अभियंत्रण संस्थामनों में गैर शैक्षिणक समूह ग के पदों की भर्ती हेतु अधियाचन 30 नवम्बर तक अनिवार्य रूप से भेजना सुनिश्चित करें

 

लखनऊ (मानवी मीडिया)प्रदेश के प्राविधिक शिक्षा मंत्री  आशीष पटेल ने विधानसभा स्थित कार्यालय कक्ष में प्रदेश के प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय एवं समस्तत राजकीय अभियंत्रण संस्थांनों में कैरियर एडवांसमेन्टस स्कीम (CAS) में एकरूपता के सम्बन्ध में समीक्षा की गयी। उनके द्वारा कैरियर एडवांसमेन्टक स्कीम (CAS) में एकरूपता के लिए गठित 05 सदस्यीय समिति द्वारा प्रेषित संस्तुतियों की समीक्षा करते हुए आवश्यक दिशा निर्देश अधिकारियों को दिये गये। उन्होंने निर्देश दिये कि समिति द्वारा दी जा रही संस्तुति विभाग के नियंत्रणाधीन व संचालित सभी तकनीकी विश्वविद्यालयों एवं अभियांत्रिकी संस्थानों में सेवारत संकाय सदस्यों पर लागू होगी। कैरियर एडवांसमेन्टी स्कीेम के अधीन प्रोन्नति की कार्यवाही प्रत्येक वर्ष कम से कम एक बार परन्तु अधिमानत एक वर्ष में दो बार अवश्य सुनिश्चित की जाय। 

        प्राविधिक शिक्षा मंत्री द्वारा डिग्री सेक्टर व डिप्लोमा सेक्टर के विभिन्न संचालित एवं महत्वपूर्ण कार्यों की प्रगति की समीक्षा की गयी। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि प्राविधिक शिक्षा विभाग के अंतर्गत सभी निर्माण कार्य भारत सरकार एवं उ0प्र0 शासन के संगत शासनादेशों एवं नियमों के आलोक में समयबद्ध रूप से संपादित कराए जाएं। कार्यों में शिथिलता व लापरवाही न बरती जाए। अभियंत्रण संस्थाानों में एडमिशन तथा भर्ती के संबंध में सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर नियमसंगत कार्यवाही करायी जाए। उन्होंने अधिकारियौं को निर्देशित किया कि अभियंत्रण संस्थानों में गैर शैक्षिणक समूह 'ग' के पदों की भर्ती हेतु अधियाचन 30 नवम्बर 2022 तक अनिवार्य रूप से उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग को भेजना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि भर्ती में भारत सरकार एवं उ.प्र. सरकार के नियमो के अन्तर्गत आरक्षण सुनिश्चित किया जाय। समीक्षा के दौरान माननीय मंत्री ने अभियंत्रण संस्थानों में शिक्षण व्यवस्था को और बेहतर बनाने के लिए प्रत्येक इंजीयनियरिग कालेजों के निदेशक एवं पालिटेक्निक कालेजों के प्रधानाचार्य को निर्देशित किया है कि वे अनिवार्य रूप से अध्यापक के रूप मे प्रतिदिन एक क्लास जरूर ले। 

        बैठक में प्रमुख सचिव प्राविधिक शिक्षा  सुभाष चन्द्र शर्मा, विशेष सचिव श्री कृपाशंकर सिंह,  अन्नावि दिनेश कुमार, संयुक्त सचिव  प्रभाकर चन्द्र मिश्रा, राजकीय इंजीनियरिंग कालेज बिजनौर, सोनभद्र, बांदा तथा केएनआईटी सुलतानपुर के निदेशक उपस्थित थे।


       

Previous Post Next Post