योगी सरकार कर रही तैयारी : कांवड़ यात्रा मार्गों पर खुले में मांस की बिक्री पर लगेगी रोक


लखनऊ (
मानवी मीडिया)उत्तर प्रदेश सरकार दो साल के बाद होने वाली कांवड़ यात्रा के लिए निर्धारित मार्गों पर खुले में मांस की बिक्री पर रोक लगाने के लिए कदम उठा रही है। अधिकारियों ने कहा कि स्थानीय, जिला और पुलिस प्रशासन इसे सुनिश्चित करने के लिए मांस व्यापारियों से संपर्क कर रहे हैं। 14 जुलाई से शुरू होने वाली कांवड़ यात्रा के लिए व्यापक इंतजाम किए जा रहे हैं। यात्रा 2020 और 2021 में कोरोना के कारण नहीं हुई थी। भगवान शिव के भक्त 'कांवरिया' गंगा नदी के तट पर पानी लाने के लिए जाते हैं, जिसे वे अपने घरों या इलाकों के मंदिरों में चढ़ाते हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाल ही में एक बैठक में अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे कांवड़ यात्रा रूट की सड़कों को साफ करें और खुले में मांस की बिक्री पर रोक लगाने के अलावा, रोशनी व्यवस्था, स्वच्छता और प्राथमिक चिकित्सा की व्यवस्था करें।

राज्य भर के जिला अधिकारियों ने कांवड़ यात्रा के लिए निर्धारित सड़कों की मरम्मत का काम शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री के निर्देश पर जिले के अधिकारी मार्गों पर चिकित्सा शिविर लगाने की योजना बनाए जा रहे हैं। पिछले दो सालों में यात्रा नहीं हुई है, हम इस बार कांवड़ यात्रियों की संख्या में वृद्धि की उम्मीद की जा रही है। अधिकारियों को व्यवस्था करते समय इस बात का ध्यान रखने को कहा गया है। प्रशासनिक अधिकारियों के अनुसार, उत्तराखंड के हरिद्वार पहुंचने के लिए लाखों श्रद्धालु पश्चिमी उत्तर प्रदेश के सहारनपुर, शामली, मेरठ, गाजियाबाद और बागपत जिलों से गुजरते हैं।

दिल्ली, मध्य प्रदेश, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और राजस्थान से कांवरिया उत्तराखंड पहुंचने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग 58 लेते हैं। यह राजमार्ग गौतम बौद्ध नगर, गाजियाबाद, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर और मेरठ से होकर गुजरता है और रुड़की (उत्तराखंड) होते हुए हरिद्वार पहुंचता है। दिल्ली, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के भक्त भी सहारनपुर, शामली और बागपत जिलों से होकर जाते हैं। मुरादाबाद और बरेली से बड़ी संख्या में श्रद्धालु बिजनौर और अमरोहा होते हुए हरिद्वार पहुंचते हैं।

पुलिस प्रशासन ने संवेदनशील इलाकों की भी पहचान की है जहां यात्रा के दौरान अतिरिक्त बल तैनात किया जाएगा। इसके अलावा, मेरठ क्षेत्र के जिलों, फैजाबाद, प्रयागराज, वाराणसी और उनके पड़ोसी जिलों में भी मुख्य रूप से पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार से कांवड़ यात्रियों की आमद देखी जाती है। अधिकारियों ने बताया कि इन जिलों में भी प्रशासन द्वारा इसी तरह की व्यवस्था की जा रही है।

Previous Post Next Post