गुजरात के हीरा कारोबारी के 23 ठिकानों पर आयकर का छापा,


नई दिल्ली (मानवी मीडिया): आयकर विभाग ने गुजरात के एक अग्रणी हीरा निर्माता एवं निर्यातक के यहां छापेमारी में करोड़ों रूपये की कर चोरी का पता लगाया है। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने बताया कि समूह के परिसर पर यह छापेमारी 22 एवं 23 सितंबर को शुरू की गई। इस समूह का महाराष्ट्र के मुंबई और गुजरात के सूरत, नवसारी, मोरबी और वांकानेर (मोरबी) में टाइल उत्पादन का व्यवसाय भी है। छापेमारी की कार्रवाई अब भी चल रही है।

सीबीडीटी ने एक बयान में दावा किया, ‘आंकड़ों के शुरुआती आकलन में पता चला कि समूह ने 518 करोड़ रूपये के छोटे और पॉलिश वाले हीरों की खरीद और बिक्री बिना हिसाब-किताब के की।’बयान में कहा गया कि छापेमारी के दौरान 1.95 करोड़ रूपये की नकदी और गहने बरामद किए गए, 8900 कैरेट के हीरों का भंडार भी बरामद किया जिसकी कीमत 10.98 करोड़ रूपये है। इन बरामद चीज़ों का कोई लेखा जोखा नहीं है। इसमें बताया गया, ‘बड़ी संख्या में ग्रुप के लॉकरों को भी चिह्नित किया गया है।’ वक्तव्य के अनुसार आंकड़ों से पता चला है कि पिछले दो साल में इस कंपनी के माध्यम से 189 करोड़ रूपये की खरीद और 1040 करोड़ रूपये की बिक्री की गई।


’कर विभाग के लिए नीति बनाने वाली संस्था ने कहा कि समूह आयात के माध्यम से कच्चे हीरों की ‘प्रमुख खरीद’ कर रहा था और हांगकांग में पंजीकृत अपनी कंपनी के माध्यम से तैयार बड़े हीरे की निर्यात बिक्री कर रहा था। इसे प्रभावी रूप से भारत से ही नियंत्रित और प्रबंधित किया जाता है। डेटा से पता चलता है कि इसके जरिए पिछले दो वर्षों में 189 करोड़ रुपए की खरीद और 1,040 करोड़ रुपए की बिक्री की है।’ केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड ने कहा कि टाइल्स के कारोबार से संबंधित शेयरों की बिक्री के लेन-देन की जांच की गई, जिसमें 81 करोड़ रुपये की बेहिसाब आय का पता चला।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र