नरेश टिकैत की धमकी : विकास दुबे जैसा नहीं है टिकैत परिवार


मेरठ (मानवी मीडियामेरठ में ऊर्जा भवन पर किसान पंचायत में आए भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कहा कि ये हमारे परिवार को विकास दुबे बनाना चाहते है। हम कह रहे हैं कि हम जिंदों में आग लगा देंगे। हमारे खिलाफ रिपोर्ट तो करके देखो। सरकार ने हमें अपने निशाने पर लिया है। इनकी जुबान काबू में नहीं आ रही है। नरेश ने राकेश टिकैत पर कर्नाटक हमले का भी जिक्र किया। नरेश ने योगी और राजनाथ की तारीफ भी की। ऐसा वीडियो वायरल हो रहा है।

आपको बता दें कि मेरठ समेत पश्चिम उत्तर प्रदेश के जिलों में ट्यूबवेलों पर बिजली का मीटर लगाए जाने के विरोध में सोमवार को किसानों का आक्रोश फूट पड़ा। किसान ट्यूबवेल पर लगाए गए मीटरों को उखाड़ कर अपने साथ ले आए और भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत के नेतृत्व में ऊर्जा भवन का घेराव किया। ट्रैक्टर पर तिरंगा लगाकर किसान ऊर्जा भवन पहुंचे। घेराव, धरना-प्रदर्शन के बाद नरेश टिकैत ने प्रतिनिधिमंडल के साथ पीवीवीएनएल एमडी अरविंद मलप्पा बंगारी से वार्ता की। एमडी ने आश्वासन दिया कि शासन से उनकी मांगों को अवगत कराया जाएगा। उसके बाद किसानों ने धरना, प्रदर्शन समाप्त कर दिया। भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कहा कि किसानों के साथ अन्याय नहीं होने देंगे।

ट्यूबवेलों पर बिजली मीटर के विरोध में सोमवार को मेरठ, सहारनपुर, मुरादाबाद मंडल के विभिन्न जिलों के किसान भाकियू के नेतृत्व में बस, ट्रैक्टर-ट्राली से ऊर्जा भवन पहुंचे। कई किसान ट्यूबवेल से मीटर उखाड़ कर ले आए। ऊर्जा भवन में टेंट लगाकर किसान धरने पर बैठ गए। दोपहर तक नरेश टिकैत का इंतजार होता रहा। दो बजे के बाद नरेश टिकैत यहां पहुंचे। सभी को कहा कि आंदोलन शांतिपूर्ण होना चाहिए। लड़ाई व्यवस्था से है। किसान तो पीड़ित हैं ही। सरकार अब ट्यूबवेल पर मीटर लगाकर किसानों का और उत्पीड़न करना चाहती है। शाम करीब चार बजे तक धरना-प्रदर्शन, घेराव चला।

उसके बाद पीवीवीएनएल एमडी की ओर से नरेश टिकैत को वार्ता का आमंत्रण दिया। भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत के साथ राष्ट्रीय सचिव ओमपाल मलिक, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कुशलपाल आर्य, पश्चिम क्षेत्र अध्यक्ष पवन खटाना, मंडल अध्यक्ष गुड्डू प्रधान, मेरठ के युवा जिलाध्यक्ष अनुराग चौधरी, बब्बन चौधरी आदि ने एमडी से वार्ता की। नरेश टिकैत ने कहा कि ट्यूबवेल पर मीटर किसानों का उत्पीड़न है। इसे बंद किया जाए। एमडी ने कहा कि शासन के संज्ञान में लाया जाएगा। किसानों का उत्पीड़न नहीं होगा। नरेश टिकैत ने वार्ता को सकारात्मक बताकर आंदोलन समाप्त कर दिया।


Previous Post Next Post