केंद्र व प्रदेश सरकार कृषकों को आय में वृद्धि के लिए है दृढ संकल्पित: दिनेश प्रताप सिंह

 लखनऊ (मानवी मीडिया)प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना के अन्तर्गत आज फिरोजगांधी डिग्री कालेज रायबरेली  के आडिटोरियम में लघु उद्योग स्थापना सम्मेलन के मुख्य अतिथि उत्तर प्रदेश के उद्यान, कृषि विपणन, कृषि विदेश व्यापार तथा कृषि निर्यात राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री दिनेश प्रताप सिंह ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर में मंत्री  ने कहा कि किसानों की आय बढ़ाने के लिए केन्द्र व राज्य सरकार दृढ संकल्पित है और हमारा भी यह प्रयास है कि कृषि उत्पादन बढ़ाने के लिए जो भी सम्भव होगा वह करने के लिए तैयार है। मंत्री जी ने कहा कि अगर कोई कृषक मचान विधि द्वारा खेती करता है तो जो भी मचान बनाने में जो भी खर्च आएगा, उसका जिला उद्यान विभाग द्वारा दिया जायेगा। मचान विधि से खेती करने पर मचान पर व मचान के नीचे जमीन पर कंदीवार फसलों का उत्पादन किया जा सकता है। उससे एक ही समय में दो फसल तैयार होगी। जब फसल दो तैयार होगी तो मुनाफा भी दोगुना होगा।

मंत्री  ने कहा कि कृषक अपनी भूमि का प्रबन्ध अच्छे से करें और अपनी आमदनी को बढ़ाये। उन्हा.ेंने कहा कि प्रधानमंत्री सूक्ष्म खाद्य उद्योग उन्नयन योजना ग्रामीण क्षेत्रों में छोटी-छोटी इकाया लगाकर कृषि उद्योग स्थापित कर कृषक अपनी आमदनी को बढ़ा सकते है। उन्होंने कहा कि ऐसी फसलो का चयन करें, जिसमें आमदनी अधिक हो कुछ समय पहले रायबरेली जनपद में पान की खेती होती थी जो अब बंद हो चुकी है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक ब्लाक के एक गांव में ऐसी फसले तैयार करने की युनिट स्थापित की जाए जिससे आमदनी को बढ़ाया जा सके। अगर कोई कृषक व आमजन कोई युनिट लगाना चाहेता है तो सर्वप्रथम उक्त योजनान्तर्गत ऑनलाइन पंजीकरण कराना होगा। पंजीकरण के बाद जो भी सहायता होगी वहां उपलब्ध कराई जायेगी। प्रदेश में ऐसे कृषक है जो एक एकड़ में 22 लाख रूपये की कमाई कर रहें है। अगर वहां कृषक द्वारा खेती करके 22 लाख की कमाई कर सकते है तो आप भी महनत करके व अच्छी फसलो की पैदावार करके अपनी कमाई को बढ़ा सकते है। इसके लिए आपको प्रयास करना होगा। मण्डियों में कोल्ड रूम बनाकर अपनी फसलों की सुरक्षा करें तथा दूसरों की भी करें। जो सब्जियां नही बिक पाती है वहां सड़ जाती है जिससे आपको नुकसान उठाना पड़ता है कोल्ड रूम होने पर अपनी फसलों को स्टोर करके सुरक्षित कर सकते है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में हॉटपेड बनाये जा रहे है। उन्होंने कहा कि जो कृषक सोलर पम्प के लिए ऑनलाइन आवेदन करेंगे उस सबको कृषि विभाग द्वारा सोलर पम्प उपलब्ध कराया जायेगा।

इस अवसर पर विशेष सचिव उद्यान, निदेशक उद्यान, संयुक्त निदेशक मंडी परिषद, मुख्य विकास अधिकारी पूजा यादव आदि ने अपने-अपने सम्बोधन में कृषकों उक्त योजनान्तर्गत विस्तारपूर्वक जानकारी दी।

Previous Post Next Post