जोशीमठ जैसा श्री वैष्णो देवी, अमरनाथ को भी पर्यावरणीय आपदा का खतरा : महबूबा


श्रीनगर  (मानवी मीडिया जोशीमठ मे भूधंसाव का मामला पूरे देश में चर्चा का विषय बना हुआ है। इसी कड़ी में अब उत्तराखंड से लेकर जम्मू तक सियासत मे उत्तराखंड का जोशीमठ चर्चा में बना हुआ है। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने अमरनाथ और वैष्णो देवी में भी जोशीमठ जैसी स्थिति पैदा होने की चेतावनी देते हुए सोमवार को तीर्थयात्रियों की संख्या नियंत्रित नहीं करने और जम्मू-कश्मीर में सड़कों का जाल बिछाने के लिए सरकार की आलोचना की है। 

जोशीमठ तो बस शुरूआत 

महबूबा ने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा, ‘‘जोशीमठ तो बस शुरूआत है। ऐसे ही पारिस्थितिकी के नजरिये से संवेदनशील राज्यों जैसे जम्मू-कश्मीर के श्री अमरनाथ और वैष्णो देवी में ऐसे पर्यावरणीय हादसे कभी भी हो सकते हैं। भारत सरकार की तीर्थयात्रियों की संख्या पर लगाम नहीं लगाने और इन जगहों पर सड़कों का जाल बिछाने की लापरवाही भविष्य में आपदा का कारण बनेगी।’’  

सरकार अभी तक नहीं जागी- महबूबा 
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि जोशीमठ में भू-धंसाव के कारण आई आपदा से भी सरकार अभी तक नहीं जागी है। उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘दुख की बात है कि जोशीमठ को निगलने वाली आपदा से भी भारत सरकार की नींद नहीं खुली है। उनके पास दृष्टिकोण का अभाव है और अपनी असफलताओं से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए वे सिर्फ साम्प्रदायिक तनाव फैला सकते हैं।’’ 
गौरतलब है कि बदरीनाथ, हेमकुंड साहिब और अंतरराष्ट्रीय स्की रिसॉर्ट औली का प्रवेश द्वार कहलाने वाला जोशीमठ भू-धंसाव के कारण बड़ी चुनौती का सामना कर रहा है।

Previous Post Next Post