21 जून, से आंशिक कोरोना कफ्र्यू में सप्ताह के 05 दिन सुबह 7 बजे से रात्रि 9 बजे तक छूट दी जाए

 मुख्यमंत्री ने ‘ट्रेस, टेस्ट एण्ड ट्रीट’ पॉलिसी को प्रभावी ढंग से जारी रखने के निर्देश दिए

कोरोना संक्रमण से बचाव के संबंध में लोगों को निरन्तर जागरूक किये जाने पर बल

सोमवार 21 जून, 2021 से  आंशिक कोरोना कफ्र्यू में सप्ताह

के 05 दिन सुबह 7 बजे से रात्रि 9 बजे तक छूट दी जाए

मास्क, दो-गज की दूरी तथा सैनिटाइजर की अनिवार्यता के साथ

इस संबंध में विस्तृत गाइडलाइन्स आज ही निर्गत कर दी जाएं

शनिवार एवं रविवार को साप्ताहिक बंदी के दौरान व्यापक स्तर

पर स्वच्छता, सैनिटाइजेशन एवं फॉगिंग की कार्यवाही जारी रखी जाए

बाजारों आदि सार्वजनिक स्थानों पर भीड़ एकत्र

न होने पाए, इसके लिए प्रभावी प्रयास किये जाएं

किसी भी जनपद में कोरोना संक्रमण के एक्टिव मामलों की संख्या 500 से अधिक हो

जाने पर संबंधित जनपद में आंशिक कोरोना कफ्र्यू में अनुमन्य सभी छूट समाप्त हो जाएंगी

वर्तमान में प्रदेश में कोविड संक्रमण के एक्टिव मामलों

की संख्या 05 हजार से भी कम होकर 4,957 रह गई

पिछले 24 घण्टों में 2,73,426 कोविड टेस्ट किये गये, राज्य

में अब तक 5.5 करोड़ से अधिक कोरोना टेस्ट किए सम्पन्न

राज्य में कोरोना संक्रमण की रिकवरी दर 98.4 प्रतिशत

 ग्रामीण इलाकों में ग्राम पंचायत तथा नगरीय क्षेत्रों में वाॅर्ड को केंद्र

बिंदु बनाकर कोविड वैक्सीनेशन की कार्ययोजना बनाई जानी चाहिए

वैक्सीनेशन का कार्य योजनाबद्ध ढंग से करते हुए 21 जून, 2021 तक कम से कम 06 लाख कोरोना वैक्सीन प्रतिदिन एडमिनिस्टर करने का प्रयास किया जाना चाहिए

01 जुलाई, 2021 से प्रतिदिन 10 लाख कोरोना वैक्सीन एवं उसके

एक सप्ताह पश्चात से 12 लाख कोरोना वैक्सीन प्रतिदिन

एडमिनिस्टर करने के लक्ष्य के साथ कार्य किया जाए

राज्य में अब तक 2.5 करोड़ से अधिक कोरोना वैक्सीन एडमिनिस्टर की जा चुकी

पर्याप्त संख्या में वैक्सीनेटर की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए नर्सिंग एवं पैरामेडिकल के तृतीय एवं चतुर्थ वर्ष के विद्यार्थियों का प्रशिक्षण भी कराया जाए

निगरानी समितियों द्वारा स्क्रीनिंग के पश्चात लक्षण युक्त तथा संदिग्ध संक्रमित व्यक्तियों को मेडिसिन किट उपलब्ध कराने का कार्य सुचारु ढंग से संचालित रहे

26 जून 2021 से कोविड-19 के लक्षण युक्त अथवा संदिग्ध संक्रमित बच्चों को

निगरानी समितियों के माध्यम से निःशुल्क दवाई किट उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई

 ब्लैक फंगस के मरीजों को भारत सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई दवाओं के अतिरिक्त, विशेषज्ञों के परामर्श के अनुसार वैकल्पिक दवाएं भी उपलब्ध करायी जाएं

सामुदायिक, प्राथमिक एवं उप स्वास्थ्य केन्द्रों तथा हेल्थ एवं वेलनेस

सेण्टर के सुदृढ़ीकरण कार्य की गति को और तेज करने के निर्देश

 पीकू तथा नीकू का निर्माण कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा

 निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेजों की स्थापना कार्य की गति बढ़ाई जाए

राज्य में कार्यशील, निर्माणाधीन एवं स्वीकृत कुल ऑक्सीजन संयंत्रों की

संख्या 533, इनमें से कार्यशील ऑक्सीजन संयंत्रों की संख्या बढ़कर 101 हुई

जनपदों में उपलब्ध सभी वेंटिलेटर्स को अभियान चलाकर क्रियाशील

कराया गया, अब तक 99.3 प्रतिशत वेंटिलेटर कार्यशील हो गए

 एम0एस0पी0 के तहत अब तक लगभग 12 लाख 80 हजार किसानों से

55.81 लाख मीट्रिक टन से अधिक गेहूं की खरीद

 ईज आफ डूइंग बिजनेस के तहत रिफॉर्म्स की

कार्यवाही को समयबद्ध ढंग से आगे बढ़ाया जाए

विभिन्न निर्माण परियोजनाओं के कार्य में तेजी लायी जाए, निर्माण कार्यों की

गुणवत्ता के साथ किसी भी स्तर पर कोई शिथिलता नहीं बरती जानी चाहिए

वाराणसी में शाही नाले से संबंधित

निर्माण कार्यों को तेजी से पूर्ण करने के निर्देश


लखनऊ: (मानवी मीडिया)उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने ‘ट्रेस, टेस्ट एण्ड ट्रीट’ पॉलिसी को प्रभावी ढंग से जारी रखने के निर्देश देते हुए कहा कि कोरोना वायरस कमजोर हुआ है, किन्तु अभी समाप्त नहीं हुआ। इसलिए थोड़ी लापरवाही भी भारी पड़ सकती है। उन्होंने कोरोना संक्रमण से बचाव के संबंध में लोगों को निरन्तर जागरूक किये जाने पर बल दिया।

मुख्यमंत्री आज यहां अपने सरकारी आवास पर आहूत एक उच्च स्तरीय बैठक में प्रदेश में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सोमवार 21 जून, 2021 से आंशिक कोरोना कफ्र्यू में सप्ताह के 05 दिन सुबह 7 बजे से रात्रि 9 बजे तक छूट दी जाए। मास्क, दो-गज की दूरी तथा सैनिटाइजर की अनिवार्यता के साथ इस संबंध में विस्तृत गाइडलाइन्स आज ही निर्गत कर दी जाएं। उन्होंने कहा कि शनिवार एवं रविवार को साप्ताहिक बंदी के दौरान व्यापक स्तर पर स्वच्छता, सैनिटाइजेशन एवं फॉगिंग की कार्यवाही जारी रखी जाए।

मुख्यमंत्री  ने कहा कि बाजारों आदि सार्वजनिक स्थानों पर भीड़ एकत्र न होने पाए, इसके लिए प्रभावी प्रयास किये जाएं। मास्क के प्रयोग, दो-गज की दूरी के नियम का अनिवार्य रूप से पालन कराया जाए। सभी दुकानों एवं प्रतिष्ठानों में अनिवार्य रूप से सेनीटाइजर उपलब्ध हो एवं उसका इस्तेमाल किया जाए। पुलिस द्वारा व्यापक रूप से पेट्रोलिंग की जाए तथा आवागमन को सुचारु बनाये रखने तथा कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कराने के लिए व्यापक रूप से पब्लिक एड्रेस सिस्टम का प्रयोग किया जाए। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की दैनिक रिपोर्ट के अनुसार किसी भी जनपद में किसी दिन कोरोना संक्रमण के एक्टिव मामलों की संख्या 500 से अधिक हो जाने पर संबंधित जनपद में आंशिक कोरोना कफ्र्यू में अनुमन्य सभी छूट समाप्त हो जाएंगी।

मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि विगत 24 घण्टों में प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 294 नए मामले प्रकाश में आए हैं। इसी अवधि में 592 संक्रमित व्यक्तियों का सफल उपचार करके डिस्चार्ज किया गया। वर्तमान में प्रदेश में कोविड संक्रमण के एक्टिव मामलों की संख्या 05 हजार से भी कम होकर 4,957 रह गई है। पिछले 24 घण्टों में 2,73,426 कोविड टेस्ट किये गये हैं। इसमें संक्रमण की पॉजिटिविटी दर मात्र 0.1 प्रतिशत रही। माह जून 2021 में अब तक कोरोना संक्रमण की औसत पॉजिटिविटी दर 0.3 प्रतिशत रही है। राज्य में अब तक 5.5 करोड़ से अधिक कोरोना टेस्ट किए गए हैं। राज्य में कोरोना संक्रमण की रिकवरी दर 98.4 प्रतिशत है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वैक्सीनेशन इसके संक्रमण से बचाव के लिए सुरक्षा कवच है। वर्तमान में कोरोना का संक्रमण कमजोर हुआ है। अधिक से अधिक प्रदेशवासियों के कोरोना वैक्सीनेशन के लिए यह अच्छा अवसर है। उन्होंने कहा कि कोरोना वैक्सीनेशन के संबंध में एक व्यावहारिक एवं प्रभावी कार्ययोजना बनाकर कोरोना वैक्सीनेशन का अभियान तेजी से आगे बढ़ाया जाए। ग्रामीण इलाकों में ग्राम पंचायत तथा नगरीय क्षेत्रों में वाॅर्ड को केंद्र बिंदु बनाकर कोविड वैक्सीनेशन की कार्ययोजना बनाई जानी चाहिए। वैक्सीनेशन का कार्य योजनाबद्ध ढंग से करते हुए 21 जून, 2021 तक कम से कम 06 लाख कोरोना वैक्सीन प्रतिदिन एडमिनिस्टर किए जाने का प्रयास किया जाना चाहिए। 01 जुलाई, 2021 से प्रतिदिन 10 लाख कोरोना वैक्सीन एवं उसके एक सप्ताह पश्चात से 12 लाख कोरोना वैक्सीन प्रतिदिन एडमिनिस्टर करने के लक्ष्य के साथ कार्य किया जाए।

मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि राज्य में अब तक 2.5 करोड़ से अधिक कोरोना वैक्सीन एडमिनिस्टर की जा चुकी हैं। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राज्य में कोरोना वैक्सीनेशन का कार्य व्यवस्थित एवं सुचारू ढंग से चल रहा है। वैक्सीनेशन की कार्यवाही को भविष्य में भी इसी गुणवत्ता के साथ संचालित किया जाना चाहिए। राज्य में कोरोना वैक्सीनेशन की कार्यवाही बड़े पैमाने पर और प्रभावी ढंग से संचालित करने के लिए समुचित तैयारी होनी चाहिए। इसके लिए आवश्यकतानुसार कोल्ड चेन, वैक्सीन एवं वैक्सीनेटर्स की व्यवस्था की जाए। पर्याप्त संख्या में वैक्सीनेटर की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए नर्सिंग एवं पैरामेडिकल के तृतीय एवं चतुर्थ वर्ष के विद्यार्थियों का प्रशिक्षण भी कराया जाए। उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन का कार्य व्यवस्थित एवं सुचारू ढंग से जारी रहना चाहिए। वैक्सीनेशन सेंटर पर वेटिंग एवं ऑब्जरवेशन एरिया की व्यवस्था होनी चाहिए। यह सुनिश्चित किया जाए कि वैक्सीनेशन सेंटर पर भीड़ न हो।

मुख्यमंत्री  ने कहा कि निगरानी समितियों द्वारा प्रशंसनीय ढंग से कार्य किया गया है। निगरानी समितियों द्वारा स्क्रीनिंग के पश्चात लक्षण युक्त तथा संदिग्ध संक्रमित व्यक्तियों को मेडिसिन किट उपलब्ध कराने का कार्य सुचारु ढंग से संचालित रहे। कोविड-19 के लक्षण युक्त अथवा संदिग्ध संक्रमित बच्चों को भी निःशुल्क दवाई किट उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई है। 26 जून 2021 से ऐसे बच्चों को निगरानी समितियों के माध्यम से निःशुल्क मेडिसिन किट उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि ब्लैक फंगस के मरीजों को भारत सरकार द्वारा उपलब्ध कराई गई दवाओं के अतिरिक्त, विशेषज्ञों के परामर्श के अनुसार वैकल्पिक दवाएं भी उपलब्ध करायी जाएं। सामुदायिक, प्राथमिक एवं उप स्वास्थ्य केन्द्रों तथा हेल्थ एवं वेलनेस सेण्टर के सुदृढ़ीकरण कार्य की प्रगति की जानकारी प्राप्त करते हुए मुख्यमंत्री ने इस कार्य की गति को और तेज करने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि उनके निर्देशानुसार कोविड-19 की उपचार व्यवस्था को लगातार सुदृढ़ किया जा रहा है। मेडिकल कॉलेजों एवं अस्पतालों में कोविड बेड की संख्या में बढ़ोत्तरी की कार्यवाही निरन्तर चल रही है। बेड की संख्या में वृद्धि के साथ ही आवश्यकतानुसार मानव संसाधन में भी बढ़ोत्तरी की जा रही है। मुख्यमंत्री  के निर्देशानुसार पीडियाट्रिक आई0सी0यू0 (पीकू) तथा नियोनेटल आई0सी0यू0 (नीकू) का निर्माण कार्य भी युद्ध स्तर पर चल रहा है। इसकी नियमित समीक्षा भी की जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में निर्माणाधीन मेडिकल कॉलेजों के स्थापना कार्य की गति बढ़ाई जाए। इसके लिए निर्माण कार्यों की प्रगति की प्रतिदिन समीक्षा की जाए।

मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि राज्य में ऑक्सीजन की डिमांड सामान्य बनी हुई है। विगत 24 घण्टों में राज्य में 305 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की गई है। अस्पतालों, मेडिकल कॉलेजों तथा रीफिलर्स के पास पर्याप्त बैकअप के साथ ऑक्सीजन उपलब्ध है। राज्य में कार्यशील, निर्माणाधीन एवं स्वीकृत कुल ऑक्सीजन संयंत्रों की संख्या अब बढ़कर 533 हो गई है। इनमें से कार्यशील ऑक्सीजन संयंत्रों की संख्या अब बढ़कर 101 हो गई है। मुख्यमंत्री  को यह भी अवगत कराया गया कि उनके निर्देशानुसार जनपदों में उपलब्ध सभी वेंटिलेटर्स को अभियान चलाकर क्रियाशील कराया गया है। अब तक 99.3 प्रतिशत वेंटिलेटर कार्यशील हो गए हैं।

मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि प्रदेश में न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना के तहत प्रोक्योरमेण्ट कार्य व्यवस्थित ढंग से चल रहा है। योजना के अन्तर्गत अब तक लगभग 12 लाख 80 हजार किसानों से 55.81 लाख मीट्रिक टन से अधिक गेहूं की खरीद की जा चुकी है। न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना के तहत विगत वर्ष के सापेक्ष वर्तमान वर्ष में दो-गुना से अधिक गेहूं खरीद पर संतोष जताते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि एम0एस0पी0 के तहत गेहूं खरीद कार्य में संलग्न सभी एजेंसियों द्वारा नियमानुसार निर्धारित समय सीमा में किसानों को गेहूं मूल्य का भुगतान सुनिश्चित किया जाए। मुख्यमंत्री  को यह भी अवगत कराया गया कि सभी औद्योगिक गतिविधियां सुचारू रूप से संचालित है। औद्योगिक इकाइयों एवं संस्थानों में कोविड हेल्प डेस्क तथा कोविड केयर सेंटर कार्यशील हैं। मुख्यमंत्री  ने निर्देश दिए कि ईज आफ डूइंग बिजनेस के तहत रिफॉर्म्स की कार्यवाही को समयबद्ध ढंग से आगे बढ़ाया जाए।

मुख्यमंत्री  ने निर्देश दिए कि विभिन्न निर्माण परियोजनाओं के कार्य में तेजी लायी जाए। निर्माण कार्यों की गुणवत्ता के साथ किसी भी स्तर पर कोई शिथिलता नहीं बरती जानी चाहिए। उन्होंने  वाराणसी में शाही नाले से संबंधित निर्माण कार्यों को तेजी से पूर्ण करने के निर्देश दिए।

Previous Post Next Post