मुख्तार अंसारी की एंबुलेंस के कागजात फर्जी जांच के लिए एसआईटी का गठन

 


बाराबंकी (मानवी मीडिया): उत्तर प्रदेश के माफिया एवं बहुजन समाज पार्टी (बसपा) विधायक मुख्तार अंसारी द्वारा पंजाब में इस्तेमाल की गई एंबुलेंस का पंजीकरण फर्जी कागज के आधार पर किया गया था और मामले की जांच के लिए विशेष जांच (एसआईटी) का गठन किया गया है।पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद ने यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पंजाब जेल में बंद बाहुबली मुख्तार अंसारी द्वारा इस्तेमाल की जा रही एंबुलेंस के कागजात फर्जी हैं। इस मामले की जांच के लिए अपर पुलिस अधीक्षक उत्तरी के नेतृत्व में एक एसआईटी बनाई गई है जिसके तहत दो टीमें गठित की गई हैं। एक टीम में हैदरगढ़ के पुलिस उपाधीक्षक नवीन कुमार के नेतृत्व में मऊ जाएगी जबकि दूसरे टीम का नेतृत्व निरीक्षक महेंद्र सिंह करेंगे या टीम पंजाब मैं जांच करेगी यही टीमें एंबुलेंस चालक की भी तलाश कर करेगी।

 उन्होंने बताया कि पुलिस यह भी जांच करेगी कि एंबुलेंस किसके आदेश से जेल से मुख्तार अंसारी को लेकर गई थी और मुख्तार अंसारी का बाराबंकी से क्या रिश्ता है, इसका भी पता करेगी। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि सभी बिंदुओं पर गहराई से जांच की जा रही है दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। गौरतलब है कि पंजाब की रोपड़ जेल में बंद माफिया मुख्तार अंसारी को पंजाब के मोहाली की अदालत में पेश करने के लिए जिस एंबुलेंस का प्रयोग किया गया था । वह बाराबंकी जिले में पंजीकृत है । एम्बुलेंस रफी नगर निवासी डॉ अलका राय के नाम से पंजीकृत की गई थी । संभागीय परिवहन विभाग की जांच में डॉ अलका राय ने बाराबंकी के रफी नगर निवासी होने का वोटर आईडी कार्ड लगाकर पंजीकृत कराया था ,जब वोटर आईडी कार्ड का स्थानीय सत्यापन किया गया तो वह फर्जी पाया गया । तभी एआरटीओ पंकज सिंह अलका राय के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र