जहां जनता का दर्द झलकता हो उन कार्यों को दी जायें प्राथमिकता-आयुक्त

लखनऊ (मानवी मीडिया), लखनऊ मण्डल लखनऊ डॉ रोशन जैकब की अध्यक्षता में आज सीतापुर स्थित कलेक्ट्रेट सभागार में शासन के 37 बिन्दुओं पर समीक्षा बैठक आयोजित की गई। बैठक के दौरान आयुक्त लखनऊ ने विभागावार एक-एक करके समीक्षा की एवं महत्वपूर्ण निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये। उन्होंने पुलिस विभाग की समीक्षा करते हुये कितने अभियुक्तों के विरूद्ध कार्यवाही की गयी तथा पंजीकृत अभियोग की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि महिला उत्पीड़न मामलों में सख्त कार्यवाही होनी चाहिये ताकि अपराधों को समय रहते रोका जा सके तथा दहेज मृत्यु मामलों, पास्कों एक्ट, गैंगस्टर, अनुसूचित जाति, जनजाति उत्पीड़न में भी अभियोग दर्ज करने के निर्देश संबंधित अधिकारी को दिये। उन्होंने कहा कि जो भी लम्बित मामलें है उनका निस्तारण ससमय करा दिया जाये। उन्होंने संबंधित को कड़े निर्देश दिये कि अपराधिक प्रवृत्ति के लोगों एवं मफियाओं पर ऐसी कड़ी कार्यवाही अमल में लायी जाये, जिससे कोई अपराध करने का दुस्साहस न कर पाये तथा महिला की सुरक्षा पर विशेष नजर रखते हुये ऐसी कार्यवाही की जाये, जिससे महिलाओं के अन्दर का डर समाप्त हो। 

बैठक में डॉ रोशन जैकब डॉ रोशन जैकब ने कर-करेत्तर राजस्व संग्रह की समीक्षा के दौरान निर्देश दिये कि राजस्व को बढ़ानें के लिये और बल दिया जाये। आई0जी0आर0एस0 में सभी विभागाध्यक्ष शिकायतों का निस्तारण ज्यादा से ज्यादा तथा समयबद्ध तरीकों से करें। उन्होंने निर्देश दिये कि शिकायतों का सही निस्तारण हो यह सुनिश्चित किया जाये तथा शिकायकर्ता से बात करते हुये उन्हें सही जानकारी से अवगत कराया जाये। 

आयुक्त लखनऊ ने मुख्यमंत्री लघु सिंचाई की समीक्षा करते हुये नहरों की साफ-सफाई एवं टेल तक पानी उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश अधिशासी अभियन्ता सिंचाई को दिये। उन्होंने अधिशासी अभियन्ता सिंचाई को कड़े निर्देश दिये कि बाढ़ नियंत्रण हेतु प्रत्येक वर्ष जो भी कार्य किये जाते हैं वह कार्य रहते शुरूआत कर दें, ऐसा न हो कि बाढ़ नियंत्रण का कार्य शुरू किया जा जाये जब समय ही न हो और लोगों को गांव से पलायन करना पड़े। आयुक्त  ने कहा कि नहरों से जो भी बालू निकाली जाये उसमें मिट्टी के अनुपात को अलग करते हुये बालू मूल्य का आंकलन करते हुये ही दर निर्धारित की जाये। उन्होंने अधिशासी अभियन्ता लोक निर्माण विभाग को निर्देश दिये कि सभी सड़कों को गढ्डा मुक्त किया जाये, जो भी सड़के मरम्मत करने योग्य है उनका गुणवत्तापरक ढंग से कार्य कराते हुये गढ्डा मुक्त किया जाये तथा जो भी नई सड़कें बनायी जा रही है उसका सर्वे जरूर करें ताकि उसकी गुणवत्ता का पता चल सके। उन्होंने कहा कि खराब सड़क जनता को दर्द देने वाला विषय है, बहुत परेशान होती है जनता को ,जब सड़कों में गढ्डे होते हैं। सोलर फोटोवोल्टैइक सिंचाई पम्प की आपूर्ति एवं स्थापना की समीक्षा के दौरान स्थापित सोलर पम्पों एवं लक्ष्य की जानकारी ली। उन्होंने संबंधित अधिकारी को निर्देश दिये कि जो भी पम्प स्थापित किये जा रहे है इनका सत्यापन शतप्रतिशत कराया जाये। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि में डाटा फीडिंग एवं अपलोडिंग की क्या स्थिति है की जानकारी करते हुये निर्देश दिये कि सत्यापन हुये डेटा की फीडिंग व अपलोडिंग कार्य जरूर करा लें तथा जंक डेटा को बाहर कर दें। उन्होंने निराश्रित गोवंश की स्थिति की जानकारी लेते मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिये कि सभी पशुओं का टीकाकरण किया जाये एवं जो पशु बीमार है उनका उपचार किया जाये। मुख्य चिकित्सा अधिकारी से चिकित्सकों एवं दवाओं की उपलब्धता की जानकारी ली तथा निर्देश दिये कि जो भी दवाएं उपलब्ध है उनको मरीजों को दिया जाये, कोई भी मरीज बाहर से दवा न ले यह सुनिश्चित किया जाये। आयुष्मान कार्ड की खराब प्रगति पर जोर देते हुये कहा कि अधिक से अधिक पात्रों का आयुष्मान कार्ड जारी किया जाये तथा जो आयुष्मान कार्ड बनाने का कार्य कर रहा है उसका भुगतान भी समय से किया जाये। इसके साथ ही उन्होंने सी0एच0सी0 एवं पी0एस0सी0 की जानकारी करते हुये निर्देश दिये कि जिन केन्द्रों में कार्य चल रहा है उसको ससमय पूर्ण किया जाये तथा संस्थागत प्रसव पर भी जोर दिया जाये। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की समीक्षा करते हुये उन्होंने मिड-डे-मिल में बच्चों को खानें में क्या-क्या चीजे दी जा रही है की जानकारी करते हुये निर्देश दिये कि जो भी बच्चे कुपोषित है उनकी मॉ को बताये कि बच्चें को खानें में क्या चीजें दी जाये, जिससे बच्चे का कुपोषण समाप्त हो सके। उन्होंने कहा कि ग्रामवार सर्वे करते हुये ऐसे बच्चों का चिन्हीकरण किया जाये जो बच्चें कुपोषित हैं। कुपोषण नियंत्रण हेतु स्वास्थ्य विभाग, बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार एवं बेसिक शिक्षा विभाग आपसी समन्वय स्थापित करते हुये बेहतर प्रयास करें। उन्होंने सामुदायिक शौचालयों की स्थिति एवं खबरा पड़े हैण्डपम्पों को रिबोर करने हेतु संबंधित को निर्देशित किया। बेसिक शिक्षा विभाग की समीक्षा के दौरान उन्होंने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिये कि यूनीफार्म, बैंग, किताब आदि का वितरण समय से सुनिश्चित किया जाये। महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना के अन्तर्गत मनरेगा के कार्यों की जानकारी करते हुये निर्देश दिये कि जो स्कूल मरम्मत करने योग्य है उनकी मरम्मत करायी जाये, यदि धनराशि का अभाव है तो पत्राचार करते हुये मांग कर ली जाये, जिससे बच्चों को स्कूलों में अच्छी सुविधा मिल सके। राष्ट्रीय ग्रामीण पेयजल मिशन की समीक्षा के दौरान उन्होंने जल जीवन मिशन के अन्तर्गत क्या प्रोजेक्ट चल रहे है की जानकारी करते हुये निर्देश दिये कि सभी गांव जल जीवन मिशन के अन्तर्गत आच्छादित किये जायें। उन्होंने कहा कि पाईप की गुणवत्ता, पानी की शुद्धता संबंधित अधिकारी जरूर देख लें। 

आयुक्त  ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा की समीक्षा करते हुये संबंधित को निर्देश दिये कि जो भी राशन पात्रों को दिया जा रहा है उसे टीम लगाकर निरीक्षण कराते रहे, इसमें किसी प्रकार की कोई मनमानी नही होनी चाहिये। पति की मृत्युपरान्त महिला पेंशन योजना के अन्तर्गत आधार सीडिंग के कार्य केा जल्द से जल्द पूर्ण करने के निर्देश संबंधित अधिकारी को दिये। उन्होंने कहा कि इस कार्य में किसी प्रकार की लापरवाही न बरती जाये, समय से निराश्रित महिलाओं के खातों एवं वृद्धावस्था पेंशन में जितनी फीडिंग पूर्ण हो चुकी है उनके खातों में धनराशि भेज दी जाये। 

*आयुक्त लखनऊ ने किया नैमिषारण्य में पर्यटन विकास कार्यों का स्थलीय निरीक्षण*

आयुक्त, लखनऊ मण्डल लखनऊ डॉ रोशन जैकब ने नैमिषारण्य में पर्यटन विकास कार्यों का स्थलीय निरीक्षण किया। उन्होंने हेलीपैड स्थल, राजघाट, चक्रतीर्थ एवं ललिता देवी मंदिर के परिसर का निरीक्षण किया। उन्होंने नैमिष पर्यटन कार्यों के अन्तर्गत हेलीपैड हेतु चिन्हित स्थल का निरीक्षण किया एवं निर्देश दिये कि नैमिष में जो भी परियोजनाओं पर कार्य किया जाना है वह जमीनें विवादित न हों यह सुनिश्चित किया जाये। राजघाट के निरीक्षण के दौरान शौचालय, साफ-सफाई के साथ ही प्रस्तावित नक्शे का अवलोकन किया एवं निर्देश दिये कि राजघाट के विस्तार पर विशेष ध्यान दिया जाये। चक्रतीर्थ के निरीक्षण के दौरान उन्होंने बाउन्ड्रीवाल, जल स्वच्छता एवं जल निकासी की जानकारी ली। चक्रतीर्थ के पुजारी से चक्रतीर्थ के सौन्दर्यीकरण हेतु सुझाव भी मांगे एवं निर्देश दिये कि मेलों एवं त्यौहारों के समय चक्रतीर्थ में भीड़ न हो पाये, इसके लिये विशेष द्वारों का निर्माण कार्य कराया जाये। यातायात हेतु वैकल्पिक बाईपास की व्यवस्था सुनिश्चित की जाये। चक्रतीर्थ के सौन्दर्यीकरण हेतु वालपेंटिंग, लाईटिंग, महिलाओं एवं पुरूषों के लिये अलग-अलग शौचालय, आराम कक्ष एवं बैठनें हेतु कुर्सियां को व्यवस्थित ढंग से सुनिश्चित किया जाये। 

अंत में जिलाधिकारी सीतापुर ने दधीचि कुंड में पूजन अर्चन किया एवं दधीचि कुंड परिसर की समस्याओं से अवगत होते हुये तहसीलदार मिश्रिख को व्यवस्थाएं सुदृढ़ करने के निर्देश दिये। 

बैठक के दौरान जिलाधिकारी अनुज सिंह, पुलिस अधीक्षक घुले सुशील चंद्रभान, मुख्य विकास अधिकारी अक्षत वर्मा, संयुक्त विकास आयुक्त लखनऊ मण्डल लखनऊ, प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानिकी बृजमोहन शुक्ला, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 मधु गैरोला, नगर मजिस्ट्रेट अमृता सिंह, सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

Previous Post Next Post