राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय लखनऊ द्वारा एक राज्य स्तरीय प्रश्नोतरी प्रतियोगिता, “अन्वेषा 2022” का आयोजन


लखनऊ (मानवी मीडिया) भारत सरकार द्वारा “आजादी का अमृत महोत्सव", भारत की स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में मनाया जा रहा है। इसी परिपेक्ष्य में देश के नागरिकों के गौरवशाली इतिहास, संस्कृति एवं उपलब्धियों को प्रतिष्ठित उत्सव के रूप में मनाने हेतु सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय, भारत सरकार के 27 जून, से 3 जुलाई, 2022 के अंतर्गत आयोजन की जाने वाली कार्यक्रमों की श्रृंखला में राज्य राजधानी क्षेत्रीय कार्यालय, राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (फील्ड ऑपरेशन डिवीज़न), लखनऊ द्वारा एक राज्य स्तरीय प्रश्नोतरी प्रतियोगिता, “अन्वेषा 2022” का आयोजन दिनांक 27 जून, 2022 को लखनऊ के सभागार में किया गया| 

“अन्वेषा 2022" कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्य अतिथि  आलोक कुमार, सचिव, नियोजन विभाग, उत्तर प्रदेश शासन द्वारा किया गया। 'आजादी का अमृत महोत्सव' आयोजन के अंतर्गत उन्होंने “आजादी का अमृत ज्योति" प्रज्वलित किया, जो कि 'आजादी का अमृत महोत्सव' कार्यक्रम के 75 सप्ताहों के उत्सव के अंतर्गत 15 अगस्त, 2023 तक प्रज्वलित रहेगा| 

 सी०एस० मिश्र, उप महानिदेशक, राज्य राजधानी, लखनऊ, ने अपने स्वागत संबोधन में गणमान्य अतिथियों एवं प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा 'आजादी का अमृत महोत्सव' के आयोजन के अंतर्गत राज्य स्तरीय प्रश्नोतरी प्रतियोगिता (Quiz Contest) “अन्वेषा 2022" के उद्देश्य व महत्व पर प्रकाश डाला।  मिश्र, ने “आजादी का अमृत महोत्सव” के अंतर्गत निहित विभिन्न लक्ष्यों व उदेश्यों को प्राप्त करने हेतु छात्रों द्वारा इस प्रकार के कार्यक्रमों में शामिल होने की आवश्यकता व महत्व पर जोर दिया| मिश्र ने आगे जानकारी दी कि “आजादी का अमृत महोत्सव" के साप्ताहिक उत्सव के अंतर्गत विभिन्न कॉलेजों/संस्थानों के छात्रों के लिए राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा “अधिकारिक सांख्यिकी”, विषयक राष्ट्रव्यापी प्रश्नोतरी प्रतियोगिता “अन्वेषा 2022" का 27 जून, 2022 को आयोजन न केवल लखनऊ अपितु देश के समस्त राज्य राजधानियों में एक साथ किया जा रहा है। 

 आलोक कुमार सचिव, नियोजन विभाग, उत्तर प्रदेश शासन ने केंद्र व राज्य सरकारों द्वारा “आजादी का अमृत महोत्सव” के अंतर्गत आयोजित होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों के महत्त्व पर प्रकाश डालते हुए “आजादी का अमृत महोत्सव” कार्यक्रम के अंतर्गत निर्धारित विभिन्न लक्ष्यों एवं उद्देश्यों को प्राप्त करने में छात्रों की भागीदारी व इनके योगदान की महत्ता पर जोर दिया । श्री कुमार ने छात्रों से सांख्यिकी जैसे विषय, जो विज्ञान एवं प्रौघौगिकी सहित सभी विषयों में उपयोग होता है, पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता पर बल दिया तथा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जैसे अन्य तकनीकी एवं प्रोघौगिकी विषयों पर सतत अपडेट रहने हेतु आहवाहन किया । उन्होंने आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में भारत सरकार एवं उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यो का भी उल्लेख किया । 

डॉ० सी०एम० पाण्डेय, निदेशक, (शैक्षणिक व अनुसंधान), डिवाइन ह्रदय संस्थान, लखनऊ ने विशेष अतिथि के रूप में अपने संबोधन में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) के क्षेत्र में सांख्यिकी के महत्व व भूमिका पर प्रकाश डाला एवं जानकारी दी कि किस प्रकार व्यावहारिक विज्ञान के रूप में सांख्यिकी देश के विकास के लिए स्थापित विभिन्न लक्ष्यों व मापदंडो को प्राप्त करने में केंद्र व राज्य सरकारों की योजनाओं व नीति निर्माण में सहायक हो सकती हैं। डॉ० पाण्डेय ने इस विषय पर एक संक्षिप्त प्रस्तुतीकरण भी दिया|  पाण्डेय ने युवा सांख्यिकीविद/छात्रों द्वारा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) और वृहद्द डाटा विश्लेषण (Big Data Analytics) के क्षेत्र में अवसरों की संभावनाओं को तलाशने की आवश्यकता पर बल दिया| 

“अन्वेषा 2022” प्रतियोगिता में विभिन्न महाविद्यालयों/संस्थानों से कुल 34 टीम अर्थात् 68 छात्रों ने भाग लिया, जिसका परिणाम इस प्रकार रहा: 

1.  विकास प्रताप सिंह और  समृधि सरन टीम, डी0ए0वी0डिग्री कॉलेज लखनऊ को रूपए 5000 का 

प्रथम पुरस्कार 2. आकाक्षां यादव और  छवि यादव टीम खुनखुन जी गर्ल्स डिग्री कालेज, लखनऊ को रूपए 3000 ___ का द्वितीय पुरस्कार 3.  अभिषेक शुक्ला और  श्रेया सिंह वैश टीम बी0बी0डी विश्वविद्यालय को रूपए 2000 का तृतीय 

पुरस्कार 

प्रथम पुरस्कार विजेता कॉलेज के प्राचार्य/प्रतिनिधि डॉ० मधु टंडन को  सी०एस० मिश्र, उप महानिदेशक, राज्य राजधानी, क्षेत्रीय कार्यालय, लखनऊ द्वारा “अन्वेषा 2022” की ट्राफी प्रदान की गयी| विभिन्न कॉलेजों/संस्थानों के प्रतिभागियों को भी सहभागिता का प्रमाणपत्र दिया गया| 

 हिमांशु पाण्डेय एवं  अलंकृता पाण्डेय ने “क्विज मास्टर” की भूमिका में कार्यक्रम का संचालन किया। इस कार्यक्रम का सुप्रचालन तंत्र (Logistic Support)  अभय नाथ, वरिष्ठ सांख्यिकी अधिकारी की देखरेख में हुआ। 

इस कार्यक्रम में, डॉ. प्रवीण शुक्ल उप महानिदेशक,  शिवम् श्रीवास्तव, निदेशक,  सुष्मित, निदेशक, रासां० कार्यालय एवं डॉ० दिव्या सरीन मेहरोत्रा, संयुक्त निदेशक, अर्थ एवं संख्या प्रभाग, नियोजन विभाग, उत्तर प्रदेश सरकार, प्रेस सूचना ब्यूरो, भारत सरकार के प्रतिनिधि, विभिन्न कॉलेजों/संस्थानों के प्राचार्यों/प्रतिनिधियों व छात्रों तथा प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के वरिष्ठ प्रतिनिधियों ने भाग लिया| 

अंत में  सुष्मित, निदेशक, रा०सां० कार्यालय, बरेली ने सभी अतिथियों एवं प्रतिभागियों को धन्यवाद् ज्ञापित किया। इस कार्यक्रम में केंद्र व राज्य सरकार के अधिकारियों, शिक्षाविदों, छात्रों सहित लगभग 200 लोगों ने भाग लिया।

Previous Post Next Post