मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह के खिलाफ वसूली का केस दर्ज, 7 अन्य कर्मियों पर भी एफ आई आर मुंबई (


मुंबई (मानवी मीडिया): मुंबई पुलिस ने पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के खिलाफ वसूली का केस दर्ज किया है। परमबीर सिंह के अलावा 7 अन्‍य लोगों के खिलाफ भी पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है जिसमें 2 सिविलियन और 6 पुलिस वाले शामिल हैं। इन पुलिसवालों में मुंबई क्राइम ब्रांच के डीसीपी अकबर पठान का नाम भी शामिल है। पुलिस ने दो सिविलियन को गिरफ्तार किया है, जिसमें सुनील जैन और पुनमिया नाम का आरोपी शामिल है। मुंबई के मरीन ड्राइव पुलिस स्टेशन में पुलिस ने FIR दर्ज की है।

मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह के खिलाफ वसूली का केस दर्ज, 6 पुलिसकर्मियों समेत सात अन्य पर भी FIR

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह पर 2015 से 2018 तक तबादला होने के बाद भी सरकारी आवास का इस्तेमाल करने पर 24 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। परमबीर जब ठाणे के पुलिस कमिश्नर थे तब 2 सरकारी आवासों का इस्तेमाल कर रहे थे।

परमबीर सिंह पर 2018 तक 54 लाख 10 हजार 545 रुपये का जुर्माना लगाया गया था, जिसमें से उन्होंने 29 लाख 43 हजार का भुगतान कर दिया है, लेकिन अभी भी 24 लाख 66 हजार का भुगतान बाकी है। परमबीर सिंह उस समय मालाबार हिल के नीलिमा अपार्टमेंट में रह रहे थे।

सूत्रों के मुताबिक, 24 लाख रुपये का यह जुर्माना उनके वेतन से या सेवानिवृत्ति के बाद मिलने वाले पैसो में से वसूला जा सकता है। परमबीर इस समय होमगार्ड के DG हैं।

परमबीर सिंह ने एनसीपी के सीनियर नेता और महाराष्ट्र के तत्कालीन गृहमंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे। इन आरोपों के बाद विवाद काफी बढ़ गया था। कुछ ही दिन बाद अनिल देशमुख को पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

परमबीर सिंह ने कोर्ट में याचिका दायर कर आरोप लगाए थे कि अनिल देशमुख के खिलाफ शिकायत करने के बाद से उन्हें राज्य सरकार की तरफ से कई तरह की जांच का सामना करना पड़ रहा है। साथ ही उन्होंने इन मामलों को महाराष्ट्र से बाहर ट्रांसफर किए जाने और सीबीआई जैसी किसी स्वतंत्र एजेंसी से जांच कराने की भी मांग की थी।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र