गाजीपुर प्रशासन ने शहीद की उपेक्षा की , पीठाधीश्वर ने संभाली जिम्मेदारी

 


गाजीपुर (मानवी मीडिया): 1971 भारत पाकिस्तान युद्ध के नायक एवं महावीर चक्र विजेता शहीद रामउग्रह पांडेय के 50वें शहादत दिवस पर गाजीपुर जिला प्रशासन द्वारा उपेक्षा बरते जाने की सूचना से आहत सिद्धपीठ हथियाराम मठ पीठाधीश्वर व जूना अखाड़े के वरिष्ठ महामंडलेश्वर स्वामी भवानीनंदन यति महाराज ने कार्यक्रम की व्यवस्था खुद करने का संकल्प लिया।

शहीद की पुत्री सुनीता पांडेय कहा था कि स्थानीय प्रशासन महावीर चक्र विजेता के 50वीं शहादत दिवस कार्यक्रम को लेकर कोई रुचि नहीं दिखा रहा है। कार्यक्रम की तैयारी में किसी प्रकार का सहयोग नहीं किया गया। इसकी जानकारी प्राप्त होते ही स्वामी भवानीनंदन यति महाराज ने शहीद के परिजनों से मुलाकात कर कार्यक्रम की व्यवस्था अपने स्तर पर करने की जिम्मेदारी ली है।

मठ द्वारा कार्यकर्ताओं के माध्यम से पूरी व्यवस्था संभाली जा रही है। परिजनों से भेंट कर महामंडलेश्वर भवानीनन्दन यति जी महाराज ने कहा कि शहीद के श्रद्धांजलि कार्यक्रम में किसी प्रकार की कोई कमी नहींआने दी जाएगी और शहादत का सम्मान किया जाएगा। इस सम्बन्ध में उपजिलाधिकारी जखनियां ने कुछ भी कहने से इंकार कर दिया।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में 40 घंटे तक नहीं थमेगी बारिश:मौसम वैज्ञानिक