बाढ़ की तैयारियो के दृष्टिगत जिलाधिकारी सूर्य पाल गंगवार ने बुलाई एक महत्वपूर्ण बैठक

 


लखनऊ (मानवी मीडिया)आज कलेक्ट्रेट सभागार में जिलाधिकारी  सूर्य पाल गंगवार द्वारा सम्मभवित बाढ़ की तैयारियों के सम्बंध में एक महत्वपूर्ण बैठक आहूत की गई। बैठक में जिलाधिकारी द्वारा बताया गया कि सम्भावित बाढ़ की समस्या से निपटने के लिए सम्बंधित विभाग अभी से अपनी तैयारियां शुरू कर दे ताकि अगर बाढ़ जैसी स्थिति उत्पन्न होती है तो उसका सामना किया जा सके। बैठक में जिलाधिकारी द्वारा निम्नवत दिशा निर्देश दिए गए :-

1) जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिए गए कि गोमती नदी व कुकरेल नाला के दोनों ओर स्थापित 44  बैरलो पर स्थित फाटकों की ओवर हालिंग, रख रखाव व सभी पम्पिंग प्लांट्स की टेस्टिंग व अनलोड चेकिंग का कार्य  अगर अभी तक पूर्ण नही हुआ हो तो तत्काल उसे पूर्ण कर लिया जाए। जिसके सम्बन्ध में विभाग द्वारा बताया गया कि गोमती नदी व कुकरेल नाला के दोनों ओर स्थापित 44  बैरलो पर स्थित फाटकों की ओवर हालिंग, रख रखाव व सभी पम्पिंग प्लांट्स की टेस्टिंग व अनलोड चेकिंग का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। सभी फाटक कार्यशील स्थिति में है। 

2) जिलाधिकारी कहा कि सिचाई विभाग के द्वारा पम्पिंग स्टेशनों से गोमती नदी तक जनपद में नगर निगम सीमा के अंतर्गत समस्त नालो की सफाई का कार्य पूर्ण किया जाना है एवं जनपद के अन्य क्षेत्रों में नालो की सफाई का कार्य भी पूरा करना सुनिश्चित करना है। जिसके सम्बन्ध में सिंचाई विभाग द्वारा बताया गया कि नालो की सफाई का कार्य किया जा रहा है। सिचाई विभाग ने बताया कि जनपद में कुल 88 बड़े नाले (3 मी0 से चौड़े)  जिनकी लम्बाई 64किमी है, 536 मझोले नाले (3 मी0 से कम चौड़े) और 929 छोटे नाले है। सभी की सफाई कराई जा रही है। जिसके सम्बन्ध में ज़िलाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि नालो की सफाई का ड्रोन व अन्य माध्यम से वीडियोग्राफी कराना सुनिश्चित किया जाए। 

3) बैठक में ज़िलाधिकारी ने कहा कि केवल वर्षा ऋतु में ही नही बल्कि निरंतर नालो की सफाई कराना सुनिश्चित किया जाए। जिसके लिए हर माह नालो की सफाई हेतु एक मासिक समीक्षा बैठक आहूत की जाए। ताकि नियमित तौर पर नालो की सफाई व्यवस्थाओ को सुनिश्चित किया जा सके। साथ ही निर्देश दिया कि अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व टीम बना कर अगले 7 दिन सभी नालो की सफाई व्यवस्था का निरीक्षण करते हुए फोटो सहित रिपोर्ट प्रस्तुत की जाए। 

4) जिलाधिकारी द्वारा नगर निगम व सिचाई विभाग को निर्देश दिया कि अस्थाई पम्पिंग सेट की सूची तैयार करना सुनिश्चित किया जाए और जलप्लावन की स्थिति उत्पन्न होने पर जल निकासी का कार्य तत्काल किया जाए। यदि पम्पिंग सेट की संख्या कम है तो किराये पर पम्पिंग सेट की व्यवस्था करना सुनिश्चित किया जाए। 

5) जिलाधिकारी द्वारा जलकल विभाग को बाढ़ग्रस्त एवं जल भराव वाले क्षेत्रों में पीने योग्य शुद्ध पानी के टैंकरों की उपलब्धता एवं टैंकरों की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिये गये। ताकि किसी भी आपात स्थिति में प्रभावित लोगों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराया जा सके। 

6) बैठक में सभी तहसीलो द्वारा बाढ़ग्रस्त एवं जल भराव वाले क्षेत्रों/गांवों को तहसील स्तर पर चिन्ह्ति करते हुए एवं निकटतम सुरक्षित स्थान की सूची ज़िलाधिकारी को उपलब्ध करा दी गई। ज़िलाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि इसी प्रकार पशुओ के लिए भी सुरक्षित स्थानों की सूची बनाकर उपलब्ध कराई जाए ताकि यदि बाढ़ की स्थिति बनती है तो पशुओं को भी सुरक्षित स्थानों पर आसानी से विस्थापित किया जा सके। साथ ही पशुओ के लिए भूसे और चारे की व्यवस्था को भी सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए गए। 

7) ज़िलाधिकारी ने कहा कि सभी तहसील, विभाग व समस्त यूनिट ज़िला स्तरीय आपदा राहत योजना की तर्ज पर अपनी अपनी आपदा राहत योजना बनाना सुनिश्चित करे। उन्होंने कहा कि परसो शाम तक समस्त तहसीले, ब्लाक, विभाग व समस्त यूनिट अपनी अपनी *आपदा राहत योजना* बनाकर उपलब्ध कराना सुनिश्चित कराए। 

8) बैठक में ज़िलाधिकारी द्वारा कड़े निर्देश दिए गए कि वर्षा ऋतु/सम्भावित बाढ़ के दृष्टिगत कार्यशील स्थिती में रहे। किसी भी प्रकार की शिथिलता को बर्दाश्त नही किया जाएगा। जिलाधिकारी ने कहा कि यदि बाढ़ की स्थिती बनती है तो  बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में पेयजल व चिकित्सा की व्यवस्था सहित खाद्य वस्तुओं की आपूर्ति को भी सुनिश्चित किया जाए व  गोताखोरों की व्यवस्था को भी सुनिश्चित किया जाए। 

उक्त बैठक में पुलिस अधीक्षक(ग्रामीण), मुख्य चिकित्साधिकारी, अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व, समस्त तहसीलों के तहसीलदार/नायब तहसीलदार, जिला पूर्ति अधिकारी, अधिशासी अभियन्ता,  खण्ड-2, शारदा नहर, सिंचाई विभाग एवं जल संस्थान विभाग, पुलिस विभाग, एन0डी0आर0एफ0, नगर निगम, लखनऊ,  कृषि विभाग, मुख्य पशुचिकित्साधिकारी, पशुपालन विभाग,  एस0डी0आर0एफ0, जिला आपदा विशेषज्ञ व अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे। 

Previous Post Next Post