जेलों में बंद माँ के साथ रहने वाले बच्चों की पढ़ाई-लिखाई बेहतर ढंग से हो धर्मवीर प्रजापति

लखनऊ (मानवी मीडिया) उत्तर प्रदेश के कारागार एवं होमगार्ड राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार)  धर्मवीर प्रजापति ने आज कारागार मुख्यालय से वीडियो कान्फ्रेन्सिंग के माध्यम से प्रदेश के सभी जेल अधीक्षकों से सीधी वार्ता की और सकारात्मकता से कार्य करने के निर्देश दिए। उन्होंने बन्दियों को उनके परिजनों से वार्ता करने हेतु प्रदेश के सभी जेलों में वीडियो कान्फ्रेसिंग की व्यवस्था कराने के निर्देश दिये। इससे परिजनों को दूसरे जनपदों से अनावश्यक आना-जाना नहीं पड़ेगा तथा अनियमितता की शिकायतें भी दूर होगी। उन्होंने बंदियो से उनके परिजनों से होने वाली वार्ता की रिकार्डिंग की भी व्यवस्था कराये जाने के निर्देश दिए।

 धर्मवीर प्रजापति ने अधिकारियों को निर्देश दिये कि जेलों में बंद अपनी माँ के साथ रहने वाले बच्चों की पढ़ाई-लिखाई बेहतर ढंग से हो तथा उन्हें यह महसूस न हो कि वे जेल में रह रहे हैं। उन्होंने कारागार विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि योग दिवस पर सभी जेलों में योग दिवस कार्यक्रम की सभी तैयारियां पूर्ण कर ली जाए। 21 जून को मनाये जाने वाले योग दिवस के अवसर पर किसी जेल में उपस्थित रहते हुए योग कार्यक्रम में प्रतिभाग करूगा। 

 प्रजापति ने कहा कि कैदियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए उन्हें विभिन्न  टेªडों में प्रशिक्षित किया जाए। उन्होंने कहा कि बंदियो द्वारा बनाये गये उत्पादको को प्रदर्शनी लगाकर जनता को बिक्री हेतु उपलब्ध कराने के लिए एमएसएमई विभाग में वार्ता की जा चुकी है। जल्द ही बंदियों के उत्पादक को इस्टाल लगाकर उन्हंे आमजनमानस तक पहुचाया जायेगा। बंदियों के हुनर को बाहर लोगों तक पहुंचाने का कार्य किया जायेगा। इससे बंदियों को रोजगार भी मिलेगा और उनके आय के स्रोत भी तैयार होंगे। 

 धर्मवीर प्रजापति ने जेल अधीक्षकों को निर्देश दिये कि कैदियों के भोजन की व्यवस्था में किसी प्रकार की कमी न हो तथा मानक के अनुसार सभी कैदियों को भोजन मिले, यह सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कारागार विभाग का टोल फ्री नम्बर को जल्द से जल्द शुरू किये जाने के निर्देश दिये।

वीडियो कान्फ्रेसिंग के दौरान पुलिस महानिदेशक/महानिरीक्षक कारागार  आनन्द कुमार, विशेष सचिव गृह  सुरेश कुमार पाण्डेय, आईजी  शैलेन्द्र कुमार मैत्रेय सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Previous Post Next Post