मंत्री धर्मवीर ने "बदलती जिंदगी : जिला कारागार फतेहपुर" पुस्तक का किया विमोचन एवं जेल अधीक्षक को किया सम्मानित

लखनऊ: (मानवी मीडिया)उ0प्र0 के कारागार एवं होमगार्डस राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  धर्मवीर प्रजापति ने कहा कि प्रदेश के कुछ जनपदों में कैदियों की ओवरक्राउडिंग की समस्या के स्थायी समाधान के लिए नयी जेलों का निर्माण कराया जायेगा। इसके साथ ही प्रदेश की जेलों को और सुरक्षित बनाने के साथ ही खान-पान की व्यवस्था बेहतर बनाया जायेगा।  प्रजापति ने कहा कि प्रदेश में 10 ऐसे जनपद है जहां पर कारागार का निर्माण होना है। जल्द ही 10 जनपदों को जेल की उपलब्धता हो जायेगी। उन्होने बताया कि जेल निर्माण हेतु जमीनों का अधिग्रहण किया जा चुका है। नए जेलों के निर्माण से कुछ जेलों की ओवर क्राउडिंग की समस्या दूर हो सकेगी। 

कारागार मंत्री ने विधान भवन स्थित अपने कार्यालय कक्ष में जिला कारागार फर्रूखाबाद को मिले हुये 05 स्टार प्रमाण पत्र को स्वीकार किया। यह प्रमाण पत्र जेल अधीक्षक श्री भीमसेन मुकुन्द ने मंत्री जी को भेंट किया। इस मौके पर जेल अधीक्षक फतेहपुर द्वारा लिखित पुस्तक "बदलती जिंदगी : जिला कारागार फतेहपुर" का विमोचन भी किया। 

उद्गार व्यक्त करते हुये मंत्री  ने कहा कि इस पुस्तक से दूसरे जेल अधीक्षकों को प्रेरणा मिलेगी। राज्यमंत्री ने जेल अधीक्षक फतेहपुर ने मंत्री जी को अवगत कराया कि वर्तमान समय में कारागार सुधार गृह के रूप में तबदील हो चुकी है। हमारा प्रयास है कि बंदी जेल में निरूद्ध रहते हुये कुछ अच्छा सीखे और अपने विचारों में परिवर्तन कर सके। इसी उद्देश्य के साथ कारागार में शिक्षा एवं संस्कृति को एक अभियान के रूप में चलाया जा रहा है। 
धर्मवीर प्रजापति ने आगे बताया कि जेलों की व्यवस्था में लगातार बदलाव हो रहा है। बन्दियों को कौशल विकास से भी जोड़ा जा रहा है। बन्दियों के बच्चों की पढ़ाई हेतु अध्यापकों की व्यवस्था अलग से की गई है। उन्होने बताया कि उनके प्रयत्नों से ही 81 वर्ष पुराना जेल मैन्युअल संशोधित किया गया।  प्रधानमंत्री ने भी मन की बात में उ0प्र0 के जेल की चर्चा की एवं  मुख्यमंत्री  का कारागार एवं होमगार्डस विभाग को पूरा स्नेह एवं आशीर्वाद भी लगातार प्राप्त हो रहा है। इसके लिए विभाग उनकों आभार व्यक्त करता है। मा0 मंत्री जी ने जेल अधीक्षक फर्रूखाबाद की सराहना करते हुए उन्हें भगवान श्री कृष्ण का चित्र प्रदान कर सम्मानित किया। 


Previous Post Next Post