80 फीसदी सीटों पर फिर आ रही भाजपा, बाकी विपक्ष में बंटवारा - योगी’


लखनऊ( मानवी मीडिया) मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि इस बार के चुनाव में जातिवाद की दीवारें तोड़ जनता ने सुरक्षा, सुशासन और विकास को मुद्दा बनाया। समाज को जाति, मत, मजहब के नाम पर बांटने की विपक्ष की कोशिशें नाकामयाब रहीं। दो माह के मैराथन चुनावी अभियान के दौरान मिले अपार जनसमर्थन के बाद यह तय हो गया है कि 10 मार्च को 80 फीसदी सीटों के साथ भारतीय जनता पार्टी की डबल इंजन की सरकार फिर से बनने जा रही है। शेष 20 फीसदी सीटों के लिए विपक्ष में बंटवारा होगा। सात चरणों के विधानसभा चुनाव प्रचार को समाप्त कर शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ पार्टी के राज्य मुख्यालय पर पत्रकारों से संवाद कर रहे थे। पत्रकार वार्ता में मुख्यमंत्री  योगी आदित्यनाथ के साथ पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष  स्वतंत्र देव सिंह, उपमुख्यमंत्री  केशव प्रसाद मौर्य व डा. दिनेश शर्मा भी उपस्थित रहे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 2017 में प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी और तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष श्री अमित शाह के मार्गदर्शन में भाजपा ने लोककल्याण संकल्प पत्र जारी किया था। उसमें प्रदेश को दंगामुक्त और भयमुक्त बनाने की बात कही गई थी। आज बुंदेलखंड, पूर्वांचल, विंध्य क्षेत्र, पश्चिमी और मध्य सहित प्रदेश के सभी हिस्सों में जनता खुद सुरक्षित होने की बात कह रही है। सीएम ने बताया कि महिला, बहन और बेटियों ने पूरे मन से भाजपा को आशीर्वाद दिया है। कई जगह यदि घर के पुरुषों का मत भिन्न रहा तब भी माताओं ने भाजपा को ही चुना है। सीएम ने इसके लिए आभार भी जताया।

कानून-व्यवस्था की चर्चा करते हुए सीएम योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश में चुनाव के दौरान अराजकता का तांडव होता था, लेकिन इस बार छह चरण पूरी तरह शांतिपूर्ण ढ़ंग से सम्पन्न हुए हैं। यह प्रदेश में कानून के राज का परिचायक है। डबल इंजन की सरकार ने जो कहा सो पूरा किया है। सीएम ने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान हमें सभी 75 जिलों में जाने का मौका मिला।  इन 75 जिलों की सभी 403 विधानसभा सीटों पर जो उत्साह नजर आ रहा है, उससे नजर आ रहा है कि भाजपा फिर एक बार सरकार बनाने जा रही है।

’सार्थक हुआ ‘सबका साथ, सबका विकास’ का मंत्र’

मुख्यमंत्री ने कहा कि 2014 से पहले क्षेत्रीय दलों ने जाति, मत, मजहब के आधार पर विभाजित किया था, जिसका नतीजा हुआ कि मूल समस्याओं पर जो ध्यान होना चाहिए था, उस पर ध्यान नहीं दिया गया। 2014 के बाद पहली बार ऐसा हुआ कि प्रधानमंत्री जी ने ‘सबका साथ, सबका विकास’ के मूलमंत्र के साथ काम किया, जिसका परिणाम आपने बीते वर्षों में देखा है। उन्होंने कहा कि देश की आंतरिक व बाह्य सुरक्षा, आस्था का सम्मान, देश के इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट, गरीब कल्याणकारी योजनाओं का लाभ बिना भेदभाव जनता तक पहुंचाने का काम भारतीय जनता पार्टी ने किया है। सीएम ने कहा कि 2017 तक जिस प्रदेश में डेढ़ एक्सप्रेस-वे थे, आज 07 नए बन रहे हैं। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे लोकार्पित हो चुका है, जबकि बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का निर्माण अंतिम चरण में है। लखनऊ-क़ानपुर एक्सप्रेस-वे, गंगा एक्सप्रेस-वे, बलिया और गोरखपुर लिंक एक्सप्रेस-वे का काम तेजी से चल रहा है। तो, गोरखपुर-सिलीगुड़ी और वाराणसी-कोलकाता ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस-वे के लिए केंद्र सरकार युद्धस्तर पर काम कर रही है। सीएम ने कहा कि 2017 के पहले उत्तर प्रदेश की पहचान एक दंगा वाले राज्य के तौर पर थी। अराजकता, टूटी सड़कें, बिजली गायब होना, यही उत्तर प्रदेश की पहचान थी। जिस प्रदेश में आजादी के बाद 70 सालों में मात्र 12 मेडिकल कॉलेज थे, वहां आज हर जिले में मेडिकल कॉलेज शुरू हो रहे हैं। सातवें चरण के चुनाव वाले जिलों का संदर्भ देते हुए उन्होंने बताया कि मीरजापुर, गाजीपुर, जौनपुर में मेडिकल कॉलेज प्रारंभ हो गया है। भदोही में मेडिकल कॉलेज का निर्माण हो रहा है। मऊ, चन्दौली को मेडिकल कॉलेज का उपहार मिलने जा रहा है। वाराणसी में एम्स के समकक्ष चिकित्सा संस्थान तैयार हो रहा है। 46 जिलों में आईसीयू की सुविधा नहीं थी, आज एक भी जिला ऐसा नहीं, जहां आईसीयू बेड न हों। हर जिले में 3-7 लाइफ़ सपोर्ट एम्बुलेंस मौजूद हैं।

’हमारी नीतियों के केंद्र में है गरीब कल्याण’

 2.61 करोड़ लोगों को मिले व्यक्तिगत शौचालय का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन सिर्फ शौचालय बनाने का कार्यक्रम ही नहीं था। बल्कि ये नारी गरिमा व सुरक्षा का प्रतीक भी बना है। उज्ज्वला के माध्यम से महिलाओं को रसोई के धुएं से निजात मिली है तो कार्बन जनित बीमारियों का खतरा भी कम हुआ है। सपा सरकार ने पांच साल में केवल 18000 आवास स्वीकृत किये थे, हमने तो 43 लाख 50 हजार गरीबों के अपना घर का सपना पूरा किया है। सीएम ने सौभाग्य योजना, स्वामित्व योजना, पुलिस आधुनिकीकरण, 08 नए विश्वविद्यालयों की स्थापना, फोरेंसिक इंस्टिट्यूट की स्थापना, ओडीओपी योजना, विश्वकर्मा श्रम सम्मान आदि प्रयासों का जिक्र करते हुए गरीब कल्याण को डबल इंजन की भाजपा सरकार की नीतियों का केंद्र बताया। उन्होंने कहा कि अन्नदाता किसानों को शासन की योजनाओं का भरपूर लाभ देते हुए उनके जीवन में परिवर्तन लाने का काम भाजपा सरकार ने किया। 2 करोड़ 57 लाख किसानों को मिल रही सम्मान निधि हो या फसल बीमा योजना किसानों के जीवन में खुशहाली आई है। सीएम ने कहा कि 2003 से 2017 तक सपा की दो और बसपा की एक सरकार ने मिलकर जितना गन्ना मूल्य भुगतान नहीं किया, उससे कहीं ज्यादा 1.62 लाख करोड़ रुपए का भुगतान डबल इंजन की सरकार ने केवल 05 साल में किया है। कोरोना काल में भी चीनी मिलें चलती रहीं। आज जब तक किसान के पास गन्ना है, तब तक खरीद होती है। सीएम ने कहा कि 05 लाख युवाओं को पारदर्शी व्यवस्था के माध्यम से सरकारी नौकरी मिली, 01 करोड़ महिलाओं को स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से स्वावलम्बन से जोड़ा गया, 56 हजार बीसी सखी, हर गांव में रोजगार सहायक, 02 करोड़ से अधिक युवाओं को निजी क्षेत्र में रोजगार से उपलब्ध कराने की कोशिशों के ही परिणाम है कि आज प्रदेश का नौजवान, किसान, महिला भाजपा के साथ है। प्रधानमंत्री मोदी के सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास और सबका प्रयास नारे को सार्थक होते देख उत्तर प्रदेश के मतदाताओं ने डबल इंजन की सरकार बनाने के लिए मतदान किया है। मुख्यमंत्री ने पूरे विश्वास के साथ कहा कि 10 मार्च को एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी के डबल इंजन की सरकार प्रदेश में बनने जा रही है।

’जन आकांक्षाओं की पूर्ति का प्रतीक है अयोध्या, काशी, मथुरा का विकास - सीएम’

भारतीय आस्था के मानबिन्दुओं के सम्मान का जिक्र करते हुए सीएम योगी ने अयोध्या में निर्माणाधीन श्रीराम मंदिर का भी उल्लेख किया। सीएम ने कहा कि अयोध्या दीपोत्सव, काशी की देव दीपावली, बरसाना का रंगोत्सव दुनिया को भारत की संस्कृति से परिचय करा रहा है। विंध्य धाम, नैमिष धाम, शुकतीर्थ के विकास का काम तेजी से चल रहा है। यह आस्था का सम्मान है।

Previous Post Next Post