नोएडा में 19 पावर सब स्टेशन के जरिए दूर की जाएगी बिजली कट की समस्या


नोएडा: (
मानवी मीडिया उत्तर प्रदेश के नोएडा में निर्बाध बिजली आपूर्ति की योजना पर अब काम तेज किया गया है। नो पावर कट जोन होने के बावजूद ओवरलोड और फॉल्ट की वजह से यहां बिजली कटौती आम बात है। इससे सेक्टर, सोसायटी और उद्योगों में लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। भविष्य में ऐसी समस्या न हो इसके लिए प्राधिकरण आने वाले दिनों में शहर में 19 नए सब-स्टेशन बनवाने जा रहा है। इनमें से 15 सब-स्टेशन नोएडा-ग्रेनो एक्सप्रेसवे किनारे के नए सेक्टरों में बनाए जाएंगे। चार उन पुराने सेक्टरों में बनेंगे जहां पहले से बने सब-स्टेशन ओवरलोड हैं। अथॉरिटी का विद्युत यांत्रिक विभाग सब-स्टेशन के लिए जमीन चिह्नित करने और फिर टेंडर जारी करने की प्रक्रिया शुरू करेगा। अब तैयारी ये है कि इस बार आने वाली गर्मी से पहले शहर की बिजली व्यवस्था को दुरुस्त किया जाए।

नोएडा अथॉरिटी एरिया में अब जो डिवेलपमेंट होने हैं, नए प्रॉजेक्ट आने हैं वे सब एक्सप्रेसवे किनारे के सेक्टरों में हैं। जैसे सेक्टर-151ए में इंटरनैशनल गोल्फ कोर्स प्रॉजेक्ट चल रहा है, हेलिपोर्ट बनाया जाना है। सेक्टर-146 में ग्रुप हाउसिंग प्लॉट का आवंटन किया गया है। पिछले दिनों ही सेक्टर-151 में आवासीय प्लॉट का आवंटन अथॉरिटी ने किया है। इसी तरह कुछ दिन पहले ही सेक्टर-158, 164 और सेक्टर-145 में इंडस्ट्रियल प्लॉट भी आवंटित किए गए हैं। इन्वेस्टर समिट से भी कई बड़ी कंपनियों को इन नए सेक्टरों में आवंटन होना है। इस लिहाज से यहां इन नए सब-स्टेशनों की जरूरत पड़ी। इसके अलावा पहले से बसे हुए सेक्टरों में भी कई इंडस्ट्री यूनिट का विस्तार होना है। इनमें कुछ सेक्टर ऐसे भी हैं जहां आवासीय और औद्योगिक दोनों तरह की बिजली सप्लाई एक ही सब-स्टेशन से हो रही है।

सेक्टर-145 से 164 में होगा निर्माण

नोएडा-ग्रेनो एक्सप्रेसवे किनारे सेक्टर-145 से 164 को सब-स्टेशन बनाने के लिए चुना गया है। इसके आगे के सेक्टर अभी डिवेलप होने शुरू नहीं हुए हैं। इन 19 सेक्टरों में अभी 15 सब-स्टेशन बनाए जाएंगे। कुछ सब-स्टेशन अभी डिमांड के हिसाब से दो सेक्टरों के बीच होंगे, ताकि अभी पूरा सेक्टर विकसित न होने तक एक सब-स्टेशन से दोनों का काम चलता रहे।

ओवरलोड चल रहे ये सब-स्टेशन

बिजली विभाग ने नोएडा अथॉरिटी को पत्र लिखकर सेक्टर-78, 68, 75 व 125 के मौजूदा सब-स्टेशनों के ओवरलोड होने की जानकारी दी है। यह भी बताया है कि इन जगहों पर ओवरलोडिंग की वजह से पिछली गर्मियों में समस्या रही है। अथॉरिटी ने यहां का सर्वे कराकर इन सेक्टर में ओवरलोडिंग दूर करने के लिए नए सब-स्टेशन बनाने का निर्णय लिया है।

एक सब-स्टेशन बनवाने और उसकी लाइन दूसरे सब-स्टेशन से जोड़ने में नोएडा अथॉरिटी को औसत 15 करोड़ रुपये का खर्च आता है। यही लागत आगे बनने वाले सब-स्टेशन में भी रहने का अनुमान है।

दो सब-स्टेशन किए चालू

नोएडा अथॉरिटी ने सेक्टर-67 और 63 में 132/ 33 केवीए के दो सब-स्टेशन बनवाए हैं। इन दोनों को बिजली विभाग ने अपने जिम्मे लेकर चालू भी कर दिया है। मौजूदा समय में अथॉरिटी सेक्टर-115 और 45 में दो सब-स्टेशन बनवा रही है। सेक्टर-115 का सब-स्टेशन 132/ 33 केवीए क्षमता का है। इसकी डेडलाइन 26 अप्रैल है। सेक्टर-45 में 220/ 33 केवीए का सब-स्टेशन के लिए दावा है कि ये सितंबर तक तैयार हो जाएगा। नोएडा अथॉरिटी के डीजीएम, विद्युत यांत्रिक राजेश कुमार ने कहा कि नए सब-स्टेशन निर्माण के निर्देश मिल चुके हैं। अब इनके लिए जमीन चिह्नित करने के साथ एस्टिमेट व टेंडर प्रक्रिया शुरू की जाएगी। अथॉरिटी की कोशिश जल्द काम शुरू करवाने की होगी।

Previous Post Next Post