सतगुरू के स्वागत को तैयार धरती बचाओ यात्रा’ पर सात जून को लखनऊ पहुंचेगे


लखनऊ, (मानवी मीडिया)“मिट्टी बचाओ अभियान” के तहत 100 दिन के 30 हजार किलोमीटर की यात्रा के क्रम में सद्गुरु सात जून को लखनऊ पहुँच रहे हैं । अभियान के संदेश को जन-जन तक पहुंचाने के लिए शहर में सद्गुरु एक सार्वजनिक कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल होंगे। 

मिट्टी बचाओ अभियान ने अब मिट्टी के क्षरण को रोकने के लिए नीतिगत हस्तक्षेपों के आह्वान की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए एक वैश्विक आवाज बुलंद की है। सद्गुरु पर्यावरण दिवस पर पांच जून को नई दिल्ली में होंगे, उनके साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अभियान को और मजबूत करने और मिट्टी को बचाने की दिशा में राष्ट्रीय सहमति बनाने के लिए एक सार्वजनिक कार्यक्रम में शामिल होंगे।

राजधानी लखनऊ में आयोजनों की तैयारी के क्रम में आंदोलन के स्वयंसेवक शनिवार को लखनऊ में गोमती और मरीन ड्राइव पुल पर मिट्टी बचाओ पोस्टर के साथ लोगों को आंदोलन के बारे में सूचित करने के लिए खड़े हुए। शहरवासियों की रुचि स्पष्ट थी क्योंकि कई जिज्ञासुओं ने स्वयंसेवकों से आंदोलन के बारे में पूछा और सद्गुरु के सार्वजनिक संबोधन में भाग लेने की इच्छा व्यक्त की।

सद्गुरु ने इस साल मार्च में 'मिट्टी के विलुप्त होने' को रोकने के लिए मिट्टी बचाओ आंदोलन शुरू किया - दुनिया भर में उपजाऊ मिट्टी की मौत जो अब मानव जाति के लिए एक संभावित खतरा बन गई है। वह वर्तमान में यूरोप, मध्य एशिया और मध्य पूर्व और भारत में 100 दिवसीय 30,000 किलोमीटर की अकेली मोटरसाइकिल यात्रा पर है, ताकि मिट्टी के विलुप्त होने को रोकने के लिए वैश्विक स्तर पर तत्काल नीति-संचालित कार्रवाई के लिए आम सहमति बनाई जा सके।

सद्गुरु 26 देशों की यात्रा करने के बाद 29 मई 2022 को गुजरात के पश्चिमी बंदरगाह शहर जामनगर पहुंचे और भारत में अपनी एकल बाइक यात्रा को जारी रखा। वह नौ भारतीय राज्यों की यात्रा करेंगे और आगमन के बाद से वह भारतीय राज्य गुजरात, राजस्थान और हरियाणा से गुजरे हैं। गुजरात और राजस्थान में उनकी यात्रा के दौरान दोनों राज्यों ने मिट्टी को बचाने के लिए वैश्विक आंदोलन में आधिकारिक रूप से शामिल होने के लिए समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं।

इस अभियान का मूल उद्देश्य, कृषि-भूमि में कम से कम 3 से 6 प्रतिशत जैविक तत्व होना सुनिश्चित करने के लिए सरकारों पर जोर डालना है। इसके बिना पूरी कृषि-भूमि तेजी से खराब हो जाएगी और रेत में बदल जाएगी, जिसमें कोई फसल नहीं उग सकती, जिससे वैश्विक खाद्य और जल सुरक्षा खतरे में पड़ जाएगी। संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन ने चेतावनी दी है कि मरुस्थलीकरण से वर्ष 2045 तक खाद्यान्न उत्पादन में 40 प्रतिशत तक गिरावट आ सकती है, जबकि दुनिया की जनसंख्या नौ अरब पार कर जाएगी। 

ज्ञात हो कि देश भर से पांच लाख से अधिक छात्रों ने भारत में मंत्रियों को पत्र लिखकर मिट्टी के उत्थान के लिए कार्य करने का अनुरोध किया है। यूपी के 25 जिलों के 300 से अधिक स्कूलों के 65,000 से अधिक छात्रों ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है और आने वाले दिनों में कई और स्कूलों के इस अभियान में शामिल होने की उम्मीद है।

Previous Post Next Post