एक और झटका, घरेलू रसोई गैस सिलेंडर फिर हुआ महंगा


नई दिल्ली (मानवी मीडिया): महंगाई की मार झेल रहे आम आदमी को एक और झटका लगा है। घरेलू एलपीजी सिलेंडर एक बार फिर महंगा हो गया है। नॉन-सब्सिडी वाले एलपीजी सिलेंडरों की कीमतों में बुधवार यानी आज एक बार फिर बढ़ोतरी की गई है। जानकारी के अनुसार नॉन सब्सिडी वाले 14.2 किलो के सिलेंडर पर 15 रुपए बढ़ाए गए हैं, जिससे दिल्ली में उसकी कीमत 899 रुपए हो गई है। वहीं 5 किलो वाला सिलेंडर अब 502 रुपए में मिलेगा।

दिल्ली- मुंबई में नॉन-सब्सिडी वाले घरेलू एलपीजी सिलेंडर की कीमत 884.50 रुपए से अब 899.50 रुपए हो गई है। पटना में अब एलपीजी सिलेंडर के लिए 1000 में से केवल 2 रुपए कम चुकाने पड़ेंगे।

सिर्फ इसी साल की बात करें तो 1 जनवरी को गैस सिलेंडर 694 रुपये का था। 1 सितंबर को कीमत 884 रुपए हो गई। फिर 17 अगस्त से 1 सितंबर के बीच 15 दिन में 50 रुपए की महंगाई हो गई। साफ है कि पिछले 8 महीने में 190 रुपए की महंगाई जनता के घर की GDP बिगाड़ने वाले सिलेंडर में आ चुकी है।

इससे पहले एक अक्टूबर को केवल 19 किलो वाले कमर्श‍ियल सिलेंडरों के दाम बढ़ाए गए थे। इसमें पेट्रोलियम कंपनियों ने कमर्श‍ियल सिलेंडर के दाम में 43.5 रुपए की भारी बढ़त की थी। इससे रेस्टोरेंट, ढाबे आदि पर खाना महंगा होने की आशंका बढ़ गई थी।

सरकार ने बढ़ाए एलपीजी गैस सिलेंडर के दाम 

फिलहाल दिल्ली में 19 किलो का कमर्श‍ियल सिलेंडर 1736.5 रुपए का हो गया है। पहले यह 1693 रुपए का था। कोलकाता में 19 किलो वाले कमर्श‍ियल सिलेंडर की कीमत 1805.5 रुपए हो गई है। पहले यह 1770.5 रुपए थी। बता दें कि पेट्रोलियम कंपनियां हर 15 दिन पर एलपीजी सिलेंडर के दाम की समीक्षा करती हैं।

त्योहारों से पहले महंगाई का एक और झटका, LPG गैस सिलेंडर के बढ़े दाम, यहां चेक करें अपने शहर के नए रेट्स

सरकार के कहने पर एक तरफ देश में एक करोड़ से ज्यादा लोगों ने अपनी गैस सब्सिडी छोड़ी थी, ताकि दूसरे गरीब लोगों को सिलेंडर देकर उन्हे चूल्हे के धुएं से आजादी दी जाए, लेकिन अब सब्सिडी छोड़ने वाले मिडिल क्लास, लोवर मिडिल क्लास परिवार भी महंगे सिलेंडर के आगे लाचार दिख रहे हैं।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र