STF ने सरकारी नौकरी दिलाने का झांसा देकर करोड़ों रूपये की ठगी करने वाले 2 अभियुक्त को दिल्ली से किया गिरफ्तार

लखनऊ (मानवी मीडिया)कूटरचित दस्तावेजों के माध्यम से विभिन्न सरकारी विभागों में नौकरी दिलाने का झांसा देकर करोड़ों रूपये की ठगी करने वाले संगठित गिरोह के मास्टरमाइण्ड सहित 02 अभियुक्त दिल्ली से किया गिरफ्तार।*

दिनांकः 02-09-2022 को एस0टी0एफ0, उत्तर प्रदेश को कूटरचित दस्तावेजों के माध्यम से विभिन्न सरकारी विभागों में नौकरी दिलाने का झांसा देकर करोड़ों रूपये की ठगी करने वाले संगठित गिरोह के मास्टरमाइण्ड सहित 02 अभियुक्तों को नई दिल्ली से गिरफ्तार करने में उल्लेखनीय सफलता प्राप्त हुई।

*गिरफ्तार अभियुक्तों का विवरण:*

1. राज कुमार सिंह उर्फ आर0के0 सिंह पुत्र माताफेर सिंह, निवासी ग्राम कनपुरियन का पुरवा, थाना  

         नसीराबाद, पोस्ट बरखुरदारपुर, रायबरेली।

2. गौरव सेट्ठी पुत्र प्रेम प्रकाष सेट्ठी निवासी एफ-89 राजौरी गार्डन, थाना राजौरी गार्डन, नई दिल्ली 

       110027।

*बरामदगी*

-----------

1. 17 अदद डेविट/क्रेडिट कार्ड।

2. 06 अदद मोबाइल फोन।

3. 02 अदद डी0एल0।

4. 19 अदद चेक लीफ।

5. 05 अदद आधार कार्ड

6. 01 अदद मेम्बरषिप कार्ड

7. 01 अदद रिवाल्वर मय लाइसेन्स।

8. 01 अदद पासपोर्ट।

9. 03 अदद पैन कार्ड।

10. 10 अदद चेक बुक।

11. 01 अदद पासबुक।

12. 01 अदद आर्मी हास्पिटल कार्ड।

13. 01 अदद आर्मी कैन्टीन कार्ड

14. 02 अदद आर्मी पहचान पत्र।

15. 01 अदद लीकर कार्ड।

16. 01 अदद टोल कार्ड।

17. 03 अदद प्रवेष पत्र।

18. 02 अदद मोहर।

19. 07 अदद सिम कार्ड।

20. 01 अदद ब्रेजा कार (डीएल 2 सी बीसी 5860)

21. रू0 1480/- नकद ।

*गिरफ्तारी का स्थान व समयः*

--------

 दिनांकः 02-09-2022, स्थानः वाई0डव्लू0सी0ए0 बिल्ड़िग अषोक मार्ग नई दिल्ली। समयः 16ः05 बजे। 

             एस0टी0एफ0, उत्तर प्रदेश को विगत काफी समय से विभिन्न सरकारी विभागोें मे भर्ती कराने के नाम पर ठगी करने वाले संगठित गिरोहों की सूचनाएं प्राप्त हो रही थी। इस सम्बन्ध में एस0टी0एफ0 मुख्यालय स्थित साइबर टीम को अभिसूचना संकलन एवं कार्यवाही हेतु निर्देशित किया गया। इसी क्रम मे श्री विषाल विक्रम सिंह, प्रभारी वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसटीएफ द्वारा मुख्यालय स्थित साइबर टीम को अभिसूचना संकलन की कार्यवाही हेतु निर्देषित किया गया। मुख्यालय स्थित साइबर टीम द्वारा अभिसूचना संकलन की कार्यवाही प्रारम्भ की गयी तथा अभिसूचना तन्त्र को सक्रिय किया गया। 

   अभिसूचना संकलन के माध्यम से ज्ञात हुआ कि रेलवे/एफसीआई व विभिन्न सरकारी विभागों में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाला एक संगठित गिरोह सक्रिय है। जिसके द्वारा बेरोजगार युवको से कूटरचित दस्तावेजों का प्रयोग कर ठगी की जा रही है। जिसके सम्बन्ध में सुनील कुमार पटेल द्वारा थाना मिर्जामुराद, जनपद वाराणसी में मु0अ0सं0 68/2022 धारा 419/420/467/468/506 भादवि पंजीकृत कराया गया कि उनको व उनके साथ के 05 बेरोजगारों को नौकरी दिलाने के नाम पर राज कुमार सिंह व गौरव सेट्ठी द्वारा लगभग 26 लाख रूपये धोखाधडी कर हडप लिए गये है। उपरोक्त प्रकरण पर तकनीकी व मुखबिर द्वारा प्राप्त सूचना के आधार पर दिनांक 02-09-2022 को समय करीब 16ः05 बजे उप निरीक्षक मनोज सिंह के नेतृत्व मे साइबर क्राइम टीम एस0टी0एफ0 मुख्यालय व थाना मिर्जामुराद जनपद वाराणसी की संयुक्त टीम द्वारा वाई0डव्लू0सी0ए0 बिल्ंिडग अषोक रोड नई दिल्ली, के रूम नं0 102 से उपरोक्त अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया, जिनसे उपरोक्त बरामदगी हुई।

               पूछताछ में गिरफ्तार अभियुक्त राज कुमार सिह उर्फ आर0के0 सिंह उपरोक्त ने बताया कि मैं वर्ष 1994 में भारतीय सेना में सोल्जर जीडी के पद पर नियुक्त हुआ। भारतीय सेना में विभिन्न स्थानों पर कार्यरत रहा। वर्ष जून 2011 में सेवा निवृत्त हो गया। सेवा निवृत्त के पश्चात विभिन्न सरकारी विभागों में नौकरी के लिए परीक्षाएं दिया। इसी दौरान दिल्ली के कारोबारी रंजीत सिन्हा का पी0एस0ओ0 बन गया और 02 वर्ष तक उनके पीएसओ के रूप में उनके साथ रहा। वर्ष 2014 से 2019 तक महेन्द्र सिंह धोनी के मैनेजर अरूण पाण्डेय का पीएसओ रहा। लाकडाउन में नौकरी न रहने के बाद दिल्ली के पहाडगंज के होटल में सिद्दीकी (हकीम जी) सहारनपुर के माध्यम से गौरव सेट्ठी उपरोक्त से मुलाकात हुई। गौरव ने रेलवे की नौकरी में अपनी सेटिंग होने की बात कही और बोला कि अगर आपके घर-परिवार, दोस्त का कोई बच्चा, कोई बेरोजगार हो तो मै रेलवे में रेलवे में भर्ती करा दूगॉ। तो मैने अपने दोस्त राजेष जो मुम्बई एयरपोर्ट में सीआईएसएफ में कार्यरत है, उनसे यह बात बताया। तो उन्होने अपने गॉव में बात करके एक लडकी व चार लडके को रेलवे में भर्ती कराने के लिए काम दिया व मेरे बैक खातों में थोडा थोडा करके 25 लाख रूपये डाले, मैने गौरव सेट्ठी के खाते में 12 लाख रूपये ट्रान्सफर किये। गौरव सेट्ठी उक्त युवकों को रेलवे में भर्ती नही कराया। जिसके उपरान्त सुनील कुमार पटेल अपने साथियों के साथ मेरे गॉव गया व रूपये वापस करने के लिए दबाव बनाने लगा, जिसके बाद मैने अपना मोबाइल बन्द करके छिप-छिप कर इधर उधर रह रहा था।  

          उपरोक्त गिरफ्तार अभियुक्तों को थाना मिर्जामुराद, जनपद वाराणसी में पंजीकृत मु0अ0सं0 68/2022 धारा 419/420/467/468/506 भादवि में दाखिल कर अग्रेतर विधिक कार्यवाही स्थानीय पुलिस द्वारा की जा रही है।

Previous Post Next Post