एकेटीयू में इंजीनियरिंग परीक्षा के पेपर अब हिन्दी में भी


लखनऊ (मानवी मीडिया
एकेटीयू इंजीनियरिंग की परीक्षाओं में हिन्दी प्रश्न पत्र देने वाला पहला विश्वविद्यालय बनने जा रहा है। सत्र 2022-23 में होने वाली बीटेक की परीक्षाओं के प्रश्न पत्र अंग्रेजी के साथ ही हिन्दी भाषा में भी होंगे। जिसके लिए तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। अंग्रेजी के साथ हिन्दी में प्रश्न पत्र के निर्णय पर परीक्षा समिति की मुहर लग चुकी है।

प्रदेश भर में एकेटीयू से सम्बद्ध 765 तकनीकी संस्थानों और लखनऊ के 60 संस्थानों में होने वाली बीटेक की सभी ब्रांच में बाइलिंगुअल भाषा में प्रश्न पत्र होंगे। इसमें छात्र-छात्राओं के पास विकल्प होगा कि वे यदि अंग्रेजी भाषा में सहज हैं तो अंग्रेजी भाषा में उत्तर दें और हिन्दी में सहज हैं तो हिन्दी में भी उत्तर दे सकेंगे। अभी तक इंजीनियरिंग की परीक्षाओं में सिर्फ अंग्रेजी के प्रश्न पत्र का ही प्रयोग होता था। हिन्दी में प्रश्न पत्र और उत्तर देने की सुविधा मिलने से बीटेक के तकरीबन 85 हजार छात्र-छात्राएं लाभांवित होंगे। एकेटीयू के प्रतिकुलपति प्रो. मनीष गौड़ ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 (एनईपी) को लागू किए जाने के क्रम में कई बदलाव किए जा रहे हैं। इसी क्रम में छात्रहित को देखते हुए इंजीनियरिंग की परीक्षाओं में प्रश्न पत्र को अंग्रेजी और हिन्दी दोनो भाषाओं में किया गया है। नए सत्र 2022-23 में होने वाली परीक्षाओं में पहली बार दोनों भाषाओं में प्रश्न मिलेंगे। दोनों ही भाषाओं में उत्तर देने की सुविधा मिलेगी।    
 
बीटेक की इन ब्रांच में लागू होगी व्यवस्था
सिविल 
इलेक्ट्रिकल
इलेक्ट्रॉनिक्स
मैकेनिकल
प्रोडक्शन इंजीनियरिंग
केमिकल
कम्पयूटर साइंस
इलेक्ट्रॉनिक्स एण्ड कम्युनिकेशन
इलेक्ट्रॉनिक्स एण्ड इंस्ट्रूमेशन
एनवॉयरमेंटल इंजीनियरिंग

पाठ्यक्रम का बनेगा क्रेडिट बैंक
एनईपी 2020 पाठ्यक्रम तैयार करने के लिए बनी समिति के अध्यक्ष प्रतिकुलपति प्रो. मनीष गौड़ ने बताया कि एनईपी को देखते हुए एमटेक विद रिसर्च शुरू किया गया। इसके बाद क्रेडिट ट्रांसफर लागू किया गया। अब हम क्रेडिट बैंक बनाने जा रहे हैं। जिसमें पाठ्यक्रमों के अनुसार क्रेडिट प्वाइंट मिलेंगे और इन क्रेडिट के आधार पर मल्टीपल टाइप डिग्री लेकर छात्र एग्जिट कर सकेंगे। इसके साथ ही मेजर डिग्री के साथ ही माइनर डिग्री स्पेशिलाइजेशन शुरू करने जा रहे हैं। प्रो. मनीष गौड़ ने कहा कि सभी पाठ्यक्रम में लचीलापन लाया जा रहा है। मान लीजिए कि छात्र मेजर डिग्री के रूप में बीटेक कम्पयूटर साइंस मेजर डिग्री के रूप लेता है तो साथ ही माइनर डिग्री के रूप में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग या कोई अन्य कोर्स भी ले सकेंगे।  


Previous Post Next Post