अभी जेल में ही रहेगा 'गालीबाज' श्रीकांत त्यागी : याचिका खारिज


नोएडा (मानवी मीडिया ओमेक्स सिटी में महिला से अभद्रता करने के मामले में गिरफ्तार हुए श्रीकांत त्यागी अभी जेल में ही रहेगा। उसकी जमानत याचिका गुरुवार को खारिज कर दी गई। धोखाधड़ी के अन्य मामले में कोर्ट ने 16 अगस्त की तारीख तय की है।


ओमेक्स सिटी में श्रीकांत त्यागी का पौधा लगाने को लेकर विवाद हो गया था। इस दौरान श्रीकांत ने महिला से अभद्रता करते हुए उससे गाली-गलौज तक की थी। इसके बाद आरोपी फरार हो गया था। उसे दो दिन बाद मेरठ के परतापुर से गिरफ्तार किया गया था।

ओमेक्स सिटी में श्रीकांत के कुछ साथियों ने भी उपद्रव मचाया था, जिनमें से छह लोगों को पकड़कर सोसाइटी वालों ने पुलिस के हवाले कर दिया था। उन लोगों के मामले में भी सुनवाई 16 अगस्त को होगी।

श्रीकांत पर गैंगस्टर एक्ट भी लगा

जनपद दीवानी व फौजदारी बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अधिवक्ता सुशील भाटी ने बताया कि श्रीकांत, सिंभावली निवासी राहुल, बागपत निवासी नकुल त्यागी व फिरोजाबाद निवासी संजय की जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए अपर सिविल जज नुपूर श्रीवास्तव ने जांच अधिकारी को तलब किया है। श्रीकांत मामले में थाना फेज-2 पुलिस ने अभी तक केस डायरी पेश नहीं की है। इधर, नोएडा पुलिस ने श्रीकांत पर गैंगस्टर एक्ट लगाया है। ऐसे में कम से कम एक माह तक श्रीकांत को राहत मिलने की उम्मीद कम है।

जेल में करवटें बदलकर बीती श्रीकांत की रात

आलीशान कोठियों में रहने वाले श्रीकांत त्यागी की जेल में रात करवटें बदलते हुए गुजरी। मुलायम बिस्तरों पर सोने वाले श्रीकांत को जमीन पर सोना पड़ा। सुरक्षा को देखते हुए उसे हाई सिक्योरिटी बैरक-1 में अकेले ही रखा गया है।

देर होने के कारण नहीं मिला खाना

ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी में महिला से अभद्रता करने के आरोपी श्रीकांत को मंगलवार रात करीब 11 बजे लुक्सर जेल लाया गया था। देर रात में पहुंचने पर उसे खाना नहीं मिला। देर रात उसे दो कंबल भी दिए गए। सुबह उसने दलिया का नाश्ता किया। वहीं, उसने अखबार पढ़ने के लिए मांगे जो मुहैया करा दिए गए। आमतौर पर बंदियों को अखबार आदि की सुविधाएं नहीं दी जातीं। जेल अधीक्षक अरुण प्रताप सिंह ने बताया कि श्रीकांत को हाई सिक्योरिटी बैरक में रखा गया है। जेल में उसे किसी तरह की विशेष सुविधा नहीं दी गई है।
Previous Post Next Post