किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के ऑर्थोडॉन्टिक्स एंड डेंटोफेशियल ऑर्थोपेडिक्स विभागकार्यशाला कार्यशाला का आयोजन

लखनऊ (मानवी मीडिया) किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के ऑर्थोडॉन्टिक्स एंड डेंटोफेशियल ऑर्थोपेडिक्स विभाग ने दिनाँक 22/11/22 दिन मँगलवार को एक कार्यशाला  "एलाइनर के साथ उपचार" का आयोजन और संचालन किया। कार्यक्रम का आयोजन, आयोजक अध्यक्ष एवं विभागाअध्यक्ष प्रोफेसर डॉ. जी.के. सिंह, और सह-आयोजक अध्यक्ष प्रो. डॉ. अमित नागर, जिन्होंने मुख्य अतिथि प्रो. डॉ. ए.पी. टिक्कू; डीन, फैकल्टी ऑफ डेंटल साइंसेज और विशिष्ट अतिथि प्रो. डॉ. वी.पी. शर्मा, पूर्व विभागाअध्यक्ष और डीन, फैकल्टी ऑफ डेंटल साइंसेज, केजीएमयू का स्वागत और अभिनंदन किया। डा٥ जी٥ के٥ सिहँ ने सभा को सँबोध्ति करते हुये कहा कि परिवर्तन ही प्रक्रति का नियम है इस लिये मह सभी को आर्थोडोन्टिक्स ट्रीटमेन्ट मे आये इस परिवर्तन को एस्सेप्ट करना चाहिये। सभा मे आये विष्टि अतिथि प्रो٥ डा٥ वी पी शर्मा सर ने ऐलाईनर एप्लायँस पर प्रकाश डालते हुये कहा कि मै इस एप्लाँस को वायर लैस एप्लायँस कहता हुँ क्यो कि इसमे कोई वायर नही होता। चीफ गैस्ट डीन डेन्टल प्रो٥ डा٥ ऐ٥पी٥ टिक्कु जी ने डेलीगेटस को सँम्बोधित करते हुये कहा कि आर्थोडोन्टिक्स विभाग  व मरीजो के इलाज के नये तरीके ऐलाईनर से आये परिवर्तन मरीजो के लिये बेहतर है। पहले मरीज विभाग मे आकर कहते थे कि मुझे अपने दाँत सीधे कराने है और तार लगवाने है पर आब इस नये ऐप्लाँस मे तो तार ही नही है। डा٥ टिक्कु जी ने बताया कि के.जी.एम.यु.  के दन्त सँकाय मे भी जल्द ही ऐलाईनर मशीने उप्लबध करा दी जायेगी। सभा को सभी गणमान्य व्यक्तियों  संबोधित किया गया, जिसमें ऑर्थोडोंटिक्स के असीम क्षेत्र में एलाइनर की भूमिका के बारे में बात की गई।

“एलाइनर” के इस कार्यशाला में दिल्ली से विशेषज्ञों को आमंत्रित किया गया था, जिन्होंने क्षेत्र में विभिन्न प्रगति की व्याख्या की और एक  हैंड्स-ऑन ट्यूटोरियल के साथ स्कैनर्स मशीन से स्कैनिग कैसे की जाती है का लाईव प्रदर्शन भी किया।

ऑर्थोडॉन्टिक्स के क्षेत्र में प्रसिद्ध संकाय सदस्यों और चिकित्सकों सहित विभिन्न डेंटल कॉलेजों के प्रतिभागियों की उपस्थिति से भी इस कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई गई।

कार्यक्रम के अँत मे प्रो٥ डा٥ अमित नागर जी ने सम्बोधित किया व धन्यवाद प्रस्ताव रक्खा।

Previous Post Next Post