योगी बोले- देश की सबसे बड़ी दूसरी अर्थव्यवस्था बनने की ओर अग्रसर यूपी


लखनऊ (मानवी मीडियासीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यूपी, देश की सबसे बड़ी दूसरी अर्थव्यवस्था बनने की ओर अग्रसर है। इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन का परिणाम बताते हुए उन्होंने कहा कि वर्ष 2018 से अब तक तीन लाख करोड़ रुपये से ज्यादा के निवेश प्रस्ताव जमीन पर उतारने में सफलता मिली है। 65 लाख लोगों को रोजगार मुहैया कराया है। इनमें पांच लाख सरकारी नौकरियां हैं।


योगी इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी-3 में अपनी बात रख रहे थे। उन्होंने कहा कि फरवरी-2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली इन्वेस्टर्स समिट का उद्घाटन किया था। उस वक्त 4.68 लाख करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव मिले थे। इनमें से तीन लाख करोड़ रुपये से अधिक के प्रस्ताव जमीन पर उतारे जा चुके हैं। कोरोना संकट के काल में भी 66 हजार करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव आए, जिन्हें मजबूती केसाथ अमलीजामा पहनाया गया।


उन्होंने कहा कि तीसरी ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी में 80 हजार करोड़ से ज्यादा की 1400 नई परियोजनाओं को जमीन पर लाया जा रहा है। इनमें डाटा सेंटर, कृषि व संबद्ध क्षेत्र, आईटी व इलेक्ट्रॉनिक्स, इंफ्रास्ट्रक्चर, हथकरघा, टेक्सटाइल्स और एमएसएमई आदि प्रमुख हैं। इससे 5 लाख प्रत्यक्ष और 20 लाख अप्रत्यक्ष रोजगार के अवसर सृजित होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि यूपी ने प्रधानमंत्री का मंत्र ‘रिफॉर्म, परफॉर्म एंड ट्रांसफॉर्म’ को स्वीकार किया है। उन्हीं के मार्गदर्शन में यूपी छठी अर्थव्यवस्था से देश की दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की दिशा में आगे बढ़ रहा है।

उन्होंने कहा कि ओडीओपी योजना को लागू कर प्रदेश के निर्यात को 88 हजार करोड़ रुपये से बढ़ाकर 1.56 लाख करोड़ रुपये करने में सफलता मिली है। वर्ष 2017 में प्रदेश में नई औद्योगिक नीति लागू की गई। निवेश फ्रेंडली माहौल के तहत इससे जुड़ी 20 से ज्यादा नीतियां भी लाई गईं। श्रम, भूमि आवंटन, पर्यावरण, निरीक्षण और भुगतान आदि से संबंधित 500 से अधिक सुधार किए गए। कारोबारी सुगमता में यूपी, देश में दूसरे नंबर पर आ चुका है।

सीएम ने कहा कि औद्योगिक विकास से संबंधित 40 विभागों में लंबित 1400 से अधिक मामलों का निपटारा कर सिंगल विंडो सिस्टम लागू किया। आज प्रदेश में निवेश मित्र पोर्टल के माध्यम से 29 विभागों की 349 सेवाओं को ऑनलाइन हासिल किया जा सकता है। मेगा और उससे ऊपर की परियोजनाओं के लिए 15 दिन में जमीन आवंटित करने का नियम लागू किया गया है। कानून-व्यवस्था को बेहतर किया गया है।

केंद्र व राज्य की योजनाओं से जुड़े 60 लाख युवा

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ओडीओपी स्कीम के तहत 1.68 लाख से अधिक रोजगार के अवसर सृजित किए। केंद्र व राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं से 60 लाख युवाओं को जोड़ा। 5 लाख सरकारी नौकरियां दीं। बेरोजगारी दर 18 प्रतिशत से घटकर 2.9 प्रतिशत पर आ गई है। आज बुंदेलखंड में एक्सप्रेस-वे के साथ ही डिफेंस कॉरीडोर के दो नोड बन रहे हैं। प्रत्येक घर को पीने का साफ पानी मुहैया कराने की योजना लागू है। उत्तर प्रदेश में तीन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे हैं।

सबसे ज्यादा अंतराष्ट्रीय हवाई अड्डों वाला राज होगा यूपी
अगले कुछ वर्षों में नोएडा और अयोध्या में अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे संचालित होने पर यूपी देश में सबसे ज्यादा पांच अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे संचालित करने वाला राज्य बन जाएगा। वाराणसी से हल्दिया के बीच जलमार्ग का संचालन पहले से ही हो रहा है। उन्होंने कहा कि डिफेंस कॉरीडोर के लखनऊ नोड में ब्रह्मोस और झांसी में भारत डायनामिक्स की इकाई लग रही है। पीएम गति शक्ति योजना से इंफ्रास्ट्रक्चर को बढ़ावा मिल रहा है। उन्होंने कहा कि निवेशकों को इस बात का भरोसा दिलाता हूं कि प्रदेश में उनका निवेश सुरक्षित होगा और उत्तर प्रदेश सरकार से उन्हें हरसंभव मदद मिलेगी।

योगी के नेतृत्व और मोदी के विजन से यूपी में अपार संभावनाएं : राजनाथ

केंद्रीय रक्षा मंत्री और लखनऊ के सांसद राजनाथ सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी के नेतृत्व और पीएम मोदी के दृष्टिकोण (विजन) के चलते यहां आगे बढ़ने की अपार संभावनाएं हैं। राजनाथ सिंह को जीबीसी-3 में ऐन वक्त पर बोलने के लिए कहा गया था। संबोधन के शुरू में ही उन्होंने इसका जिक्र करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कर्मठता प्रदेश को नई ऊंचाइयों पर ले जा रही है। उनकी काम के प्रति प्रतिबद्धता से यूपी में तेजी से निवेश बढ़ रहा है। कारोबारी सुगमता के लिहाज से भारत भी दुनिया में 142वें स्थान से 62वें स्थान पर पहुंच चुका है।

उन्होंने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत की प्रतिष्ठा दुनिया में तेजी से बढ़ी है। आज दुनिया कान खोलकर भारत को सुन रही है। उन्होंने उद्यमियों का आह्वान कर कहा कि यूपी में जनसंख्या भी है, संसाधन भी हैं और कुशल श्रमिक भी, इसका उन्हें लाभ लेना चाहिए। पीएम मोदी लगातार मुख्यमंत्रियों के साथ संवाद कर नए-नए आइडिया देते हैं।
Previous Post Next Post