गोण्डा के एक लाख दीये, आर्डर मिलने से कुम्हार गदगद रोशन होगा दीपोत्सव

गोण्डा(मानवी मीडिया)- उत्तर प्रदेश के अयोध्या में दीवाली की पूर्वसंध्या पर 23 अक्टूबर को आयोजित दीपोत्सव में इस्तेमाल होने वाले एक लाख दीये गोण्डा से बन कर जायेंगे।

गोण्डा जिले से सटी श्रीराम की जन्मभूमि अयोध्या में आगामी दीपोत्सव के लिये जिले के कुम्हारों को एक लाख दीये बना कर आपूर्ति करने का आर्डर मिला है। मिट्अी के बर्तन बनाने वाले गोण्डा के कुम्हार इतना बड़ा ऑर्डर मिलने से गदगद हैं। कुम्हार जगदीश प्रजापति ने गुरुवार को यूनिवार्ता को बताया कि योगी सरकार द्वारा रामनगरी में श्रीराम की पैड़ी पर रिकार्ड 17 लाख दीये रौशन करने का संकल्प लिया गया है। इस संकल्प की पूर्ति के लिये अयोध्या की सीमा से सटे गोण्डा, बस्ती, अंबेडकरनगर, बाराबंकी समेत कई जिलों के कुम्हारों को एक एक लाख दीयों की आपर्ति करने का आर्डर दिया गया है। जगदीश ने बताया कि मिट्टी के दीयों की मांग बढ़ने से कुम्हारों की दीवाली पहले से बेहतर हो गयी है।

उन्होनें बताया कि जब से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या में दीपोत्सव का आगाज किया है, तब से चीन के उत्पादों और आधुनिकता की चकाचौंध में विलुप्त हो रही मिट्टी के दीये व बर्तनों की परंम्परा पुनः जीवित होने लगी है। इससे भुखमरी की कगार पर पहुंच रहे कुम्हारों के परिवारों के दिन बहुरने लगे है। इलाके के कुम्हारों ने बताया कि पिछले पांच सालों में चाय के कुल्हड़ और दीयों की बिक्री में खासी बढ़ोतरी हुयी है। इससे कुम्हारों के परिवार आत्मनिर्भरता की मिसाल बन कर उभरे हैं। मेवालाल ने दीयों के आर्डर के लियॆ सीएम योगी को धन्यवाद देते हुये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अयोध्या आगमन पर राम की पैड़ी पर महोत्सव में शामिल होने की इच्छा जतायी है। उन्होने कहा कि लंका विजय के पश्चात प्रभु राम के आगमन पर उनके हाथ के बनाये दिये अयोध्या धाम में जलेंगे। जिससे उनके परिवार को आत्मीय सुख की अनुभूति हो रही है।

Previous Post Next Post