योगी बोले ...जब सब हार गए तो एक सीट के लिए इतने बबाल की क्या जरूरत थी.....


इटावा (मानवी मीडिया): उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के बढ़पुरा इलाके में ब्लाक प्रमुख चुनाव के दरम्यान भारतीय जनता पार्टी के नेताओ की ओर से किये उग्र बबाल को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पार्टी नेताओं की जमकर के लताड़ लगाई । मुख्यमंत्री इटावा के भाजपा नेताओ से इतने गुस्से मे दिखे उन्होंने साफ शब्दो मे कहा कि जब सब सीटे हार गए तो केवल एक सीट के लिए इतने बबाल की जरूरत क्या थी ।भारतीय जनता पार्टी के भरोसेमंद सूत्रो ने दावे के साथ बताया कि मुख्यमंत्री की नाराजगी प्रधानमंत्री की ओर से मिले संकेत के बाद दिखाई दी है। 

सूत्रो के बताया कि वैसे तो विपक्षी दल सत्तारूढ दल के लोगो पर आरोप लगाते थे लेकिन भाजपाइर्यो के उग्र व्यवहार से कुपित एसपी सिटी प्रशांत कुमार ने अपने अफसर को दी जानकारी मे भाजपाई की कलई खोल दी। वायरल वीडियो को खुद प्रधानमंत्री ने भी देखा उसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात की जिसके बाद उग्र भाजपाई के खिलाफ कानूनी कार्यवाही शुरू की गई। इस कार्यवाही से बचने के लिए भाजपाई ने लखनऊ की दौड लगाई ।भाजपाई सूत्रो का दावा है कि इटावा के भाजपाईयो के उग्र तांडव से देश के प्रधानमंत्री बेहद नाराज दिखे है क्यो कि इससे उत्तरप्रदेश की छवि खराब हुई । इसी कारण प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री योगी से भी नाराजगी जताई और मुख्यमंत्री योगी की नाराजगी के बाद इटावा के भाजपाई बगले झांकते हुए नजर आये है ।10 जुलाई को मतदान वाले दिन इटावा के बढ़पुरा ब्लाक में दोपहर बाद हुए हंगामे के बीच इटावा के एसपी सिटी प्रशांत कुमार प्रसाद को भारतीय जनता पार्टी के नेता विमल भदौरिया ने उस वक्त थप्पड़ मार कर के जमीन पर गिरा दिया था जब मतदान केंद्र के बाहर भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष अजय धाकरे और इटावा सदर की एमएलए सरिता भदौरिया भारी भीड़ के साथ मतदान को प्रभावित करने के लिए जा पहुंची थी।

बड़ी तादाद में यहां पर गोलियां भी चलाई गई थी। डीएम एसएसपी के पहुंचने के बाद भी गोलियों का चलाया जाना बदस्तूर जारी रहा । इस प्रकरण के बाद इटावा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डा. बृजेश कुमार सिंह के निर्देश पर भारतीय जनता पार्टी के हिस्ट्रीशीटर नेता विमल भदौरिया समय समय 125 लोगों के खिलाफ विभिन्न संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया । इसी बीच पुलिस ने छापेमारी करके आरोपियों की गिरफ्तारी करना भी शुरू कर दिया। इस गिरफ्तारी से बचने के लिए भारतीय जनता पार्टी के नेता अपनी सफाई देने के लिए और बचाव में मदद के लिए राजधानी लखनऊ जाकर के उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ,प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और प्रभारी मंत्री सूर्य प्रताप शाही से जाकर के मिले।

बढ़पुरा ब्लाक प्रमुख चुनाव में फायरिग, पथराव व एसपी सिटी को थप्पड़ मारने के मामले में नामजद भाजपा नेता विमल भदौरिया की तलाश पुलिस बुधवार को भी लगातार तीसरे दिन करती रही । हालांकि बुधवार को पुलिस को कोई सफलता नहीं मिली । विमल भदौरिया की तलाश में मध्य प्रदेश के ग्वालियर भिड समेत दूसरे जिलों में छापामारी की थी। सोमवार की रात को पुलिस ने दो आरोपितों विवेक चौधरी व श्याम सिंह भदौरिया को गिरफ्तार किया था। मामले में पुलिस की छह टीमें लगातार छापे मार रहीं हैं।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में 40 घंटे तक नहीं थमेगी बारिश:मौसम वैज्ञानिक