कानपुर में आयकर का तीसरे दिन भी छापा, 40 करोड़ के लेनदेन के मिले सुबूत


कानपुर (मानवी मीडियाघनाराम समूह और उनके सहयोगी बिल्डरों पर आयकर छापेमारी शुक्रवार को तीसरे दिन भी जारी रही। अभी तक समूह के परिसरों से 2.25 करोड़ रुपये व दो किलो सोने की ज्वैलरी भी सीज की गई है। करीब 40 करोड़ रुपये के लेनदेन के सबूत मिले हैं। वहीं समूह से जुड़े चार्टर्ड एकाउंटेंट फरार हो गए हैं। 

बुधवार को आयकर विभाग ने घनाराम समूह के 25 परिसरों सहित कुल 32 ठिकानों पर छापे मारे थे। छापे झांसी, कानपुर, लखनऊ, दिल्ली और नोएडा में मारे गए। 150 से ज्यादा आयकर अधिकारी इस कार्यवाही में शामिल हैं। तीसरे दिन तक जांच में करोड़ों कैश व सोने की ज्वैलरी मिलने के साथ ही पांच और लॉकर मिले। इस तरह अभी तक सीज किए गए लॉकरों की संख्या दस पहुंच गई है। इन्हें बाद में खोला जाएगा। 

जांच में घनाराम ग्रुप में फर्जी बिलिगं के सबूत मिले हैं। इन बिलों के जरिए 40 करोड़ से ज्यादा का कैश का लेनदेन किया गया। पिछले सात साल में खरीद गई जमीनों की जांच की जा रही है। कांट्रैक्टर और सब कांट्रैक्टर के नाम पर फर्जी बिलिंग पाई गई हैं। कई विवादित जमीनों के कागजात मिले हैं। 

सूत्रों के मुताबिक, घनाराम ग्रुप का रिटर्न तो ठीक आ रहा था लेकिन जिस रफ्तार से कारोबार में तेजी दिखाई जा रही थी, उस हिसाब से आयकर नहीं दिया जा रहा था। इसकी पड़ताल की जा रही है कि पिछले नौ साल में कई मॉल्स, टॉवर, बांध जैसी बड़ी परियोजनाओं के लिए रकम कहां से आ रही थी। अरबों के प्रोजक्ट्स को लगातार चालू रखने के लिए फंडिंग का स्रोस तलाशा जा रहा है। इस बीच समूह के चार्टर्ड एकाउंटेंट दिनेश सेठी फरार हो गए हैं। आयकर सूत्रों के मुताबिक, सीए के घर व आफिस का ताला तुड़वाकर कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। इसके लिए पीएसी को भी आयकर विभाग ने अपने साथ में लिया है। 





Previous Post Next Post