सप्तम चरण 54 विधान सभा मतदान सम्पन्न


लखनऊ (मानवी मीडिया )उत्तर प्रदेश के सप्तम चरण में 54 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के सामान्य निर्वाचन-2022 के लिए आज दिनांक 07 मार्च, 2022 को मतदान शान्तिपूर्वक सम्पन्न हो गया है। 383-चकिया (अ0जा0) (जनपद-चन्दौली) तथा 401-राबटर््सगंज (जनपद-सोनभद्र) एवं 403-दुद्धी (अ0ज0जा0) (जनपद-सोनभद्र) विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान प्रातः 7.00 बजे से शुरू होकर सायं 4.00 बजे तथा शेष 51 विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रांे में मतदान प्रातः 7.00 बजे से शुरू होकर सायं 6.00 बजे समाप्त हुआ।

उक्त निर्वाचन 09 जनपदों, यथा- आजमगढ़, मऊ, जौनपुर, गाजीपुर, चन्दौली, वाराणसी, मिर्जापुर, भदोही तथा सोनभद्र में अवस्थित 54 विधान सभा क्षेत्रों के लिए हुआ है।

सायं 5ः00 बजे तक जनपदों से प्राप्त सूचना के आधार पर प्रदेश के 09 जनपदों में कुल 54.18 प्रतिशत मतदान हुआ है। 

भारत निर्वाचन आयोग द्वारा निष्पक्ष, सुरक्षित एवं शांतिपूर्ण चुनाव हेतु व्यापक इंतजाम एवं सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित किये गये थे। 

कोविड-19 के दृष्टिगत मतदान दिवस को मतदेय स्थलों पर थर्मल स्कैनर, हैण्ड सैनीटाइजर, ग्लव्स, फेस मास्क, फेस शील्ड, पीपीई किट, साबुन, पानी आदि की पर्याप्त मात्रा में व्यवस्था की गई थी। 

विधान सभा सामान्य निर्वाचन-2022 के लिए होने वाले सप्तम चरण के मतदान में 2.06 करोड़ मतदाताओं (1.09 करोड़ पुरूष, 97.08 लाख महिला तथा 1027 तृतीय लिंग) में से जनपदों से प्राप्त सूचना के अनुसार सायंकाल 5ः00 बजे तक 54.18 प्रतिशत मतदाताओं द्वारा अपने मताधिकार का प्रयोग किया गया। 

उल्लेखनीय है कि 383-चकिया (अ0जा0) (जनपद-चन्दौली) तथा 401-राबटर््सगंज (जनपद-सोनभद्र) एवं 403-दुद्धी (अ0ज0जा0) (जनपद-सोनभद्र) में मतदान का आधिकारिक समय अपराह्न 4ः00 बजे तक था। अतः उक्त 03 विधान सभा क्षेत्रों में अपराह्न 4ः00 बजे तक मतदेय स्थल पर उपस्थित सभी मतदाताओं द्वारा अपने मताधिकार का प्रयोग किया गया। शेष 51 विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान का आधिकारिक समय सायं 6ः00 बजे तक था। अतः इन विधान सभा क्षेत्रों में सायं 6ः00 बजे तक मतदेय स्थल पर उपस्थित सभी मतदाताओं द्वारा अपने मताधिकार का प्रयोग किया गया। इसके दृष्टिगत मतदान प्रतिशत में बढ़ोत्तरी होना स्वाभाविक है, जिसके सम्बन्ध में पृथक से सूचित किया जायेगा।

मतदान की प्रक्रिया को स्वतंत्र एवं निष्पक्ष बनाये रखे जाने के उद्देश्य के लिए प्रभावी पर्यवेक्षण हेतु कुल 13712 मतदेय स्थलों पर वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गई, जिसका पर्यवेक्षण जिला निर्वाचन अधिकारी, मुख्य निर्वाचन अधिकारी एवं भारत निर्वाचन आयोग तीनोें स्तर पर किया गया। उक्त के अतिरिक्त 1328 मतदेय स्थलों पर वीडियोग्राफी की भी व्यवस्था की गई थी।

सप्तम चरण में कुल 548 आदर्श मतदान केन्द्र, 81 समस्त महिलाकर्मी मतदेय स्थल बनाये गये थे, जिससे मतदाताओं को सुखद निर्वाचन प्रक्रिया की अनुभूति हो सके। पीडब्ल्यूडी मतदाताओं के लिए मतदान केन्द्रों पर व्हील चेयर एवं जगह-जगह पर  वॉल्यून्टियर की व्यवस्था की गई थी, जो कि पीडब्ल्यू मतदाताओं की सहायता के लिए उपलब्ध थी।

सप्तम चरण के मतदान हेतु पोस्टल बैलट हेतु अर्ह 04 श्रेणियां (यथा- 80 वर्ष की आयु से अधिक के मतदाता, दिव्यांग, अनिवार्य सेवायें तथा मतदान कार्मिक) कुल 74988 मतदाताओं को पोस्टल बैलट निर्गत किया गया, जिसमें से 62750 मतदाताओं द्वारा पोस्टल बैलट कास्ट किया गया। 80 वर्ष की आयु से अधिक के मतदाता एवं  दिव्यांग मतदाताओं में जिनके द्वारा पोस्टल बैलट का विकल्प चुना गया था, उनके पते पर जाकर मतदान दल द्वारा मतदान कराया गया। प्रक्रिया को स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं पारदर्शी बनाये जाने हेतु मतदान दल के साथ एक माइक्रो आब्जर्वर तथा वीडियोग्राफर की  तैनाती की गई थी एवं प्रत्याशियों को सम्पूर्ण प्रक्रिया को देखने हेतु स्वयं अथवा अपने अभिकर्ता को भेजने के लिए मतदान दल का शिड्यूल उपलब्ध कराया गया था एवं इस श्रेणी के अर्ह मतदाताओं की सूची भी प्रत्याशियों को उपलब्ध कराई गई थी। इस मतदान प्रक्रिया की पूरी वीडियोग्राफी कराई गई है। उपरोक्त के अतिरिक्त कुल 51028 सेवा मतदाताओं को भी रिटर्निंग अधिकारी द्वारा इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से (ईटीपीबीएस) पोस्टल बैलट का प्रेषण किया गया।

सप्तम चरण के निर्वाचन में कुल 54 विधान सभा क्षेत्रों में 613 प्रत्याशी मैदान में हैं, जिनमें से 75 महिला प्रत्याशी हैं। उपरोक्त में से विधान सभा क्षेत्र 366-जौनपुर से अधिकतम 25 प्रत्याशी तथा 384-पिन्ड्रा एवं 386-शिवपुर से न्यूनतम 06 प्रत्याशी मैदान में हैं।

उक्त चुनाव में कुल 23614 मतदेय स्थल तथा 12210 मतदान केन्द्र थे। कोविड-19 के दृष्टिगत भारत निर्वाचन आयोग द्वारा मतदेय स्थलों पर मतदाताओं की अधिकतम संख्या 1250 तक रखने के निर्देश दिये गये थे। सभी मतदेय स्थलों पर रैम्प, शौचालय तथा पीने के पानी की सुविधा सुनिश्चित कराई गई थी। 

मतदान पर सतर्क दृष्टि रखने के लिए आयोग द्वारा 52 सामान्य प्रेक्षक, 09 पुलिस प्रेक्षक तथा 17 व्यय प्रेक्षक भी तैनात किये गये थे। उक्त के अतिरिक्त 1621 सेक्टर मजिस्ट्रेट, 195 जोनल मजिस्ट्रेट, 222 स्टैटिक मजिस्ट्रेट तथा 2796 माइक्रो ऑब्जर्वर भी तैनात किये गये थे। 

उपरोक्त के अतिरिक्त भारत निर्वाचन आयोग द्वारा राज्य स्तर पर एक वरिष्ठ सामान्य प्रेक्षक, 01 वरिष्ठ पुलिस प्रेक्षक तथा 02 वरिष्ठ व्यय प्रेक्षक भी तैनात किये गये थे, जिनके द्वारा क्षेत्र में रहकर सम्पूर्ण निर्वाचन प्रक्रिया का पर्यवेक्षण किया गया।

निर्वाचन की घोषणा के दिनांक से सप्तम चरण के 09 जनपदों में कुल रू0-2.28 करोड़ नकद तथा 1.92 लाख ली0 शराब की बरामदगी हुई है, जिसके सम्बन्ध में विधिक कार्यवाही की जा रही है। 

फ्लाइंग स्क्वायड, स्टैटिक सर्विलांस टीम एवं अन्य के द्वारा कुल 93 प्रकरण आदर्श चुनाव संहिता के उल्लंघन हेतु दर्ज किये गये, जिन पर विधिक कार्यवाही की जा  रही है।

जन सामान्य के हेतु आदर्श चुनाव संहिता के उल्लंघन हेतु भारत निर्वाचन आयोग द्वारा विकसित मोबाइल एप सी-विजिल पर कुल 290 शिकायतें प्राप्त हुईं, जिनमें जॉंच के दौरान 108 शिकायतें सत्य पाई गईं एवं उन पर कार्यवाही की गई।

चुनाव को शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराने हेतु पर्याप्त मात्रा में अर्द्ध सैनिक बलों की तैनाती की गई थी। प्रत्येक मतदान केन्द्र पर अर्द्ध सैनिक बलों की तैनाती सुनिश्चित  की गई थी एवं ईवीएम के स्ट्रांग रूम की सुरक्षा की जिम्मेदारी भी अर्द्ध सैनिक बलों को दी गई है।

चुनाव में सभी 23614 मतदेय स्थलों हेतु मतदान के लिए आवश्यक ईवीएम एवं वीवीपैट तथा अलग-अलग जनपदों में पर्याप्त मात्रा में रिजर्व ईवीएम एवं वीवीपैट की व्यवस्था की गई थी एवं मतदान के दौरान जहॉं कहीं भी शिकायत प्राप्त हुई हैं, वहॉं तत्काल प्रभावी कार्यवाही करते हुए ईवीएम एवं वीवीपैट को बदलने की कार्यवाही की गई है।  जनपदों से प्राप्त सूचना के अनुसार मॉक पोल के दौरान कुल 0.48 प्रतिशत बी0यू0, 

0.55 प्रतिशत सी0यू0 एवं 1.13 प्रतिशत वीवीपैट बदले गये एवं मतदान प्रारम्भ होने के  पश्चात सायं 5ः00 बजे तक कुल 0.30 प्रतिशत बी0यू0, 0.26 प्रतिशत सी0यू0 एवं 1.16 प्रतिशत वीवीपैट बदले गये।

चुनाव पूरी तरीके से शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न कराया गया एवं किसी अप्रिय घटना की कोई सूचना प्राप्त नहीं हुई है।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा भारत निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशन में सफलतापूर्वक आयोजित सप्तम चरण के मतदान हेतु प्रदेश के सभी मतदाताओं, सभी राजनीतिक दलों, निर्वाचन व्यवस्था में लगे सिविल कार्मिक, पुलिस कार्मिक, केन्द्रीय रिजर्व बलांे के कार्मिक, जिला निर्वाचन अधिकारी, समस्त रिटर्निंग अधिकारी, निर्वाचन ड्यूटी में लगे अन्य जनपद स्तरीय अधिकारी, कानून व्यवस्था में लगे हुए पुलिस अधिकारी, सभी जनपदों में अन्य प्रदेशों से आये हुए प्रेक्षक, भारत निर्वाचन आयोग के राज्य स्तरीय विशेष प्रेक्षक, मीडिया के सभी सदस्य, जिनके द्वारा पूरी निर्वाचन प्रक्रिया को कवर किया गया एवं प्रत्यक्ष/अप्रत्यक्ष रूप से सभी ऐसे नागरिक, जिनके द्वारा निर्वाचन प्रक्रिया में सहयोग दिया गया है, सभी को धन्यवाद ज्ञापित किया गया।


Previous Post Next Post