अब 60 सेकंड में एंड्रॉइड मोबाइल फोन से पेंशनभोगी करें जीवन प्रमाण पत्र जमा

लखनऊ (मानवी मीडिया)पेंशन और पेंशनभोगी कल्याण विभाग, कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय,भारत सरकार ने केंद्र सरकार के पेंशनभोगियों के लिए डिजिटल जीवन प्रमाणपत्र को बढ़ावा देने के लिए एक राष्ट्रव्यापी अभियान शुरू किया है।  नवंबर 2021 में,माननीय राज्यमंत्री (पीपी) डॉ. जितेंद्र सिंह ने किसी भी एंड्रॉइड मोबाइल फोन के माध्यम से जीवन प्रमाणपत्र जमा करने के लिए फेस ऑथेंटिकेशन तकनीक का शुभारंभ किया था। सभी पंजीकृत पेंशनभोगी संघों, पेंशन संवितरण बैंकों, भारत सरकार के मंत्रालयों और सीजीएचएस वेलनेस केंद्रों को निर्देश दिया गया है कि वे पेंशनभोगियों के 'सुविधापूर्ण जीवन' के लिए, जीवन प्रमाणपत्र जमा करने हेतु डिजिटल जीवन प्रमाणपत्र/फेस ऑथेंटिकेशन तकनीक को बढ़ावा देने के लिए विशेष शिविरों का आयोजन करें। इसी कड़ी में श्री संजीव नारायण माथुर, संयुक्त सचिव, पेंशन एवं पेंशनभोगी कल्याण विभाग के नेतृत्व में केंद्र सरकार की एक टीम लखनऊ में है। केन्द्र सरकार के पेंशनभोगियों के लिए प्रत्यक्ष कर भवन, 57, राम तीर्थ मार्ग, लखनऊ, उत्तर प्रदेश-226001 के सभागार में 4 नवम्बर 2022 को दो दिवसीय अभियान की शुरुआत की।

इस अभियान में पेंशनभोगियों ने उत्साहपूर्वक  भाग लिया जिसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 95 वर्षीय पेंशनभोगी . बलवंत सिंह भी फेस ऑथेंटिकेशन के माध्यम से अपना जीवन प्रमाण पत्र जमा करने के लिए आए। उन्होंने इस नई तकनीक की शुरूआत पर प्रसन्नता और संतोष व्यक्त किया। अपने मोबाइल फोन में फेस ऑथेंटिकेशन जीवन प्रमाण ऐप डाउनलोड करने और अपने फोन से जीवन प्रमाणपत्र देने के संबंध में विभाग के अधिकारियों द्वारा इन पेंशनभोगियों का मार्गदर्शन किया गया। जीवन प्रमाणपत्र 60 सेकंड के भीतर जेनेरेट होता है और मोबाइल फोन पर एक लिंक भेजा जाता है जहां से इसे डाउनलोड किया जा सकता है। पेंशन और पेंशनभोगी कल्याण विभाग, भारत सरकार द्वारा डिजिटल दुनिया में यह एक महत्वपूर्ण कदम है। संयुक्त सचिव श्री संजीव नारायण माथुर ने बताया कि पहले जीवन प्रमाणपत्र व्यक्तिगत रूप से देने के लिए वृद्ध पेंशनभोगियों को बैंकों के बाहर कतारों में घंटों खड़ा होना पड़ता था। अब, यह उनके घर से ही आसानी से एक बटन के क्लिक पर संभव हो गया है। केंद्रीय टीम ने डिजिटल माध्यम से अपने जीवन प्रमाण पत्र जमा करने के लिए 5 नवंबर, 2022 को केंद्र का दौरा कर शिविर का अधिक से अधिक लाभ उठाने का आग्रह किया है।  

फेस ऑथेंटिकेशन के माध्यम से अपना जीवन प्रमाण पत्र जमा करने के लिए विभाग पूरे नवंबर महीने में अभियान चला रहा है।

*95 वर्षीय पेंशनभोगी . बलवंत सिंह भी फेस ऑथेंटिकेशन के माध्यम से अपना जीवन प्रमाण पत्र जमा किया,संजीव एन माथुर,ज्वाईंट सेक्रेटरी ने किया फेस ऑथेंटिकेशन*

इस अभियान में पेंशनभोगियों ने उत्साहपूर्वक  भाग लिया जिसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि 95 वर्षीय पेंशनभोगी श्री. बलवंत सिंह भी फेस ऑथेंटिकेशन के माध्यम से अपना जीवन प्रमाण पत्र जमा करने के लिए आए। उन्होंने इस नई तकनीक की शुरूआत पर प्रसन्नता और संतोष व्यक्त किया। अपने मोबाइल फोन में फेस ऑथेंटिकेशन जीवन प्रमाण ऐप डाउनलोड करने और अपने फोन से जीवन प्रमाणपत्र देने के संबंध में विभाग के अधिकारियों द्वारा इन पेंशनभोगियों का मार्गदर्शन किया गया।

Previous Post Next Post