखा होगा, पूरा मामला उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद का है जहां एक पिता ने समानता की अनूठी मिसाल पेश की है.

शादी से एक दिन पहले निकली अनोखी बारात

नए ख्यालों और जज्बातों की यह अनोखी मिसाल मुरादाबाद शहर के राम गंगा विहार स्थित हिमगिरि कॉलोनी में देखने को मिली. बैंड बाजों की जोरदार आवाज के के बीच दूल्हे की तरह सेहरा बांधे बग्घी पर सवार युवती को देखकर हर कोई निहाल हो रहा था. मोहल्ले में एक अनोखी तस्वीर देखने को मिली है जहां बेटी की शादी से ठीक 1 दिन पहले पिता ने लड़कों की तरह ढोल नगाड़ों के साथ बेटी की बारात निकाली, जिसे देखकर हर कोई हैरान रह गया. लड़की के पिता का कहना है कि शादी के मौके पर लड़कों की तरह उन्होंने अपनी बेटी की घुड़चढ़ी निकलवाई और ऐसा उन्होंने महिलाओं को बराबरी का हक दिलाने के लिए किया है जिसमें सभी लोगों ने उनका साथ दिया और उन्होंने अपनी बेटी की बारात निकाली.

महिलाओं को बराबरी का हक दिलाने बनाई नई मिसाल

मुरादाबाद के राम गंगा विहार स्तिथ हिमगिरि कॉलोनी के रहने वाले राजेश शर्मा जो अखिल भारत वर्षीय ब्राह्मण महासभा के प्रदेश महामंत्री है उन्होंने महिला महिलाओं को समानता का अधिकार देते हुए अपनी बेटी स्वेता भारद्वाज के विवाह के अवसर पर लड़को की तरह अपनी बेटी की घुरचढ़ी निकाली ,उनकी बेटी की कल शादी है शादी से ठीक 1 दिन पहले उन्होंने अपनी बेटी की जोर शोर से ढोल बैंड बाजों के साथ अपनी कॉलोनी से बारात निकलवाई और ठीक वैसे ही जैसे पुरुष की शादी के दौरान बारात निकलती है जिसको देखकर सभी लोग आश्चर्यचकित हो गए.

Previous Post Next Post