मैक्स लाइफ इंश्योरेंस कम्पनी एंव पी0एन0बी0 मैट लाईफ इंश्योरेन्स के नाम पर धोखाधड़ी करके ग्राहकों से प्रीमियम जमा कराने वाले 04 जालसाज गिरफ्तार

लखनऊ (मानवी मीडिया)फर्जी काल सेन्टर का भण्डाफोड़, मैक्स लाइफ इंश्योरेंस कम्पनी एंव पी0एन0बी0 मैट लाईफ इंश्योरेन्स के नाम पर धोखाधड़ी करके ग्राहकों से प्रीमियम जमा कराने के नाम पर करोडों़ की ठगी करने वाले गिरोह के सरगना सहित 04 जालसाज गिरफ्तार।

दिनांकः 17-09-2022 को एस0टी0एफ0, उत्तर प्रदेश को फर्जी काल सेन्टर का भण्डाफोड़ कर मैक्स लाइफ इंश्योरेंस कम्पनी एवं पीएनबी मैट लाइफ इंश्योरेन्स के नाम पर धोखाधड़ी करके ग्राहकों से प्रीमियम जमा कराने के नाम पर करोडों़ की ठगी करने वाले गिरोह के सरगना अंकित कुमार सहित 04 जालसाजों को नोयडा से गिरफ्तार करने मे उल्लेखनीय सफलता प्राप्त हुई। 

गिरफ्तार अभियुक्तों का विवरण:-

1. अंकित कुमार पुत्र प्रेम पाल सिंह निवासी गैदपुर शेषपुर थाना सिकन्द्राबाद, जनपद बुलन्दशहर। हालपता अशोकनगर गली नं0-10-बी-127 चतुर्थ तल, दिल्ली।

2. स्ुमित पाण्डेय पुत्र दिनेश प्रकाश पाण्डेय निवासी भुड़कुड़ी, थाना महोली, जनपद सीतापुर।

3. आकाश पुत्र उपेन्द्र सिंह निवासी कटीरा जाफराबाद, थाना बहादुरगढ़, जनपद हापुड़। हालपता संजय विहार सुथियाना, थाना सूरजपुर, गौतमबुद्धनगर।

4. सागर पुत्र तिलकराज निवासी सीएनआई चर्च रोड, सदर बाजार, थाना कैण्ट अम्बाला, जनपद अम्बाला (पंजाब)

बरामदगी-

1- 01 अदद लैपटाप,

2- 10 अदद मोबाइल फोन,

3- 08 अदद लैण्ड लाईन फोन सेट,

4- 01 अदद मोटल साईकिल नं0 यूपी-14-इएच-8543, 

5- इंश्योरेन्स कम्पनी डाटा- 6 पन्ने,

6- रू0 6800/-(रू0 छ हजार आठ सौ0) रूपये नकदी।

गिरफ्तारी का दिनांक, स्थान व समयः-  

 दिनांकः 17-09-2022, स्थानः बी-127, सेक्टर-2, नोयडा। समय 16ः30 बजे। 

एस0टी0एफ0, उत्तर प्रदेश को विगत कुछ समय से सूचना प्राप्त हो रही थी कि मैक्स लाइफ इंश्योरेंस कम्पनी एवं पीएनबी मैट लाइफ इंश्योरेन्स के नाम पर ग्राहको को फोन करके उनकी पालिसी समाप्त हो जाने या पालिसी की कुछ धनराशि बकाया बताकर उनसे छोटी धनराशि का चैक प्राप्त कर पालिसी धारक के समक्ष चैक में कूटरचित तरीके से भरकर उनसे ठगी की जा रही है। जिस सम्बन्ध में एसटीएफ उ0प्र0 की विभिन्न टीमांे/इकाईयों को आवश्यक कार्यवाही हेतु निर्देशित किया गया था। जिसके क्रम में श्री प्रमेश कुमार शुक्ल, पुलिस उपाधीक्षक, एस0टी0एफ0, उ0प्र0 के पर्यवेक्षण मे एस0टी0एफ0 मुख्यालय स्थित टीम द्वारा अभिसूचना संकलन की कार्यवाही प्रारम्भ की गयी तथा अभिसूचना तन्त्र को सक्रिय किया गया। इस दौरान ज्ञात हुआ कि मैक्स लाइफ इंश्योरेंस कम्पनी एवं पीएनबी मैट लाइफ इंश्योरेन्स के नाम पर धोखाधड़ी करके ग्राहकों से ठगी करने वाले गिरोह के विरूद्ध थाना जानकीपुरम, पुलिस कमिश्नरेट लखनऊ में मु0अ0सं0 241/2022 पंजीकृत है।

उपरोक्त मुकदमें के अनावरण व अभियुक्तों की गिरफ्तारी एवं इस तरह से ठगी करने वाले गिराहों के बारे में नोयडा में सक्रिय रहकर ठगी किये जाने के सम्बन्ध में अभिसूचना प्राप्त हो रही थी, जिसपर एस0टी0एफ0 मुख्यालय से उपनिरीक्षक श्री संतोश कुमार के नेतृत्व में उपनिरीक्षक श्री जावेद आलम सिद्दीकी, मु0आ0 मृत्युंजय राय, आऱक्षी कमाण्डो रविन्द कुमार यादव व मु0आ/चालक सुरेश सिंह के साथ एस0टी0एफ0 फील्ड इकाई, गौतमबुद्धनगर की एक टीम व थाना जानकीपुरम के मुकदमा विवेचक को साथ लेकर जनपद नोयडा में मामूर थी। इसी बीच मुखबिर की सूचना/निशादेही पर गैंग के एक सदस्य को अशोक नगर दिल्ली बार्डर, मदर डेयरी के पास से आवश्यक बल प्रयोग कर उस व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया। 

गिरफ्तार व्यक्ति ने अपना नाम सूमित पाण्डेय बताया तथा कड़ाई से पूछताछ करने पर इसके द्वारा बी-127 सेक्टर-2, नोयडा पर अवैध रूप से चल रहे काल सेण्टर, जिसे अंकित कुमार द्वारा संचालित किया जा रहा है, के बारे में बताया तथा सुमित पाण्डेय द्वारा बताये गये स्थान पर पहुँच कर तीन और अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया गया, जिन्होंने अपना नाम उपरोक्त बताया, तथा गिरफ्तार अभियुक्तों से उपरोक्तानुसार बरामदगी की गयी।

उपरोक्त अभियुक्तों से पूछताछ करने पर इन लोगों द्वारा बताया गया कि यह लोग काल सेण्टर के माध्यम से मैक्स लाइफ इंश्योरेंस कम्पनी एवं पीएनबी मैट लाइफ इंश्योरेन्स का डाटा प्राप्त कर ग्राहकों को उसकी समाप्त हो चुकी पालिसी की धनराशि का भुगतान कराने का झाँसा एवं चल रही पालिसी में धनराशि बढ़ोत्तरी की जानकारी देकर छोटी-छोटी धनराशि के चैक जैसे 120, 170, 180 रूपये के प्राप्त कर लेते हैं और उस चैक पर सारा विवरण हम लोग अपने पैन पाइलट फ्रिक्सन से भरते हैं और ग्राहक से चैक पर हस्ताक्षर प्राप्त कर अकाउन्ट पेयी चैक लेते है। उसके बाद पैन के निचले भाग में इंक रिमूवर लगा हुआ, जिससे यह लोग चैक पर अंकित विवरण को उससे मिटा देते हैं और अपनी इच्छानुसार अधिक धनराशि का विवरण अंकित कर चैक कैश करा लेते है। फ्रिक्सन पैन की विशेषता है कि एक से पाँच दिन तक लिखे अक्षरों को बहुत सफाई से मिटाया जा सकता है। अंकित ने टेबल की रैक से दो पैन निकाले और एक पैन से सादे कागज पर लिखकर मिटाकर दिखाया। यह लोग लोगों को लोन दिलाने के नाम पर कैन्सिल चैक प्राप्त कर उस पर भी उपरोक्त पैन से ही लाईन खिचवा कर जो बाद में यह मिटा देते हैं और बैंक से कस्टमर के नम्बर से ग्राहक द्वारा जारी किये गये चैक पर अंकित एकाउन्ट नम्बर से खाते में उपलब्ध धनराशि की जानकारी कर उसी के अनुसार धनराशि भरकर चैक कैश करा लेते हैं। इसी तरह सचिन तिवारी से एक कैन्सिल चैक लेकर उसपर फ्रिक्सन पैन से लाईन खींची थी बाद में रू0 185,000/- इस चैक के माध्यम से निकाल लिया था, जिसपर सचिन तिवारी द्वारा थाना-फेस-1, नोयडा मे मु0अ0सं0 45/2020 धारा 420 भादवि का पंजीकृत कराया था।

पुनः कड़ाई से पूछताछ करने पर अंकित ने बताया कि इसके पूर्व 2020 में यह लोग जनपद बुलन्दशहर में थाना कोतवाली देहात से मु0अ0सं0 394/2020 धारा 420/467/468/471 भादवि में जेल जा चुके हैं और सुमित ने बताया कि वह जय चौधरी बुलन्दशहर से एवं थाना फेस-2, नोयडा गौतमबुद्धनगर से भी जेल जा चुका है। इन लोगों द्वारा यह भी बताया गया कि इसी तरह की घटना इन लोगो ने मिलकर थाना बिसरख क्षेत्र में लगभग एक वर्ष पूर्व और थाना सेक्टर-58 में भी लगभग 10 माह पूर्व कर चुके हैं। इसी वर्ष की शुरूआत में इन लोगों द्वारा मिलकर सेक्टर-10 में इसी तरह की घटना को अंजाम दिया है। 

उपरोक्त गिरफ्तार अभियुक्तों के सम्बन्ध में विभिन्न जनपदों में पंजीकृत जिन अभियोगों का अनावरण हुआ है वह निम्न है तथा इस गैग द्वारा किये गये अन्य अपराधों के सम्बन्ध में गहन छानबीन की जा रही हैः-

क्र0सं0 अभियोग धारा थाना जनपद

1 394/2020 420/467/468/471 भादवि कोतवाली देहात बुलन्दशहर

2 181/2021 420/467/468/471 भादवि बीटा-2 नोयडा

3 45/2022 420/467/468/471 भादवि फेस-1 नोयडा

4 1007/21 420/467/468/471 भादवि बिसरख गौतमबुद्धनगर

5 निल/2022 420/467/468/471 भादवि सेक्टर-58 गौतमबुद्धनगर

6 241/2022 420/467/468/471 भादवि जानकीपुरम लखनऊ।

उपरोक्त गिरफ्तार अभियुक्तों को थाना जानकीपुरम, पुलिस कमिश्नरेट लखनऊ व कमिश्नरेट गौतमबुद्धनगर में पंजीकृत अभियोगों में अग्रिम विधिक कार्यवाही स्थानीय पुलिस द्वारा की जा रही है।

Previous Post Next Post