संस्कृति विभाग की 100 दिवसों की उपलब्धियॉ


लखनऊ: (मानवी मीडिया)उत्तर प्रदेश के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री  जयवीर सिंह आज लोकभवन स्थित मीडिया सेंटर में संस्कृति विभाग की 100 दिन के कार्यकाल में प्राप्त की गयी उपलब्धियों की जानकारी प्रेस प्रतिनिधियों को देते हुए कहा कि सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के व्यापक प्रचार-प्रसार के लिए उत्तर प्रदेश संस्कृति विभाग द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों का क्रियान्वयन किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि अयोध्या शोध संस्थान द्वारा अयोध्या में देश एवं विदेश की प्रसिद्ध रामलीला मण्डलियों द्वारा दिनांक-02 अप्रैल, 2022 से पुनः नित्य रामलीला का पुनः मंचन शुरू करा दिया गया है।

 जयवीर सिंह ने बताया कि मगहर में नवनिर्मित संतकबीर अकादमी के विभिन्न भवनों का लोकार्पण किया गया। संतकबीर के प्राकट्य दिवस के अवसर पर वाराणसी में तीन दिवसीय ‘कबीर महोत्सव’ का आयोजन तथा मगहर में दो दिवसीय ‘कबीर महोत्सव’ का आयोजन किया गया। ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ कार्यक्रम के अन्तर्गत गुजरात सरकार से सांस्कृतिक आदान-प्रदान हेतु समझौता किया गया।
पर्यटन मंत्री ने बताया कि रामनवमी के अवसर पर अयोध्या शोध-संस्थान द्वारा अयोध्या, श्रंृग्वेरपुर प्रयागराज में विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन कराया गया। कबीर अकादमी द्वारा पंडित दीनदयाल विश्वविद्यालय, गोरखपुर में संत कबीर शोध पीठ की स्थापना की गयी। अयोध्या शोध संस्थान द्वारा ‘ग्लोबल इनसाइक्लोपीडिया ऑफ रामायण’ के अन्तर्गत 100 ग्रंथों का प्रकाशन कराया गया।
श्री जयवीर सिंह ने बताया कि आजादी काअमृत महोत्सव के अन्तर्गत चार दिवसीय ‘अमृत संगीत उत्सव’ का आयोजन किया गया। उ0प्र0 संगीत नाटक अकादमी द्वारा 18 मण्डलों में शास्त्रीय संगीत प्रतियोगिताओं का आयोजन कराया गया। डॉ0 भीमराव आंबेडकर की जयंती पर डॉ0 भीमराव आंबेडकर केन्द्रीय विश्वविद्यालय, लखनऊ में भारतरत्न बाबासाहेब डॉ0 भीमराव आंबेडकर पर आधारित प्रदर्शनी एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन कराया गया। इसके अलावा ‘काकोरी ट्रेन एक्शन’ के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी अमर शहीद राम प्रसाद बिस्मिल जी के जन्म दिवस के अवसर पर शाहजहांपुर से चौरी-चौरा गोरखपुर तक अमृत यात्रा का  आयोजन संपन्न हुआ तथा भातखण्डे संगीत सम विश्वविद्यालय को भातखण्डे संस्कृति विश्वविद्यालय का दर्जा प्रदान किया गया।
Previous Post Next Post